Homeनिकायकलेक्टर के निरीक्षण के दौरान चार बातें आई सामने... पहला कार्रवाई के...

कलेक्टर के निरीक्षण के दौरान चार बातें आई सामने… पहला कार्रवाई के बजाय देख कर लौट जाती है निगम की टीम

भिलाई.शहर की साफ-सफाई स्वच्छता सर्वेक्षण के मापदंडो के अनुरूप नहीं हो रहा है। मार्केट, चौक-चौराहे और सार्वजनिक स्थानों से डस्टबिन गायब है। हर जगह गंदगी का आलम है। अवैध रूप से संचालित मटन चिकन और चाय नाश्ता के दुकानों से निकलने वाले अपशिष्ट को खुले में फेंका जा रहा है, या फिर नाला-नालियों में बहाया जा रहा है, लेकिन निगम प्रशासन की टीम ऐसे लोगों के खिलाफ कार्रवाई के बजाय उन्हें देख कर लौट जाती है।

यह तथ्य कलेक्टर पुष्पेन्द्र मीणा को पिछले सप्ताह की मानिटरिंग में समझ में आ गई थी। इसीलिए मंगलवार को शहर की सफाई व्यवस्था का जायजा लेने भिलाई पहुंचे और उन्होंने नेहरू नगर जोन अंतर्गत स्मृति नगर जुनवानी-कोहका रोड, नेहरू नगर चौक, पंचमुखी हनुमान मंदिर रोड में घूम-घूमकर सफाई और यातायात व्यवस्था का जायजा लिया।स्मृति के पार्षद मुकेश अग्रवाल और माडल टाउन के पार्षद हरि ओम तिवारी से निरीक्षण के दौरान चर्चा भी की। उनके सुझाव पर निगम आयुक्त लोकेश चंद्राकर को व्यवस्था सुधारने के निर्देश भी दिए। ताकि स्वच्छता सर्वेक्षण-2022 में भिलाई की रैकिंग में सुधार किया जा सके और स्वच्छ भिलाई और सुंदर भिलाई की परिकल्पना साकार हो सके।

Chhattisgarh
दुकान के बाहर पड़े कचरे को देख संचालक को समझाइश देते निगम आयुक्त लोकेश चंद्राकर

आज सुबह कलेक्टर के निरीक्षण के दौरान ये बातें आई सामने 

  • सड़क किनारे की जमीन पर लोगों ने कब्जा कर दुकान बना लिया है। इन दुकानों के सामने खड़ी होने वाली बेतरतीब गाड़ियों की वजह से शाम के समय जाम की स्थिति निर्मित होती है।
chhattisgarh
नेहरू नगर चौक में कलेक्टर, निगम आयुक्त चर्चा कर रहे हैं। उसके ठीक पीछे जो दुकान नजर आ रही है, उसने दुकान के सामने की जगह पर कब्जा कर शेड बना लिया है।शाम के समय यहां आने वाले ग्राहकों की गाड़ियां रोड पर पार्क होती है।
  • सूर्या माल से पंचमुखी हनुमान मंदिर रोड पर संचालित हॉस्पटिल के सामने गाड़ियों की पार्किंग और रोड किनारे लगने वाले दुकान और हाथ ठेले वालों की वजह से शाम के समय तो मोटर सायकल से गुजरना मुश्किल हो जाता है।
  • सूर्या माल से केपीएस स्कूल चौक तक सड़कों के किनारे खड़े बेतरतीब गाड़ियों की वजह से दुर्घटना की आशंका बनी रहती है।
  • मटन चिकन संचालक अपशिष्ट को एमजे कॉलेज के पास कोसा नाला में फेंकते हैं। इसके अलावा रोड किनारे दुकान लगाने वाले फुटकर व्यापारी कचरे को खुले में फेंक देते हैं,या फिर नाला, नालियों में फेंक देते हैं।

कलेक्टर ने जताई नाराजगी

इस पर कलेक्टर मीणा ने नाराजगी जताई और उन्होंने निगम आयुक्त लोकेश चंद्राकर को योजना बनाकर चौक-चौराहे और सड़कों के किनारे अवैध तरीके से संचालित दुकानों के खिलाफ कार्रवाई के निर्देश दिए।अतिक्रमण की वजह से जहां यातायात व्यवस्था प्रभावित हो रही है, वहां से कब्जा हटाने कहा। उन्होंने निरीक्षण के दौरान स्वयं होटल संचालक, शराब दुकान, चाय नाश्ता वाले समेत फुटकर व्यापारियों को खुले में कचरा नहीं फेंकने एवं कचरे को डस्टबिन में डालने की समझाइश दी।

निगम के अधिकारियों को खुले में कचरा फेंकने वालों के खिलाफ जुर्माना की कार्रवाई करने के निर्देश दिए। निरीक्षण के दौरान अपर आयुक्त अशोक द्विवेदी, जोन आयुक्त मनीष गायकवाड़, स्वास्थ्य अधिकारी धर्मेंद्र मिश्रा, जोन प्रभारी स्वास्थ्य अधिकारी अंकित सक्सेना आदि मौजूद रहे।

chhattisgarh
यह तस्वीर नंदनी रोड की है। 15 दिन पहले की है। निगम के कर्मचारी गाड़ी में आए और कुछ दुकानदारों से चर्चा की फिर लौट गए। इससे आप अंदाजा लगा सकते हैं कि टीम की मानिटरिंग कैसे चल रही है?

यह भी पढ़ें: बिजली शुल्क के एनर्जी चार्ज में वृद्धि, प्रस्ताव विस में ध्वनिमत से पारित

Big blow to India:नीरज चोपड़ा कॉमनवेल्थ गेम्स में नहीं खेल पाएंगे, ये है वजह

 

RELATED ARTICLES

Most Popular

error: Content is protected !!