Homeराजनीतिअग्निपथ योजना के विरोध में कांग्रेसियों ने बुलंद की आवाज

अग्निपथ योजना के विरोध में कांग्रेसियों ने बुलंद की आवाज

विधानसभा स्तर पर सत्याग्रह आंदोलन कर केन्द्र सरकार पर बोला हमला, मंत्री, विधायकों ने चार साल की योजना से जवानों को होने वाले नुकसान गिनाए

रायपुर. केन्द्र सरकार की अग्निपथ योजना के विरोध में आज दुर्ग ग्रामीण, भिलाई, वैशाली नगर, दुर्ग शहर समेत छत्तीसगढ़ के सभी 90 विधानसभा क्षेत्र में कांग्रेस कमेटी के पदाधिकारियों ने सत्याग्रह आंदोलन किया। प्रदर्शनकारियों ने नारे लिखी हुई तख्तियों को हाथों में लेकर अपने-अपने तरीके से अग्निपथ योजना को लेकर विरोध जताया, तो वहीं मंत्री, विधायक, महापौर से लेकर जिलाध्यक्ष ने 4 साल की भर्ती के बजाय पहले की तरह सेना में नियमित भर्ती करने का मुद्दा उठाया।

 दुर्ग ग्रामीण विधानसभा क्षेत्र के रुआबांधा में आंदोलन गृहमंत्री हुए शामिल

छत्तीसगढ़ के गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू दुर्ग ग्रामीण विधानसभा क्षेत्र के रुआबांधा के सत्याग्रह आंदोलन शामिल हुए। जहां उन्होंने कहा कि,अग्निपथ योजना, कभी सेना में नियमित भर्ती की जगह नहीं ले सकती। सरकार को पूर्व से चल रही आ रही सेना भर्ती योजना को यथावत रखना चाहिए, ताकि विगत कई सालों से सेना की तैयारी कर रहे नौजवानों को सेना में जाने का पूरी तरह से मौका मिल सके। जिला पंचायत की अध्यक्ष शालिनी रिवेन्द्र यादव, रिसाली निगम की महापौर शशि सिन्हा, जिला कांग्रेस कमेटी की महिला अध्यक्ष सुभद्रा सिंह, सभापति केशव बंछोर, एमआईसी चंद्रभान सिंह ठाकुर,पार्षद व एनएसयूआई के अभिषेक बंछोर समेत अन्य ने अपने विचार रखे।

chhattisgarh
गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू रुआबांधा के सत्याग्रह आंदोलन में हुए शामिल

दो करोड़ युवाओं को नौकरी देने का वादा कर सत्ता में आई,लेकिन अब…

भिलाई नगर विधायक देवेन्द्र यादव ने भी केन्द्र सरकार पर हमला बाेला। उन्होंने कहा कि केन्द्र की सरकार दो करोड़ लाेगों को नौकरी देने का वादा कर सत्ता में आई, लेकिन युवाओं को नौकरी देना तो दूर, चार साल तक भर्ती पर पाबंदी लगाए रखा। अब जब भर्ती करने का मौका आया तो भारत की लोकतांत्रिक प्रणाली को ताक में रखकर केन्द्र सरकार ने अग्निपथ योजना ले आई। जबकि देश में कोई योजना लाई जाती है,तो उसे संसद के पटल पर रखा जाता है।

chhattisgarh
अग्निपथ के विरोध में वैशाली नगर विधानसभा क्षेत्र के कार्यकर्ताओं ने किया सत्याग्रह

सदन में चर्चा कराया जाता है, ताकि सांसदों के मन में जो आशंका होती है, उसे चर्चा कर शंकाओं दूर करने का प्रयास किया जाता है, लेकिन अग्निपथ योजना को लेकर केन्द्र सरकार ने ऐसा नहीं किया। सीधे लागू कर देशवासियों पर एक तरफा थोप दिया गया। यही वजह है कि सेना की तैयारी करने वाले युवा इसका विरोध कर रहे हैं। इसलिए केन्द्र सरकार अग्निपथ योजना को वापस लें और पहले की तरह ही युवाओं को सेना में भर्ती का अवसर प्रदान करें।

