Homeधर्म-समाजEco Freindly Ganesha: कामधेनु विवि में गोबर से तैयार हो रही हैं...

Eco Freindly Ganesha: कामधेनु विवि में गोबर से तैयार हो रही हैं भगवान विघ्नहर्ता की प्रतिमाएं, 25 से लगेंगी प्रदर्शनी

  • कामधेनु पंचगव्य अनुसंधान केंद्र ने तैयार की है प्रतिमाएं
  • 25 अगस्त से महिला समृद्धि बाजार स्थित टीवीसीसी परिसर में लगाई जाएंगी स्टॉल

दुर्ग. श्रीगणेशोत्सव 31 अगस्त से शुरू होने जा रहा है। 11 दिनों तक चलने वाले विघ्नहर्ता के जन्मोत्सव काे लेकर इस बार बड़े जोर शोर से तैयारी चल रही है। गणेशोत्सव समितियां जहां भगवान श्रीगणेश को स्थापित करने के लिए बड़े-बड़े पांडाल बनाने में जुटे हुए हैं। वहीं दाऊ वासुदेव चंद्राकर कामधेनु विश्वविद्यालय,दुर्ग, इको फ्रेंडली गणेश जी(Eco Freindly Ganesha) की प्रतिमाएं बनाने में जुटी हुई है। ताकि इस बार बाजार में ज्यादा से ज्यादा इको फ्रेंडली मूर्तियां बाजार में उपलब्ध करवाकर लोगों को प्रदूषण मुक्त गणेशोत्सव मनाने के लिए प्रेरित किया जा सके।

विवि के अंतर्गत संचालित कामधेनु पंचगव्य अनुसंधान केन्द्र, अंजोरा (Kamdhenu Panchagavya Research Center)के विशेषज्ञों की टीम गोधन(गोबर) से श्रीगणेश जी की प्रतिमा बना रहे हैं। निदेशक डॉ के एम कोले ने बताया कि “पहली बार कुलपति डॉ एनपी दक्षिणकर के मार्गदर्शन में इको फ्रेंडली प्रतिमाएं बनवा रहे हैं। प्रतिमाएं बनाने के लिए10 से अधिक लोगों टीम लगी है। इस बार छोटे साइज के करीब 300 प्रतिमाएं बनाने का लक्ष्य है और अब तक 200 से अधिक प्रतिमाएं तैयार हो चुकी है। जो पूरी तरह से रासायनिक पदार्थों से रहित प्रतिमाएं हैं।

Chhattisgarh

 

केमिकल मुक्त है प्रतिमाएं

1 यह पूर्ण रूप से शुद्ध देशी गाय के गोबर से निर्मित है। इस वजह से पानी में जल्दी घुलनशील है। इस मूर्ति का विसर्जन अपने घर में टब या बाल्टी में कर सकते हैं। एक घंटे से भी कम समय मे पूर्ण रूप से घुल जाती है। जिसके बाद आप इस पानी को आप अपने घर से पौधों को सिंचित कर सकते हैं।

2 रंगने के लिए किसी भी प्रकार के पेंट या रासायनिक पदार्थ का इस्तेमाल नहीं किया गया है। प्राकृतिक रूप से फूल,पत्ते,हल्दी और चूना से तैयार रंगों से रंगा गया है। इस वजह से जल प्रदूषण होने की कोई गुजाइंश नहीं है।

Chhattisgarh

3 हिन्दू धर्म की मान्यता के अनुसार पूजा पाठ में  गोबर से बनी गौरी गणेश की पूजा की जाती है। इस दृष्टिकोण से भी श्रीगणेश की प्रतिमा स्थापित कर पूजन करना ज्यादा फलदायी है।

पदमनाभपुर में लगेगी प्रदर्शनी
कामधेनु पंचगव्य अनुसंधान केंद्र के डॉ राकेश मिश्र ने बताया कि कुलपति के निर्देशानुसार गोबर से निर्मित प्रतिमाओं की प्रदर्शनी पदमनाभपुर स्थित पशु चिकित्सालय में 25 अगस्त से लगाई जाएगी। प्रदर्शनी 12 बजे से शुरू होगी। इच्छुक व्यक्ति यहां से उचित कीमत पर श्रीगणेश जी की प्रतिमा प्राप्त कर सकते हैं।

Chhattisgarh

 

Chhattisgarh

यह भी पढ़ें:मुख्यमंत्री ने परिवार के संग काटा केक,राष्ट्रपति मुर्मु और पीएम मोदी ने दी जन्मदिन की बधाई

मुख्यमंत्री बघेल ने जन्मदिन पर भिलाईवासियाें को दिया बड़ा ताेहफा

ये हैं स्टील सिटी के गौरव,जिन्होंने देश-दुनिया में भिलाई को किया है गौरवान्वित

RELATED ARTICLES

Most Popular

error: Content is protected !!