Homeराज्यमोहड़ जलाशय के डुबान क्षेत्र के प्रभावितों को मिलेगा मुआवज़ा

मोहड़ जलाशय के डुबान क्षेत्र के प्रभावितों को मिलेगा मुआवज़ा

  • मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने डौंडी लोहारा विस क्षेत्र के लोगों से कुसुमकसा में की भेंट मुलाकात
  • मालीघोरी में शिक्षा, स्वास्थ्य, सिंचाई और सामुदायिक क्षेत्र के विस्तार के लिए की कई घोषणाएं
  • मालीघोरी में पशु चिकित्सालय खुलेगा और डौंडीलोहारा शासकीय महाविद्यालय में कृषि संकाय होगा शुरू

बालोद. मुख्यमंत्री भूपेश बघेल आज बालोद जिले में भेंट मुलाकात कार्यक्रम के दूसरे दिन डौंडीलोहारा विधानसभा क्षेत्र के मालीघोरी पहुंचे। यहां सबसे पहले मुख्यमंत्री बघेल ने कुकुरदेव मंदिर में पूजा अर्चना कर प्रदेश की सुख समृद्धि की कामना की।

 

श्रद्धा के केन्द्र कुकुरदेव मंदिर का होगा जीर्णाेद्धार

chhattisgarh
श्रद्धा के केन्द्र कुकुरदेव मंदिर में मुख्यमंत्री बघेल, महिला एवं बाल विकास मंत्री अनिला भेड़िया, और उच्च शिक्षा मंत्री उमेश पटेल

कुकुरदेव मंदिर से मुख्यमंत्री पदयात्रा कर भेंट मुलाकात स्थल तक पहुंचे। इस दौरान कई जगह पर लोगों ने फूल मालाओं से आरती उतारकर और कोदो अन्न से तौल कर अपने मुखिया का स्वागत किया। मुख्यमंत्री ने भी लोगों के पास पहुंचकर उनका अभिवादन स्वीकार किया। इस अवसर पर महिला एवं बाल विकास तथा समाज कल्याण मंत्री अनिला भेंड़िया, उच्च शिक्षा मंत्री उमेश पटेल सहित कई जनप्रतिनिधि और नागरिक मौजूद थे।

 

पॉलिटेक्निक कॉलेज भवन का किया लोकार्पण

मुख्यमंत्री बघेल ने मालीघोरी में कई विकास कार्यों की सौगात देने के साथ जनसामान्य की शिक्षा, स्वास्थ्य, सामाजिक सुविधाओं के विस्तार के लिए कई घोषणाएं की। यहां उन्होंने शासकीय पॉलिटेक्निक कॉलेज बालोद के भवन का लोकार्पण किया। पॉलिटेक्निक में सिविल, इलेक्ट्रिकल तथा माइनिंग एंड माइन सर्वेइंग ट्रेड के पाठ्यक्रम संचालित किये जाएंगे। इससे आसपास के क्षेत्रों के विद्यार्थियों को शिक्षा के बेहतर अवसर उपलब्ध होंगे। इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने ग्राम मालीघोरी में पशु चिकित्सालय खोलने और डौंडीलोहारा शासकीय महाविद्यालय में कृषि संकाय प्रारंभ करने की भी घोषणा की।

Chhattisgarh

50 बिस्तर अस्पताल का किया जाएगा उन्नयन

क्षेत्र में स्वास्थ्य सुविधाओं का दायरा बढ़ाते हुए उन्होंने घोषणा की कि डौंडीलोहारा के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र को 50 बिस्तर अस्पताल के रूप में उन्नयन किया जाएगा और ग्राम हितापठार में उप स्वास्थ्य केंद्र खोला जायेगा। साथ ही उन्होंने स्थानीय स्तर पर धार्मिक, सामाजिक सद्भाव और श्रद्धा के केन्द्र कुकुरदेव मंदिर के जीर्णाेद्धार और रेंगाडबरी, रानाखुज्जी, मंगचुआ और बनगांव में मंगल भवन बनवाने की घोषणा की।

