रायपुर. मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने छत्तीसगढ़ विधानसभा के उपाध्यक्ष मनोज सिंह मंडावी के आकस्मिक निधन पर गहरा दुख प्रकट किया है। मुख्यमंत्री ने अपने शोक संदेश में कहा है कि श्री मंडावी वरिष्ठ आदिवासी नेता थे। उन्होंने नवगठित छत्तीसगढ़ के गृह राज्यमंत्री और विधानसभा के उपाध्यक्ष सहित अनेक महत्वपूर्ण पदों को सुशोभित किया और प्रदेश की सेवा की।

भानुप्रतापपुर से थे विधायक

वे वर्ष 1998 में अविभाजित मध्यप्रदेश विधानसभा के तथा वर्ष 2013 और 2018 में भानुप्रताप विधानसभा क्षेत्र से सदस्य निर्वाचित हुए। श्री मंडावी छत्तीसगढ़ आदिवासी विकास परिषद के अध्यक्ष भी रहे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि मनोज सिंह मंडावी आदिवासी समाज के बड़े नेता थे। वे आदिवासियों की समस्याओं को विधानसभा में प्रभावशाली ढंग से रखते थे। श्री मंडावी आदिवासी समाज की उन्नति और अपने क्षेत्र के विकास के लिए सदैव प्रयासरत रहे।

प्रदेश के विकास में उनके योगदान को सदैव याद रखा जाएगा। उनका निधन हम सबके लिए अपूरणीय क्षति है। मुख्यमंत्री ने मंडावी के शोक संतप्त परिवारजनों के प्रति संवेदना प्रकट करते हुए दिवंगत आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना की है।

यह भी पढ़ें: उद्योग और नए स्टार्टअप के लिए युवा पीढ़ी को सरकार हर संभव मदद के लिए तैयार-मंत्री लखमा

Agri Carnival 2022:किसानों को पसंद आया ड्रोन तकनीक से कीटनाशक का छिड़काव

धमतरी के अस्पताल में ली अंतिम सांस

बता दें श्री मंडावी के गृहग्राम नथिया नवागांव तेलगरा, चारामा (जिला कांकेर) स्थित उनके निज निवास में आज उन्हें तड़के हृदयाघात हुआ, जिसके तत्काल बाद धमतरी के मसीही अस्पताल में लाया गया। यहां पर स्वास्थ्य परीक्षण के बाद वरिष्ठ चिकिसकों की टीम ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। आज सुबह 8ः45 बजे उनकी पार्थिव देह को अंतिम संस्कार के लिए गृहग्राम ले जाया गया। बताया जा रहा है कि सीने में दर्द होने पर उन्हें उपचार के लिए धमतरी के अस्पताल लाया गया,जहां चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित किया गया।

राज्यपाल ने अपनी गहरी संवेदना व्यक्त की

राज्यपाल अनुसुईया उइके ने छत्तीसगढ़ विधानसभा उपाध्यक्ष मनोज सिंह मंडावी के आकस्मिक निधन पर अपनी गहरी संवेदना व्यक्त की है। राज्यपाल ने अपने शोक संदेश में कहा कि श्री मंडावी ने अनेक महत्वपूर्ण पदों पर रहते हुए प्रदेश व अपने क्षेत्र के विकास में बड़ी भूमिका निभाई। उनका निधन छत्तीसगढ़ के लिए अपूरणीय क्षति है। राज्यपाल ने शोक संतप्त परिजनों को इस दुःख को सहन करने की शक्ति प्रदान करने और दिवंगत आत्मा के शांति की प्रार्थना की है।

मंत्री चौबे ने गहरा दुख प्रकट किया

संसदीय कार्य मंत्री रविंद्र चौबे ने छत्तीसगढ़ विधानसभा के उपाध्यक्ष मंडावी के आकस्मिक निधन पर गहरा दुख प्रकट किया है। उन्होंने कहा है कि मनोज सिंह मंडावी ने नवगठित छत्तीसगढ़ के गृह राज्यमंत्री और विधानसभा के उपाध्यक्ष सहित अनेक महत्वपूर्ण पदों को सुशोभित किया। श्री मनोज सिंह मंडावी आदिवासी समाज के बड़े जुझारू नेता थे। वे आदिवासियों की समस्याओं को विधानसभा में प्रभावशाली ढंग से रखते थे। श्री मंडावी आदिवासी समाज की उन्नति और अपने क्षेत्र के विकास के लिए सदैव प्रयासरत रहे।

प्रदेश के विकास में उनके योगदान को सदैव याद रखा जाएगा। उनका निधन हम सबके लिए अपूरणीय क्षति है। संसदीय कार्य मंत्री चौबे ने मनोज सिंह मंडावी के शोक संतप्त परिवारजनों के प्रति संवेदना प्रकट करते हुए दिवंगत आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना की है।

अंतिम संस्कार में शामिल होंगे विधायक यादव

भिलाई नगर विधायक देवेन्द्र यादव ने छत्तीसगढ़ विधानसभा के उपाध्यक्ष मंडावी के आकस्मिक निधन पर गहरा दुख प्रकट किया है। उन्होंने कहा है कि मनोज सिंह मंडावी ने नवगठित छत्तीसगढ़ के गृह राज्यमंत्री और विधानसभा के उपाध्यक्ष सहित अनेक महत्वपूर्ण पदों पर प्रदेशवासियों के हित में योगदान दिया है।श्री मंडावी आदिवासी समाज की उन्नति और अपने क्षेत्र के विकास के लिए सदैव प्रयासरत रहे।प्रदेश के विकास में उनके योगदान को सदैव याद रखा जाएगा। बता दें  श्री मंडावी के निधन की सूचना मिलने पर विधायक यादव अंतिम संस्कार कार्यक्रम में शामिल होने के लिए भानुप्रतापपुर के लिए रवाना हो गए हैं।

कलेक्टर ने शाेक संवेदना प्रकट की 

उनके निधन पर कलेक्टर पी एस एल्मा ने संवेदना प्रकट करते हुए इसे अपूरणीय क्षति बताया। कलेक्टर ने बताया कि स्वर्गीय श्री मंडावी का धमतरी जिले से विशेष लगाव था। नगरी के ग्राम कोटाभर्री में स्थित कोटेश्वर महादेव मंदिर को आस्था केन्द्र के तौर पर विकसित करने में उनका विशेष योगदान रहा।

यह भी पढ़ें:Surya Grahan 2022: दीपावली के दूसरे दिन सूर्य ग्रहण,जानिए कब तक रहेगा सूतक काल

उनका अंतिम संस्कार राजकीय सम्मान के साथ शाम 4 बजे उनके गृह ग्राम नाथियानवागांव, विकास खंड ‌कांकेर में किया जाएगा।