HomeकृषिAgri Carnival 2022:किसानों को पसंद आया ड्रोन तकनीक से कीटनाशक का छिड़काव

Agri Carnival 2022:किसानों को पसंद आया ड्रोन तकनीक से कीटनाशक का छिड़काव

  • इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय में‘‘एग्री कार्निवाल 2022 का दूसरा दिन
  • देशभर से पहुंचे उद्यमियों ने किसानों को नवीनतम तकनीक के बारे में बताया
  • फार्मटेक एशिया अन्तर्राष्ट्रीय कृषि प्रदर्शनी में लगी किसानों की पाठशाला

रायपुर. इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय में चल रहे ‘‘एग्री कार्निवाल 2022 के दूसरे दिन शनिवार को छत्तीसगढ़ विधानसभा के अध्यक्ष डॉ चरण दास महंत ने फार्मटेक एशिया अन्तर्राष्ट्रीय कृषि प्रदर्शनी एवं कृषक सम्मेलन का शुभारंभ किया। इस मौके पर कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे, कुलपति डॉ गिरीश चंदेल भी मौजूद रहे। वहीं

विशेषज्ञों ने फार्मटेक एशिया अन्तर्राष्ट्रीय कृषि प्रदर्शनी एवं कृषक सम्मेलन में किसानों को आधुनिक कृषि, नए उपकरण के बारे में जानकारी दी और ड्रोन तकनीक से घुलनशील खाद, कीटनाशक एवं फफूंदनाशक छिड़काव के तरीके बताया। जिसकी किसानों ने सराहना की।  कृषि प्रदर्शनी एवं कृषक सम्मेलन में किसान पाठशाला का आयोजन किया जा रहा है, जिसमें प्रति दिन लगभग 500 से अधिक किसानों की समस्याओं का समाधान वैज्ञानिकों द्वारा किया जा रहा है। पाठशाला के दौरान कृषकों को कृषि की आधुनिक प्रौद्योगिकी, तकनीकों, कृषि यंत्रों, उन्नत बीजों, खाद, उर्वरक, कृषि से संबंधित अन्य विषयों का एवं विषय विशेषज्ञों द्वारा जानकारी प्रदान की जा रही है।

देशभर के कंपनियों ने लगाई है प्रदर्शनी


बता दें कि लगभग 15 हजार वर्गमीटर क्षेत्र में आयोजित इस प्रदर्शनी में देश भर की 130 से अधिक कृषि उत्पाद एवं कृषि यंत्र निर्मित करने वाली कम्पनियों के स्टॉल लगाए गये हैं। प्रदर्शनी के माध्यम से छत्तीसगढ़ के किसान भाई खेती किसानी की आधुनिकतम तकनीकों एवं उत्पादों से रूबरू हो रहे हैं। प्रदर्शनी में कृषि वैज्ञानिक, कृषि सलाहकार तथा व्यापारी वर्ग भी सक्रिय भागीदारी निभा रहे हैं।

 

प्रदर्शनी के दौरान किसानों एवं आम जनता को कृषि, उद्यानिकी, पशुपालन, मत्स्य पालन, कृषि अभियांत्रिकी तथा अन्य विभागों से संबंधित कृषक कल्याण योजनाओं के बारे में विस्तार से जानकारी भी दी जा रही है। प्रदर्शनी में उद्यानिकी फसलों की उन्नत खेती, पौध उत्पादन एवं संरक्षित खेती, जैविक कृषि, कम लागत में उत्तम खेती की विधि का प्रदर्शन किया गया है। मड़ई में नवीनतम कृषि प्रौद्योगिकी, कृषि उत्पादों का प्रदर्शन एवं विक्रय भी किया जा रहा है, जिनमें विकसित फर्म उपकरण एवं उन्नत कृषि यंत्र, उन्नत सिंचाई प्रणाली (ड्रिप एवं स्प्रिंकलर), उन्नत बीज, उर्वरक एवं कीट नाशक, जैव उर्वरक एवं रसायन, संरक्षित खेती के उपकरण, सौर पम्प तथा अन्य उपयोगी कृषि उत्पादों का प्रदर्शन एवं विक्रय किया जा रहा है।

अमरूद,सीताफल, ड्रेगनफ्रूट के उत्पादन में छत्तीसगढ़ अग्रणी,लाभ के लिए उत्पादकों का संगठन जरूरी

गोबर से माता लक्ष्मी की प्रतिमाएं तैयार,पंचगव्य अनुसंधान केन्द्र में उपलब्ध हैं पूजा के लिए प्रतिमाएं

कृषि विज्ञान केन्द्र एवं उद्यानिकी विभाग द्वारा लगाये प्रदर्शनी जिसमें फसल विविधिकरण का जीवंत प्रदर्शन किया गया है, उसे कृषकों द्वारा सराहा जा रहा है। अन्तर्राष्ट्रीय कृषि मड़ई में कृषक भ्रमण कार्यक्रम का भी आयोजन किया जा रहा है। भ्रमण कार्यक्रम के दौरान कृषकों को प्रतिदिन इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के अनुसंधान प्रक्षेत्रों, सुनियोजित कृषि विकास केन्द्र एवं प्रयोगशालाओं का भ्रमण करवाया जा रहा है, इस दौरान कृषकों द्वारा सुनियोजित कृषि विकास केन्द्र प्रक्षेत्र में लगे अमरूद की अतिसघन बागवानी व इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय द्वारा विकसित छत्तीसगढ़ रसभरी-1 की प्रथम किस्म का जीवंत प्रदर्शन का अवलोकन कर लाभन्वित हो रहे हैं।

नेशनल हाइवे में कहां पर लग रहा है जाम,यातायात विभाग गूगल मैप से करेंगे मानिटरिंग

Surya Grahan 2022: दीपावली के दूसरे दिन सूर्य ग्रहण,जानिए कब तक रहेगा सूतक काल

RELATED ARTICLES

Most Popular

error: Content is protected !!