HomeAdministrationडीएमएफ शासी परिषद की बैठक में बड़ा निर्णय,विकासखंडों में लगाई जाएंगी मिल्क...

डीएमएफ शासी परिषद की बैठक में बड़ा निर्णय,विकासखंडों में लगाई जाएंगी मिल्क चिलिंग एवं पैकेजिंग प्लांट

  • डीएमएफ के 65 करोड़ रुपये के प्रस्ताव में 32 करोड़ शिक्षा के लिए
  • बैठक में स्वामी आत्मानंद स्कूलों के सुदृढ़ीकरण का निर्णय
  •  मिल्क चिलिंग एवं पैकेजिंग प्लांट के लिए डेढ़ करोड़ रुपए स्वीकृ

दुर्ग. कलेक्टर पुष्पेंद्र कुमार मीणा की अध्यक्षता में डीएमएस शासी परिषद की गुरुवार को कलेक्ट्रेट के सभागार में बैठक हुई। जहां शिक्षा, स्वास्थ्य, कृषि से संबंधित महत्वपूर्ण प्रस्तावों को स्वीकृति दी गई है। बैठक में करीब 65 करोड़ रुपये के प्रस्ताव रखे गए। इनमें से 32 करोड़ रुपये के प्रस्ताव शिक्षा विभाग से संबंधित रहे। स्कूलों के सुदृढ़ीकरण के साथ ही नवाचारों के लिए भी ऐसा प्रावधान किया किया गया है।

इसके साथ ही स्वामी आत्मानंद स्कूलों के अपग्रेडेशन के लिए भी राशि दी गई है ताकि यहां बेहतरीन लाइब्रेरी, प्रयोगशाला आदि स्थापित की जा सके। शासन द्वारा इंग्लिश मीडियम में महाविद्यालय बनाने का भी निर्णय लिया गया है इसके लिए भी दो करोड़ रुपए की राशि डीएमएफ के माध्यम से प्रदाय की गई। बैठक में विशेष रूप से इस बात पर चर्चा हुई कि ग्रामीण क्षेत्रों में जिस तरह से विपुल मात्रा में दूध का उत्पादन हो रहा है। उससे इन क्षेत्रों में मिल्क चिलिंग एवं पैकेजिंग प्लांट की जरूरत महसूस की जा रही है।

इसके चलते बैठक में डेढ़ करोड़ रुपए का प्रस्ताव विकास खंडों के लिए मिल्क चिलिंग एंड पैकेजिंग प्लांट का प्रस्ताव रखा गया। इसके अलावा बैठक में गौठान को मजबूत करने की दिशा में भी निर्णय लिए गए। इसके लिए अतिरिक्त शेड निर्माण के साथ ही अन्य गतिविधियों के संचालन के लिए भी प्रस्ताव रखे गए।

इसके साथ ही लेयर बर्ड के उत्पादन के लिए भी स्वीकृति दी गई। बाड़ियों में ड्रिप इरिगेशन की स्वीकृति भी दी गई। ग्रामीण आजीविका केंद्र अर्थात रीपा को मजबूत करने के लिए भी निर्णय लिए गए और इसके लिए भी राशि दी गई। बैठक में स्वास्थ्य विभाग से संबंधित जीर्णाेद्धार के लिए भी राशि खर्च करने का निर्णय लिया गया।

साथ ही जिन आंगनबाड़ियों में मरम्मत और संधारण की जरूरत है और अतिरिक्त सुविधाओं की जरूरत है वहां के लिए भी राशि स्वीकृत की गई। बैठक में सांसद विजय बघेल भी मौजूद रहे। उन्होंने कहा कि शिक्षा, स्वास्थ्य, कृषि जैसे क्षेत्रों में डीएमएफ के माध्यम से विकास के बड़े कार्य की गुंजाइश होती है।

बैठक में दुर्ग विधायक अरुण वोरा ने दुर्ग शहर से संबंधित मांगे रखी जिन पर निर्णय लिया गया। इसके साथ ही भिलाई की प्रमुख मांगों को भी स्वीकृत किया गया। इस दौरान विधायक देवेंद्र यादव भी मौजूद थे । जिला पंचायत अध्यक्ष शालिनी यादव एवं गणमान्य सदस्य भी उपस्थित थे। बैठक में एसपी डॉ अभिषेक पल्लव एवं जिला पंचायत सीईओ अश्विनी देवांगन मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें: कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद के चुनाव में पारदर्शिता को लेकर उठाए सवाल

http://दूध की कीमत में 4 रुपए की बढ़ोतरी

 

 

RELATED ARTICLES

Most Popular

error: Content is protected !!