छत्तीसगढ़ में पहली बार नौकरशाह के खिलाफ राजद्रोह का केस दर्ज, एडीजी जीपी सिंह पर सरकार के खिलाफ षडयंत्र का आरोप

Crime देश राज्य

रायपुर @ news-36. सीनियर आईपीईएस व एडीजी जीपी सिंह के खिलाफ गुरुवार देर रात राजद्रोह का केस दर्ज की गई है. एसीबी ईओडब्ल्यू की दबिश में मिल Latter के आधार पर यह मामला दर्ज किया गया है. Latter में जो बातें लिखी गई है उसे पुलिस ने सरकार के खिलाफ षड्यंत्र माना है. इसके बाद एसीबी की लिखित शिकायत पर देर रात सिटी कोतवाली पुलिस ने एफआईआर दर्ज की गई है.

15 ठिकानों पर की थी छापेमारी
एसीबी की टीम ने एक जुलाई को अनुपातहीन संपत्ति की जांच के लिए एडीजी जीपी सिंह के पुलिस लाइन स्थित सरकारी बंगले सहित 15 ठिकानों में छापेमारी की थी. यहां जांच के दौरान एसीबी की टीम को उनकी 10 करोड़ अनुपातहीन संपत्ति का पता चला था. साथ ही बंगले के पीछे गटर से डायरी और कुछ फ टे हुए पन्ने मिले. एक दर्जन पेन ड्राइव भी बरामद किये गए. डायरी के पन्नों और पेन ड्राइव से निकाले गए दस्तावेज से सरकारी विरोधी गतिविधियों के संकेत मिले थे. एसीबी ने इसे पुलिस को सौंप दिया था. इसी को साक्ष्य मानते हुए जीपी सिंह के खिलाफ राजद्रोह का केस दर्ज किया गया.

5 जुलाई को जारी हुआ था निलंबन आदेश
पहले दिन की कार्रवाई में एसीबी को जीपी सिंह के घर से बेशुमार दौलत के दस्तावेज मिले थे. 75 से अधिक बीमा पॉलिसी, बैंकों में जमा 1 करोड़ रुपए की गिनती, कई मकानों, जमीनों में निवेश के कागज भी मिले हैं. एसीबी को जीपी सिंह के घर से बैंकों में बेहिसाब खातों के पासबुक मिले हैं. इतना ही नहीं जीपी सिंह के घर से डेढ़ करोड रुपये के Mutual Funds और शेयर के Invesment के दस्तावेज भी बरामद किए गए हैं. एसीबी के मुताबिक फंड्स और शेयर के दस्तावेज में रकम कई करोड़ रुपए तक पहुंचने की जानकारी है. ओडिशा में संपत्ति, कंस्ट्रक्शन के काम में इस्तेमाल होने वाले आधा दर्जन वाहन, कई Bank Acounts 75 से अधिक Insurancce Policy के सबूत मिले थे. इन सबूतों के आधार पर छत्तीसगढ़ गृह विभाग ने 5 जुलाई को जीपी सिंह को निलंबित कर दिया.

छापामार कार्रवाई
बता दें कि गुरुवार सुबह 6 बजे एसीबी की जांच टीम जीपी सिंह के सरकारी बंगले में दाखिल हुई थी. करीब 75 घंटे की छापेमार कार्रवाई में करोड़ों रुपये बरामद किए गए. एसीबी की टीम ने जीपी सिंह पर धारा 13 (1)बी, 13 (2) भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम यथा संशोधित 2018 के तहत केस पंजीबद्ध किया था. इसके बाद जीपी सिंह के काली कमाई का परत दर परत खुलासा होते गए. एंटी करप्शन ब्यूरो की टीम उन खातों की लिस्टिंग, पैसा कहां से आया किसने दिया, इन पहलुओं की जांच की. अब ये सारे दस्तावेज करोड़ों रुपये के काली कमाई की सबूत दे रहे हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *