HomeEntertainmentCrimeBreaking News: सरपंच के पति की हत्या, शव आमनेर नदी से बरामद

Breaking News: सरपंच के पति की हत्या, शव आमनेर नदी से बरामद

दुर्ग.दुर्ग जिले के धमधा विकासखंड से सरपंच के पति की हत्या की सनसनीखेज खबर आई है। ग्रामीणों को आशंका है कि सरपंच के पति की हत्या कर बाडी को नदी में फेंक दिया था। पुलिस ने गोताखोरों की मदद से सरपंच के पति का शव को बरामद कर लिया है और पोस्टमार्टम के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र धमधा भेजा गया है।

 

घटना धमधा थाना अंतर्गत ग्राम शिवकोकड़ी (देउरकोना)का है। मृतक कौशल निषाद (55) शिवकोकड़ी सरपंच के पति है। घटना को लेकर उनके परिजनों का रो रोकर बुरा हाल हो गया है। वहीं गांव वाले भी आक्रोशित है। पुलिस ने जांच शुरू कर दिया है। बता दें कि मृतक कौशल निषाद ग्राम डोड़की और शिवकोकड़ी प्रतिनिधित्व करता था।

स्वाइन फ्लू का खतरा: लक्षण कोरोना की तरह नजर आए तो तत्काल कराएं जांच-संचालक डॉ. मिश्रा

घटना सुबह 11 बजे का बताया जा रहा है।  कौशल नहाने के लिए नदी के तरफ गया था, लेकिन जब काफी देर बाद वह घर नहीं लौटा तब परिवार वालों को चिंता हुई। घर वालों ने जाकर देखा तो पाया कि उसका कपड़ा और चप्पल नदी के किनारे पर रखा हुआ है, लेकिन वह नहीं है। इसके बाद परिवार को आशंका हुई। गांव में खबर दी गई। इसके बाद खोजबीन शुरू की गई। कुछ लोग नदी में खोज करने के लिए उतरे। तब तक पुलिस भी मौके पर पहुंच गई।

देश में सबसे कम बेरोजगारी दर छत्तीसगढ़ का

पांच घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद मिला शव

पुलिस की मौजदूगी में गोताखोर और गांव वालों ने आमनेर नदी में खोजबीन की। पांच घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद कौशल निषाद का बाडी बरामद किया गया। उनके सीने में चोट के निशान है। जब बाडी को नदी से बाहर निकाला गया तो नाक और कान से खून निकल रहा था। नदी में बाडी को घसीटने के निशान भी मिले हैं। इससे यह आशंका है कि उन्हें पहले चोट पहुंचाया गया है। इसके बाद उन्हें घसीटते हुए पानी तक ले जाया गया है।

यह भी पढ़ें: कॉमनवेल्थ गेम्स में टेबल टेनिस में भारतीय पुरुष टीम ने रचा इतिहास, लॉन बाल में बेटियाें ने लहराया तिरंगे का परचम

बड़ी खबर: हाईटेक अस्पताल प्रबंधन को निगम प्रशासन का नोटिस, लापरवाही के लिए लाइसेंस को निरस्त करने की दी चेतावनी

आपसी रंजिश की आशंका

गांव में इस बात की चर्चा है कि आपसी रंजिश की चलते उनकी हत्या हुई है। लोगों का कहना था कि सरपंच बनने के बाद उन्होंने स्वयं भू शिव मंदिर परिसर में लगने वाले मेला लगने वाले भीड़ को ध्यान में रखते हुए अवैध कब्जा हटाने की पहल की थी। उनकी पहल पर जिला प्रशासन एवं राजस्व विभाग की टीम ने अवैध कब्जा हटाने की कार्रवाई की थी। इसी बात को लेकर कुछ लोग उनसे दुश्मनी रखते थे।

 

RELATED ARTICLES

Most Popular

error: Content is protected !!