Homeनिकायसमिति का नए सिरे से प्रापर्टी टैक्स निर्धारण पर जाेर, यदि ऐसा...

समिति का नए सिरे से प्रापर्टी टैक्स निर्धारण पर जाेर, यदि ऐसा हुआ तो आवास का व्यावसायिक उपयोग करने वालों देना पड़ेगा ज्यादा टैक्स

राजस्व विभाग के सलाहकार समिति की बैठक में कई बिन्दुओं पर हुई चर्चा

भिलाई. रिसाली निगम क्षेत्र के प्रापर्टी टैक्स का नए सिरे से निर्धारण किया जाएगा। नए सिरे से निर्धारित दर के अनुसार ही करदाताओं को प्रापर्टी टैक्स का भुगतान करना होगा। बुधवार को राजस्व, बाजार एवं वाहन विभाग के प्रभारी विलास राव बोरकर की अध्यक्षता में हुई बैठक में सलाहकर समिति के सदस्यों ने नए सिरे से पूरे प्रापर्टी टैक्स का निर्धारण करने पर जोर दिया। पूरे निगम क्षेत्र को आवासाीय, आवासीय सह व्यावसायिक और व्यावसायिक क्षेत्र अनुसार तीन कैटेगिरी में विभाजित करने के लिए प्रस्ताव तैयार कर महापौर परिषद की बैठक में रखने के सुझाव पर सहमति बनी।

सलाहकार समिति के सदस्यों का कहना है कि रिसाली निगम क्षेत्र में कई पाॅश कालोनी है। यहां कई आवास ऐसे है जहां मेस की सुविधा है। यहां बाहर से आने वाले विद्यार्थियों के लिए आवास को पेईंग गेस्ट रूम भी बना लिया है। इस सुविधा के एवज में आवास मालिक मोटी रकम लेते हैं, लेकिन आवास मालिक व्यापार करने के बाद भी निगम में कमर्शियल टैक्स जमा नहीं करते।

सर्वे कराया जाए

समिति के सद्स्यों का कहना था कि इसके लिए न केवल सर्वे कराया जाए, बल्कि नए सिरे से टैक्स का निर्धारण कराया जाए। बैठक में सभापति केशव बंछोर, जहीर अब्बास, अनिल देशमुख, सुनंदा चंद्राकर, शीला नारखेड़े, ओमप्रकाश मिर्झा ने भी अपने सुझाव दिए।

सरकारी जमीन की तलाश
नगर पालिक निगम रिसाली क्षेत्र में बहुत से भवन और निर्माण कार्य स्वीकृत है। जगह के अभाव में कार्य अटका पड़ा है। राजस्व विभाग सलाहकार समिति के सद्स्यों ने सरकारी जमीन तलाश करने सर्वे कराने का निर्णय लिया।मुख्य मार्गो पर अव्यवस्थित तरीके से फुटकर व्यापार करने वालों को गुमटी या चबूतरा आवंटित करने पर जोर दिया।

आय के स्रोत बढ़ाने पर दिया जोर
बैठक में निगम के आय के स्रोत बढ़ाने पर जोर दिया गया। सद्स्यों ने एक स्वर में कहा कि पूरे निगम क्षेत्र में दर्जन भर साप्ताहिक बाजार लगता है। जहां वे बाजार शुल्क की वसूली नही करते, लेकिन बाजार क्षेत्र की सफाई व्यवस्था में बड़ी राशि खर्च की जाति है। सद्स्यों ने साप्ताहिक बाजार क्षेत्र से सफाई शुल्क और वाहन रखने स्टैण्ड तैयार कर उसे ठेका देने में देने का सुझाव दिया। सचिव को प्रस्ताव बनाकर महापौर परिषद की बैठक में प्रस्तुत करने कहा।

 इन बिंदुओं पर प्रस्ताव तैयार कर रखा जाएगा एमआईसी में

– निगम क्षेत्र के लिए 2 शव वाहन खरीदा जाए।
– महापौर, सभापति, आयुक्त व कार्यपालन अभियंता के लिए नई कार खरीदी जाए।
– वाहन शाखा का निर्माण रिसाली मुक्तिधाम के एक सिरे में किया जाए।
– वाहनों के मामूली खराबी को ठीक करने प्लेसमेंट पर मेकेनिक व गार्ड रखने के लिए प्रस्ताव तैयार किया जाएगा।

यह भी पढ़ें: Breaking News: सरपंच के पति की हत्या, शव आमनेर नदी से बरामद

अपने घरों में राष्ट्रीय ध्वज फहराकर मनाएं आजादी का अमृत महोत्सव -आयुक्त

मैत्री नगरवासियों के लिए खतरा साबित हो रही है यह रोड, यहां आपस में टकरा जाती है गाड़ियां

RELATED ARTICLES

Most Popular

error: Content is protected !!