 

मुख्यमंत्री ने स्कूल शिक्षा का विस्तार करते हुए कहा कि शासकीय पूर्व माध्यमिक शाला बड़ा जुंगेरा का हाईस्कूल में और ग्राम किल्लेकोड़ा एवं ग्राम कोबा के हाई स्कूल का उन्नयन हायर सेकेंडरी में किया जायेगा। इसके अतिरिक्त कोटेरा गांव के हायर सेकेंडरी और कमकापार गांव के हाईस्कूल के लिये नया भवन बनाया जायेगा।

 

झुमुकलाल भेंड़िया के नाम से जाना जाएगा डौंडीलोहारा का आई.टी.आई. 

उन्होंने आई.टी.आई. डौंडीलोहारा का नामकरण स्व. झुमुकलाल भेड़िया जी के नाम पर करने की भी घोषणा की। मुख्यमंत्री ने कहा कि मोहड़ जलाशय में डुबान क्षेत्र में आये हितग्राहियों के प्रकरण का निराकरण करवाकर मुआवज़ा दिलवाया जायेगा। साथ ही ग्राम मरनाभाठ में स्टॉप डेम का निर्माण करवाकर सिंचाई सुविधाओं का विस्तार किया जायेगा।

 

मुख्यमंत्री ने कहा – आमजन को सुविधाएं उपलब्ध कराने तेजी से काम किया जा रहा
मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने ग्रामीणों को सम्बोधित करते कहा कि विकास के कार्य तेजी से होते रहेंगे। इस साल फसल अच्छी हुई। लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए निरन्तर प्रयास किया जाता रहेगा। राज्य के विभिन्न शासकीय आत्मानंद स्कूल के माध्यम से अंग्रेजी शिक्षा उपलब्ध कराई जा रही है। इन स्कूलों में वे सभी सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही है जो एक अच्छे स्कूल में होनी चाहिए। विद्यार्थियों को बेहतर शिक्षा उपलब्ध हो इसके लिए स्कूलों का जीर्णाेद्धार हो रहा है। गांव में ही लोगों को रोजगार मिल सके इसके लिए ग्रामीण आजीविका पार्क बनाए जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि पहले स्थानीय स्तर पर 150 प्रकार की सामग्री उत्पादित होती थी, जो बढ़कर अब 650 हो गई है। इनका अच्छा विक्रय हो रहा है। इसका लाभ स्थानीय लोगों को हो रहा है।

यह भी पढ़ें: रश्मिका मंदाना की आई ऐसी तस्वीरें सामने, उनकी जींस पर हर किसी की टिक गई नजर

अकल्पनीय प्रेम: मालिक की मौत पर दूर गांव से मुक्तिधाम पहुंच गया बछड़ा,ग्रामीणों के साथ निभाई अंतिम संस्कार की रस्म

 

उन्होंने कहा कि पिछले साढ़े तीन वर्षों में छत्तीसगढ़ी परंपरा तीज त्यौहारों को विशेष महत्व दिया गया है। अब हमारा छत्तीसगढ़िया व्यंजन अतिथियों के सत्कार के लिए मंच तक पहुंचने लगा है। आदिवासियों के आस्था का केंद्र देवगुड़ियों का जीर्णाेद्धार किया जा रहा है। रामायण कालीन महत्व के स्थानों को उनकी प्रतिष्ठा के अनुकूल स्थापित करने के लिए राम वन गमन पथ परियोजना पर तेजी से काम किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें: पुलिस की छापामार कार्रवाई,देर रात तक जाम छलकाने वाले 4 बार को कराया बंद

नक्सलियों और सीआरपीएफ के जवानों के बीच मुठभेड़,जवान घायल

 

RELATED ARTICLES

Most Popular

error: Content is protected !!