HomeAdministrationबिलासपुर से भोपाल के बीच विमान सेवा शुरू, मुख्यमंत्री ने हरी झंडी...

बिलासपुर से भोपाल के बीच विमान सेवा शुरू, मुख्यमंत्री ने हरी झंडी दिखाकर किया रवाना

बिलासपुर. छत्तीसगढ़ से भाेपाल के बीच अब विमान सेवा शुरू हो गई है।  मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने रविवार को कांकेर से वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के जरिए हरी झंडी दिखाकर विमान सेवा का शुभारंभ किया। बिलासा देवी केंवट एयरपोर्ट चकरभाठा से बिलासपुर-भोपाल-बिलासपुर के बीच विमान अब नियमित उड़ान भरेंगी। मध्य छत्तीसगढ़ के साथ-साथ उत्तर और दक्षिण छत्तीसगढ़ भी देश के हवाई नेटवर्क के साथ मजबूती से जुड़ गया है। बिलासपुर-भोपाल की पहली फ्लाइट में 50 यात्री रवाना हुए। पायलट भास्कर पंत और को-पायलट ऋचा परिहार रहीं।

मुख्यमंत्री बघेल ने बिलासपुर-भोपाल-बिलासपुर विमान सेवा के शुरू होने पर बिलासपुर सहित प्रदेशवासियों को बधाई और शुभकामनाएं देते हुए कहा कि इस नई सेवा का लाभ पूरे छत्तीसगढ़ को मिलेगा। खासकर उत्तर छत्तीसगढ़ में हवाई सेवा मजबूत होगी। बघेल ने कहा कि साढ़े तीन साल पहले तक हवाई सेवा के नाम पर सिर्फ रायपुर को ही जाना जाता था, लेकिन आज बिलासपुर और जगदलपुर से भी नियमित हवाई सेवा का संचालन हो रहा है।

बिलासपुर एयरपोर्ट से 1 मार्च 2021 से दिल्ली-जबलपुर-बिलासपुर-प्रयागराज सेक्टर में नियमित घरेलू विमान सेवा की शुरूआत की गई है। आज बिलासपुर-भोपाल-बिलासपुर विमान सेवा शुरू हो रही है। बिलासपुर एयरपोर्ट में नाइट लैडिंग की सुुविधा प्रारंभ करने के लिए लाइटिंग और रनवे को विकसित किया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि मां दंतेश्वरी एयरपोर्ट जगदलपुर से सितम्बर 2021 से जगदलपुर-हैदराबाद-बेंगलूरू सेक्टर में नियमित घरेलू विमान सेवा का संचालन हो रहा है।

chhattisgarh
एयरपोर्ट के शुभारंभ अवसर पर अतिथि गण

अम्बिकापुर में 43 करोड़ रूपए की लागत से एयरपोर्ट

मुख्यमंत्री ने कहा कि बिलासपुर और जगदलपुर एयरपोर्ट में नाइट लैडिंग की सुविधा के साथ सभी मौसम में विमान सेवा के संचालन के लिए सभी जरूरी इंतजाम किए जा रहे हैं। कोरबा में व्यावसायिक एयरपोर्ट के साथ कोरिया में नई हवाई पट्टी के विकास की योजना पर तेजी से काम किया जा रहा है। इसी तरह अम्बिकापुर में 43 करोड़ रूपए की लागत से एयरपोर्ट रनवे का विकास किया जा रहा है। इसके साथ ही साथ जगदलपुर, बिलासपुर और अम्बिकापुर एयरपोर्ट में आटोमेटेड एटीसी उपकरण स्थापित किए गए हैं। ताकि इन एयरपोर्टों में किसी भी समय विमानों और हेलीकॉप्टर की लैंडिंग हो सके।

पीबीएन प्रणाली की स्थापना

पैरामिलिटरी फोर्स के लिए दिल्ली-रायपुर-जगदलपुर-रायपुर-दिल्ली सेक्टर में बुधवार, शनिवार और रविवार को हवाई सेवा शुरू हुई है। बिलासपुर सहित जगदलपुर एयरपोर्ट में बारिश और ठंड के दिनों में भी निर्बाध विमान सेवा चालू रखने के लिए पीबीएन प्रणाली की स्थापना की जा रही है। इसी तरह अम्बिकापुर के महामाया एयरपोर्ट से नियमित घरेलू विमान सेवा शुरू करने के लिए एयरपोर्ट रनवे का विकास किया जा रहा है। इसके लिए 43 करोड़ रूपए की स्वीकृति दी गई है। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरबा जिले में व्यवसायिक एयरपोर्ट के विकास तथा कोरिया जिले में नई हवाई पट्टी के विकास की योजना पर कार्य किया जा रहा है। साथ ही जगदलपुर, बिलासपुर और अम्बिकापुर एयरपोर्ट में नियमित एटीसी सुविधा के विकास के लिए 08 करोड़ रूपए की लागत से ऑटोमेटेड एटीसी उपकरण स्थापित किए गए हैं। इससे अब इन एयरपोर्ट में किसी भी समय हेलिकॉप्टर अथवा विमान के उड़ान और लैंिडंग के लिए आवश्यक जानकारी प्राप्त हो सकेगी।

एयरपोर्ट से लगी जमीन सेना की 

राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने कहा कि इस फ्लाइट के शुरू होने से बिलासपुर सहित सम्पूर्ण उत्तर छत्तीसगढ़ के लोगों को लाभ मिलेगा। उन्होंने बिलासपुर में विमान सेवाओं के विस्तार के लिए मुख्यमंन्त्री के प्रति आभार व्यक्त किया। उन्होंने एयरपोर्ट परिसर में वाहन पार्किंग एवं वाहन चालकों के लिए शेड बनवाने के निर्देश दिए।मंत्री ने कहा कि एयरपोर्ट से लगी हुई जमीन सेना की है। इससे वापस लेने की प्रक्रिया राज्य शासन द्वारा शुरू की गई है। जमीन मिल जाने पर रनवे का विस्तार होगा। इससे ज्यादा संख्या में विमान सेवा शुरू होने के साथ नाईट लैंडिंग की सुविधा मिलेगी।

समारोह को नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक, संसदीय सचिव रश्मि सिंह, विधायक शैलेश पांडेय, महापौर बिलासपुर रामशरण यादव ने भी संबोधित किया। कलेक्टर सारांश मित्तर ने स्वागत भाषण दिया। बिल्हा एसडीएम अमित गुप्ता ने आभार व्यक्त किया। कार्यक्रम में छत्तीसगढ़ पर्यटन मंडल अध्यक्ष अटल श्रीवास्तव, जिला पंचायत बिलासपुर अध्यक्ष अरुण चौहान, एसपी बिलासपुर पारूल माथुर और एयरपोर्ट डायरेक्टर एन.वीरेन सिंह उपस्थित थे।

 

RELATED ARTICLES

Most Popular

error: Content is protected !!