HomeEntertainmentCrimeईडी कर सकता है तिवारी से पूछताछ,खुलेगा कोयला घोटाले का राज

ईडी कर सकता है तिवारी से पूछताछ,खुलेगा कोयला घोटाले का राज

शनिवार को ट्रांसपोर्ट कारोबारी सूर्यकांत तिवारी ने जिला न्यायालय में किया सरेंडर

रायपुर.खनिज और परिवहन कारोबारी सूर्यकांत तिवारी ने शनिवार को जिला एवं सत्र न्यायालय में न्यायाधीश अजय सिंह राजपूत के न्यायालय में सरंडेर किया। तिवारी जब सरेंडर करने न्यायालय पहुंचे तो उन्होंने कपड़े से अपना चेहरा ढंक रखा था, लेकिन बाद में उन्होंने अपना कपड़ा हटाया तो लोग अवाक रह गए और न्यायालय में गहमागहमी मच गई।

ईडी के छापों के बाद तिवारी का नाम अवैध खनिज परिवहन मामले में सामने आया है। उनके खिलाफ ईडी ने बंगलुरू में एफआईआर दर्ज किया है। इसके बाद से वह फरार चल रहा था और प्रवर्तन निदेशालय(ईडी) की टीम को कई दिनों से सूर्यकांत तिवारी की तलाश थी। कई बार गिरफ्तारी होने की सूचना भी आई, लेकिन खबर की पुष्टि नहीं हुई। हालांकि इस बीच उनके ​एक रिश्तेदार को रायगढ़ से गिरफ्तार किया जा चुका है। इसके से ईडी ने तिवारी के खिलाफ बंगलुरू में एफआईआर भी दर्ज है। इसके बाद से वह फरार चल रहा था।

 

सत्तापक्ष और विपक्ष की बढ़ी बेचैनी

तिवारी के सरेंडर करने के बाद सत्ता पक्ष और विपक्ष के कई नेताओं की बेचैनी बढ़ गई है। लोगों में इस बात की चर्चा है कि इडी तिवारी को रिमांड पर ले सकती है और उनके से पूछताछ कर सकती है। कारोबारी होने की वजह से उनके पूर्व और वर्तमान सरकार के नेताओं के साथ अच्छे संबंध है। ऐसे में कोयले के कारोबार में कई नाम सामने आ सकते हैं।

आईएएस का रिमांड 10 नवंबर तक 

बता दें कि IAS अधिकारी समीर विश्नोई को 14 दिन की न्यायिक रिमांड पर जेल भेज दिया गया है। उनके साथ कोयला कारोबारी सुनील अग्रवाल और लक्ष्मीकांत तिवारी को भी जेल भेजा गया था। न्यायिक रिमांड की यह अवधि 10 नवम्बर को पूरी हो रही है। उस दिन तीनों आरोपियों को फिर से अदालत में पेश किया जाएगा। तिवारी के वकील फेजल रिजवी ने कहा कि ईडी के अधिकारी रिमांड पर लेने आवेदन बनवा रहे है।हम भी पूरी तरह से रिमांड को लेकर आश्वस्त है।

यह भी पढ़ें: खिलाड़ी मैट पर करेंगे कबड्‌डी की प्रैक्टिस, मांग पर विधायक ने दिया आश्वासन

सहस्त्रबाहु की जयंती समारोह शोभायात्रा के साथ शुरू,श्री सत्यनारायण की पूजा आज

छठ पूजा के लिए स्मृति नगर तालाब तैयार

RELATED ARTICLES

Most Popular

error: Content is protected !!