HomeEntertainmentCrimeग्राहक सेवा केन्द्र में बड़ी धांधली,पासबुक में एंट्री दिखाकर पार कर दिए...

ग्राहक सेवा केन्द्र में बड़ी धांधली,पासबुक में एंट्री दिखाकर पार कर दिए ग्राहकाें की जमा पूंजी

बेमेतरा. छत्‍तीसगढ़ के बेमेतरा जिले के नगर पंचायत देवकर स्थित एसबीआई के ग्राहक सेवा केन्द्र(SBI Custmer service center) में बड़ा फर्जीवाड़ा सामने आया है। पासबुक में एंट्री दिखाकर ग्राहक सेवा केन्द्र के संचालकों ने खाताधारकों की जमा राशि में घपला किया है। मामला सामने आने के बाद खाताधारकों ने बुधवार को सेवा केन्द्र में हंगामा किया और साजा एसडीएम डीआर मरकाम से शिकायत कर मामले की जांच कराने एवं दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है। इसके अलावा खाताधारकों ने कलेक्टर और देवकर पुलिस चौकी प्रभारी से एसबीआई के ग्राहक केन्द्र के संचालकों के नाम लिखित में शिकायत करने का निर्णय लिया है।

किसान बिसाहू राम ने बताया कि उसके खाते में 31 हजार रुपए जमा था। आज जब एसबीआई के ग्राहक सेवा केन्द्र गया तब पता चला कि उसके खाते में उतनी राशि जमा ही नहीं है। जब यहां की जानकरी पर विश्वास नहीं हुआ तब तस्दीक करने के लिए वह नवकेशा रोड श्रीराम च्वाइस सेंटर गया। जहां चेक कराया तो पता चला कि, उनके खाते में सिर्फ 2300 रुपए जमा है। बाकी 28 हजार विड्राल कर लिया गया है। बिसाहू का यह भी कहना है कि उसने इतनी रकम निकाली ही नहीं है। उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री सम्मान निधि की राशि भी खाता में जमा होने का मैसेज आया है। इस हिसाब से उनके खाते में 33 हजार रुपए होना चाहिए था, लेकिन आज की स्थिति में उनके खाते में 2300 रुपए शो हो रहा है। कुछ इसी तरह की गड़बड़ी की शिकायत खाताधारकों ने एसडीएम से की है।

यह भी पढ़ें: सफलता के लिए रणनीति बताएंगे यूपीएससी टॉपर्स

कोल आवंटन के मामले में भाजपा को अपना विरोध केंद्र सरकार से जताना चाहिए-मुख्यमंत्री

इस तरह की सामने आई है गड़बड़ियां

  • लोगों का कहना है कि राशि जमा करने के दौरान ग्राहक सेवा केन्द्र के संचालक या उनके कर्मचारी जमा पर्ची में सील लगाकर दे देता था और पासबुक में पेन से लिख देता था। इस तरह का खेल काफी लंबे समय से यहां चल रहा है। अब जब लोगों को बड़ी राशि खाते से गायब होने लगी तब लोगों को गड़बड़ी की आशंका हुई, और लोग खुलकर सामने आए हैं।
  • फर्जीवाड़ा सामने आने के बाद ग्राहक सेवा केन्द्र पहुंचे कुछ लोगों को अब इस बात की आशंका हो रही है कि जब वे लेन देन करने जाते थे। तब वह बायो मेट्रिक मशीन से थंब को स्कैन करता था। जितनी विड्राल स्लीप में लिखा रहता है, उतनी राशि तो उन्हें वह दे देता था। संभवत: वह इसी दौरान ही उसने राशि को अपने या किसी अन्य के एकांउट में ट्रांसफर या राशि विड्राल किया होगा।

यह भी पढ़ें :शनाया कपूर को स्लिट गाउन में देख मेहमान भी रह गए हक्के बक्के

 टीवी एक्ट्रेस हिना खान का लाइटवेट साड़ी में लग रही है हाट

एक बच्चे की मां बन चुकी यह हसीना रेड कलर के गाउन में लग रही है बेहद सेक्सी

  • हंगामा के दौरान यह जानकारी भी सामने आई है कि जमा राशि पर उन्हें कोई ब्याज ही नहीं मिला है। लोगों का कहना है कि उनके खाते में 5000 हजार रुपए से लेकर 50 हजार रुपए तक जमा रहा, लेकिन उन्हें जमा राशि पर कोई ब्याज नहीं मिला। इससे लोगों को इस बात की आशंका सता रही है कि ग्राहक सेवा केन्द्र के संचालक ने संबंधित बैंक के लेजर में उनकी राशि को जमा ही नहीं किया होगा। इसलिए ब्याज नहीं मिल रहा है7
  • कुछ लोग यह भी शिकायत कर रहे थे कि जब पैसे निकालने जाता था तो संचालक या केन्द्र के सर्वर डाउन होने या  फिर किसी अन्य तकनीकी कारण बताकर टालमटोल करता था।
  • प्रधानमंत्री आवास योजना के हितग्राही के खाते से सब्सिडी की राशि को निकाल लेने की जानकारी भी सामने आई है। राकेश मेहर ने इस तरह की शिकायत है। अन्य लोगों की भी कुछ इसी तरह की शिकायतें है। लोगों की शिकायतों की जांच पड़ताल के बाद ही लोगों के साथ की गई धोखाधड़ी की वास्तविक स्थिति सामने आएगी।

8 हजार से अधिक हैं खाताधारक

बताया जा रहा है  एसबीआई के ग्राहक सेवा केन्द्र देवकर में 2014 से संचालित है। इसका संचालक ओम प्रकाश ताम्रकार है। यह सेंटर साजा स्थित एसबीआई से संबद्ध है। एसबीआई साजा ब्रांच से ओम प्रकाश ताम्रकार एवं परिवार के सदस्यों के नामतीन अलग-अलग आईडी जारी की गई है। इन्ही आइडियों से एसबीआई के 8 हजार से ज्यादा खाता खोला गया है। लोगों की मानें तो यहां ज्यादातर जनधन योजना के हितग्राहियों के खाते हैं। इसके अलावा किसान, नौकरीपेशा, व्यापारी और छात्र-छात्राओं के भी खाते हैं। जो देवकर के अलावा आसपास के गांव डेहरी, बचेड़ी, नवकेशा, सहसपुर, लुक बुंदेली, जामगांव, खुरुसबोड़, अकलवारा, हरडुवा, कांचरी, बुड़ेरा,राखी, जोबा, खपरी, भोजेपारा, बासीन के रहने वाले हैं।

यह भी पढ़ें : ग्राहक सेवा केन्द्र में फर्जीवाड़ा: फिक्स डिपाजिट के पैसे डकार गए संचालक

बच्चों को ऐसा माहौल दें कि उनमें सीखने की ललक हो: मुख्यमंत्री बघेल

बस्तर की संस्कृति को सहेजने के लिए सरकार ने बनाई है एक संस्था “बादल”, क्या आप जानते हैं इसका पूरा नाम

RELATED ARTICLES

Most Popular

error: Content is protected !!