यह भी पढ़ें: इंडियन आर्मी और इंडियन एयर फोर्स ने जारी किया नोटिफिकेशन, अप्लाई करना चाहते हैं तो पढ़ लीजिए पूरा प्रोसेस

chhattisgarh
अग्निपथ के विरोध में सत्याग्रह आंदोलन में उपस्थित महिलाएं

सत्याग्रह आंदोलन में महापौर नीरजपाल, वित्त विकास निगम की उपाध्यक्ष नीता लोधी, पूर्व विधायक बीडी कुरैशी, पूर्व विधायक भजन सिंह निरंकारी, पूर्व जिला अध्यक्ष तुलसी साहू, प्रदेश महामंत्री अरुण सिसोदिया, विजय साहू, साडा के पूर्व उपाध्यक्ष बृजमोहन सिंह, एमआईसी केशव चौबे, आदित्य सिंह,शेखर गवई, नेहा साहू, पार्षद सलमान खान, अभिशेक मिश्रा, अंजू सुमन सिन्हा, एमआईसी सदस्य जोहन सिन्हा समेत अन्य शामिल हुए।

chhattisgarh
सेक्टर 1 मुर्गा चौक पर आयोजित सभा को संबोधित करते हुए महापौर नीरज पाल

सेक्टर 1 में महापौर नीरज पाल ने कहा कि, अग्निपथ का विरोध हो रहा है तो केन्द्र सरकार सेना के अधिकारियों को सामने किया जा रहा है। देश की सुरक्षा के लिए जवानों की आवश्यकता है तो केन्द्र सरकार पहले की तरह ही नियमित भर्ती करें। कहीं कोई उसका विरोध कर नहीं करेगा,  लेकिन केन्द्र सरकार नियमित भर्ती करने के बजाय उद्योगों की तरह चार साल की अग्निपथ पॉलिसी लेकर आ गई है। जो किसी भी दृष्टिकोण से सही नहीं है। उन्होंने केन्द्र सरकार से अग्निपथ योजना को वापस लेने की मांग की। इस मौके पर भिलाई नगर विधायक देवेन्द्र यादव, जिला अध्यक्ष मुकेश चंद्राकर, निगम सभापति गिरवर साहू, एमआईसी लक्ष्मीपति राजू, सीजू एंथोनी, साकेत चंद्राकर, सुरेश वर्मा, प्रवक्ता जावेद खान, सुमीत पवार समेत अन्य मौजूद रहे।

advt

यह भी पढ़ें:भू माफिया की शिकायत पर सीएम हुए नाराज, कमिश्नर से मांगा 15 दिन के अंदर रिपोर्ट

सीएम ने की बड़ी घोषणा: सात विशेष पिछड़ी जनजाति समूह के युवाओं को मिलेगी सरकारी नौकरी

 

chhattisgarh
अग्निपथ के विरोध में दुर्ग शहर में सत्याग्रह आंदोलन

दुर्ग में अग्निपथ योजना को विरोध में सत्याग्रह आंदोलन हुआ। जहां दुर्ग शहर विधायक अरुण वोरा, पूर्व महापौर शंकर लाल ताम्रकार,अन्य पिछड़ा वर्ग आयोग के सदस्य आरएन वर्मा, वरिष्ठनेता व प्रवक्ता प्रदीप चौबे ने केन्द्र सरकार की चार साल की अग्निपथ योजना को लेकर विरोध जताया और कानून को वापस लेने की मांग की।

यह भी पढ़ें: स्वामी आत्मानंद स्कूलों में निकली 61 पदों पर भर्ती, जिला शिक्षा विभाग ने मंगाए आवेदन

नपाप अध्यक्ष के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव,सत्ता पक्ष के दो पार्षदों ने छोड़ी पार्टी

होटल के बाहर युवक-युवतियों के बीच जबरदस्त मारपीट,घटना के दो दिन वीडियो आया सामने

RELATED ARTICLES

Most Popular

error: Content is protected !!