Homeराज्यभूपेश सरकार का बड़ा निर्णय:राज्य अलंकरण समारोह में इस बार दिए जायेंगे...

भूपेश सरकार का बड़ा निर्णय:राज्य अलंकरण समारोह में इस बार दिए जायेंगे तीन नए पुरस्कार

राज्योत्सव के अवसर पर दिए जाएंगे ये तीनों पुरस्कार
लक्ष्मण मस्तुरिया, खुमान साव और माता कौशल्या को समर्पित होंगे ये पुरस्कार
साइंस कॉलेज ग्राउंड में होगा तीन दिवसीय राज्योत्सव

रायपुर. मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने छत्तीसगढ़ में लोक कला साधकों के सम्मान को लेकर बड़ा निर्णय लिया है। छत्तीसगढ़ में राज्य स्थापना पर दिए जाने वाले राज्य अलंकरण श्रेणी में तीन नए पुरस्कार जोड़े गए हैं। यह पुरस्कार लोक कलाकार स्व. लक्ष्मण मस्तुरिया और स्व. खुमान साव तथा भगवान राम की माता कौशल्या को समर्पित होंगे।

 

इस संबंध में मुख्यमंत्री बघेल ने कहा है कि छत्तीसगढ़ अपनी प्राचीन और समृद्ध सांस्कृतिक विरासत एवं जीवंत संस्कृति के लिए प्रसिद्ध है। यहां के लयबद्ध संगीत, लोकगीत एवं लोक नाट्य अद्भुत आनंद की अनुभूति कराते हैं। लोक संस्कृति के जिन साधकों ने इसे जीवंत बनाए रखने में अपना जीवन समर्पित किया है, उन्हें सम्मानित करना राज्य सरकार का परम कर्तव्य है।

Rajyotsava-2022:तीन दिनों तक चलेगा राज्योत्सव,तैयारी में जुटा प्रशासन

राज्य अलंकरण चन्दूलाल चन्द्राकर और मधुकर खेर स्मृति पत्रकारिता पुरस्कार के लिए आवेदन आमंत्रित

ऐसे में प्रदेश की लोकगीत व लोक संगीत की महान विरासत के संरक्षण एवं संवर्धन और इस क्षेत्र में काम कर रहे नए कलाकारों को प्रेरित करने के लिए राज्य सरकार द्वारा राज्य अलंकरण के रूप में अन्य पुरस्कारों के साथ तीन नए पुरस्कार भी दिए जाएंगे।

 

  •  लोकगीत के क्षेत्र में “लक्ष्मण मस्तुरिया पुरस्कार” दिया जाएगा।
  • लोक संगीत के क्षेत्र में योगदान देने वाले कला साधकों को “खुमान साव पुरस्कार” से सम्मानित किया जाएगा।
  • माता कौशल्या के मायके और भगवान राम के ननिहाल छत्तीसगढ़ में श्रेष्ठ रामायण (मानस) मंडली को “माता कौशल्या सम्मान” से अलंकृत किया जाएगा।

राज्य अलंकरण की तरह ही इन श्रेणियों के पुरस्कार भी राज्य स्थापना दिवस 1 नवंबर को साइंस कॉलेज ग्राउंड में वाले राज्योत्सव कार्यक्रम के दौरान प्रदान किए जाएंगे। मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि, राज्य की संस्कृति के ध्वज वाहकों के प्रति कृतज्ञता व्यक्त करने और उनके नाम पर पुरस्कार संस्थित किए जाने से उन महान कलाकारों के योगदान की जानकारी भी भावी पीढ़ी को होगी। इसके अलावा लोकगीत व लोक संगीत के प्रति रुचि भी बढ़ेगी।

यह भी पढ़ें: विजयादशमी पर्व पर मुख्यमंत्री ने परिवारजनाें के साथ की कुल देवता की पूजा अर्चना

इस अनूठे बैंक में है 21 करोड़ “श्रीराम” नाम की संपत्ति

महानवमी पर राजभवन में हुई हवन पूजा,राज्यपाल ने विजयादशमी पर्व की दी शुभकामनाएं

RELATED ARTICLES

Most Popular

error: Content is protected !!