Homeकृषिकृषि वैज्ञानिकों की सलाह के अनुसार उन्नत खेती करें किसान-सांसद

कृषि वैज्ञानिकों की सलाह के अनुसार उन्नत खेती करें किसान-सांसद

  • कृषि विज्ञान केंद्र अंजोरा में हुआ पी.एम. किसान सम्मान सम्मेलन
  • किसानों ने नई दिल्ली में आयोजित कृषि स्टार्टअप कार्यक्रम का लाइव प्रसारण देखा
  • प्रधानमंत्री ने पीएम किसान निधि की 12वीं किस्त किसानों के खाते में ट्रांसफर

दुर्ग. दाऊ श्री वासुदेव चंद्राकर कामधेनु विश्वविद्यालय के अंतर्गत संचालित कृषि विज्ञान केंद्र अंजोरा में पी.एम. किसान सम्मान सम्मेलन हुआ। जहां मुख्य अतिथि व दुर्ग लोकसभा सांसद विजय बघेल ने उन्नत खेती करने वाले किसानों को स्मृति चिन्ह और शाल श्रीफल प्रदान कर सम्मानित किया।सम्मेलन में जिले के 150 से अधिक किसान शामिल हुए।

सांसद विजय बघेल ने किसानों को दीपावली की अग्रिम शुभकामनाएं देते हुए कहा कि किसान भाई केंद्र एवं राज्य शासन की शासकीय योजनाओं अधिक से अधिक लाभ उठाएं। उन्होंने आगे कहा कि किसान कृषि विज्ञान केंद्र जरूर आएं और खेती किसानी की नई तकनीक को देंखे और सीखें, वैज्ञानिकों से सलाह लें। वैज्ञानिकों की सलाह के अनुसार ही उन्नत खेती करें। बिना वैज्ञानिकों के सलाह के खाद बीज न खरींदे। शुद्धता की पहचान के बाद ही खेतों में उपयोग करें और अपने गांव के अन्य किसानों के लिए प्रेरणा स्रोत बनें।

यह भी पढ़ें:अमरूद,सीताफल, ड्रेगनफ्रूट के उत्पादन में छत्तीसगढ़ अग्रणी,लाभ के लिए उत्पादकों का संगठन जरूरी

Agri Carnival 2022:किसानों को पसंद आया ड्रोन तकनीक से कीटनाशक का छिड़काव

वहीं सम्मेलन की अध्यक्षता कर रहे कुलपति डॉ.एन.पी.दक्षिणकर ने पशुपालकों को किसान क्रेडिट कार्ड से मिलने वाले लाभ उठाने कहा और  छोटे किसानों को पशुपालन के साथ खेती करने की सलाह दी। ताकि उन्हें ज्यादा लाभ मिल सके। विशिष्ट अतिथि व निदेशक विस्तार डॉ.संजय शाक्य निदेशक और अंजोरा (ख) की सरपंच संगीता साहू ने अपने विचार रखे।

सम्मेलन में 150 से अधिक किसानों ने नई दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान पूसा में आयोजित कृषि स्टार्टअप और विभिन्न इकाइयों की प्रदर्शनी का लाइव प्रसाारण देखा। वहीं प्रधानमंत्री ने पीएम किसान निधि की 12वीं किस्त का हस्तांतरण भी किया। कार्यक्रम का संचालन डॉ. निशा शर्मा एवं आभार कार्यक्रम समन्वयक डॉ.विकास खुणे ने जताया। सम्मेलन में कृषि विज्ञान केंद्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ.एस.के.थापक, डॉ.राजकुमार गड़पायले, सोनिया खलखो एवं विश्वविद्यालय जनसंपर्क अधिकारी डॉ.दिलीप चौधरी मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें:गोबर से माता लक्ष्मी की प्रतिमाएं तैयार,पंचगव्य अनुसंधान केन्द्र में उपलब्ध हैं पूजा के लिए प्रतिमाएं

Surya Grahan 2022: दीपावली के दूसरे दिन सूर्य ग्रहण,जानिए कब तक रहेगा सूतक काल

 

RELATED ARTICLES

Most Popular

error: Content is protected !!