HomeनिकायBig News:आवासीय जमीन का व्यावसायिक उपयोग, राजस्व विभाग के अध्यक्ष ने मांगा...

Big News:आवासीय जमीन का व्यावसायिक उपयोग, राजस्व विभाग के अध्यक्ष ने मांगा जांच रिपोर्ट

  • एमआईसी राजस्व प्रभारी सीजू एंथोनी ने राजस्व वसूली की समीक्षा
  • 30 दिन के अंदर मांगा सर्वे रिपोर्ट
  • आवंटित जमीन का गलत उपयोग पर कार्रवाई के दिए निर्देश

भिलाई. नगर पालिक निगम के महापौर परिषद (MIC)के राजस्व विभाग प्रभारी सीजू एंथोनी ने बुधवार को राजस्व वसूली की समीक्षा की। राजस्व अधिकारी को राजस्व वसूली पर फोकस करने के निर्देश दिए। वहीं उपायुक्त रमाकांत साहू को आवासीय प्रयोजन के लिए आवंटित जमीन का व्यावयायिक उपयोग हो रहे भवनों की जांच कराने के निर्देश दिए और 30 दिन के अंदर जांच रिपोर्ट प्रस्तुत करने कहा।

राजस्व प्रभारी सीजू एंथोनी का कहना था कि साडा कार्यकाल में शहर में आवासीय, व्यावसायिक और आवासीय सह व्यावसायिक योजना के तहत जमीन आवंटित किया गया है, लेकिन लगातार यह शिकायत मिल रही है कि आवासीय कालोनी के भवनों का व्यावसायिक उपयोग किया जा रहा है। इससे आसपास के रहवासियों को कई तरह की परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। कुछ लोगों ने आवासीय कॉलोनी में गोडाउन, होटल और शो रूम खोल लिए हैं। वहां देर रात तक काम चलता है। इससे कालोनी की शांति और सुरक्षा व्यवस्था प्रभावित हो रही है।

इसलिए भूखंड एवं भवनों को निगम ने जिस प्रयोजन के लिए आबंटित किया है। उसका किस प्रकार हो रहा है। इसकी जांच कराने का निर्णय लिया है। ताकि रिपोर्ट के अनुसार कार्रवाई किया जा सके। बैठक में राजस्व अधिकारी धीरज साहू, परमेश्वर चंद्राकर, जेपी तिवारी, मलखान सिंह सोरी, बालकृष्ण नायडू, बी.एल. असाटी, दशरथ ध्रुव, पति राम बरेट, सुनील नेमाड़े, अशोक कुमार कश्यप एवं शिवकुमार शर्मा मौजूद रहे।

दिशा की बैठक में जनप्रतिनिधियों ने कहा अधिकारी उदासीन, इसलिए लोगों को नहीं मिलता सुविधाओं का लाभ

शिक्षक दिवस पर मुख्यमंत्री के तीन बड़े निर्णय:स्कूलों में छत्तीसगढ़ी बोली, संस्कृत और कम्प्यूटर शिक्षा अनिवार्य

छत्तीसगढ़ के खेलों को बढ़ावा देने कैबिनेट का बड़ा फैसला

बता दें कि निगम क्षेत्र में नेहरू नगर पूर्व-पश्चिम, प्रियदर्शनी परिसर पूर्व-पश्चिम, राधिका नगर,सुंदर नगर, वैशाली नगर, शांति नगर ऐसे कई कॉलोनी है, जहां आवासीय और आवासीय सह व्यावसायिक प्रयोजन की अलग अलग जमीन है, लेकिन वर्तमान में यहां आवासीय जमीन का व्यावसायिक उपयोग हो रहा है। कुछ लोगों ने खाली जमीन को किराए पर दे दिए हैं। उसमें टिन लगाकर होटल ढाबा का व्यावसाय कर रहे हैं। कुछ लोगों ने आवासीय जमीन पर बड़े-बड़े व्यवसायिक भवन खड़े कर लिए हैं। उसमें होटल, शोरूम, कोचिंग इंस्टीट्यूट संचालित है। कई लोगों ने भवन को गोडाउन के लिए किराए पर दे दिए हैं। इससे निगम प्रशासन को राजस्व का नुकसान हो रहा है, तो वहीं कॉलोनी में बड़ी बड़ी बिल्डिंग बनने की वजह से आसपास रहने वाले लोगों को कई तरह की परेशानी हो रही है।

जांच के प्रमुख बिन्दु

  • आबंटित किए गए भूखंडों पर निर्मित भवनों का आबंटित की उपयोगिता के आधार पर उपयोग हो रहा है या नहीं
  • वर्तमान में भूखंड या भवन का किस प्रयोजन के लिए उपयोग किया जा रहा है

यह भी पढ़ें:स्वयं भू श्रीगणेश की सच्चे मन से करो आराधना, पूरी कर देंगे सबकी मनोकामना

मंत्रिपरिषद की बैठक में कई महत्वपूर्ण निर्णय,बिना ब्याज के छोटे किसानों को मिलेगा 3 लाख तक लोन

पावर हाउस की पार्किंग व्यवस्था को बेहतर बनाने के लिए चेंबर के पदाधिकारियों ने दिया ये सुझाव

अपनी निजी जानकारी सोशल मीडिया पर न करें शेयर- एसपी डॉ अभिषेक पल्लव

RELATED ARTICLES

Most Popular

error: Content is protected !!