Homeशिक्षाप्रभारी जिला अधिकारी 10-10 स्कूलों का निरीक्षण कर सुधारेंगे स्कूलों का रिपोर्ट...

प्रभारी जिला अधिकारी 10-10 स्कूलों का निरीक्षण कर सुधारेंगे स्कूलों का रिपोर्ट कार्ड

स्कूलों का एक माह तक सघन और आकस्मिक निरीक्षण करने के सचिव डॉ एस भारतीदासन ने दिए निर्देश

रायपुर. छत्तीसगढ़ स्कूल शिक्षा विभाग नए शैक्षिणक सत्र के साथ ही स्कूलों का रिपोर्ट कार्ड सुधारने में जुट गई है। स्कूल शिक्षा सचिव डॉ. एस. भारतीदासन ने इसके लिए बकायदा आदेश जारी कर नए शैक्षणिक सत्र में शिक्षकों और विद्यार्थियों की उपस्थिति पर विशेष ध्यान देने के निर्देश दिए है। आदेश में उन्होंने नए शैक्षणिक सत्र में विभाग में संचालित सभी योजनाओं का क्रियान्वयन सुनिश्चित करने को कहा है। स्कूल शिक्षा विभाग के जिला अधिकारियों को एक माह तक स्कूलों का आकस्मिक निरीक्षण करने के निर्देश दिए हैं। हर जिले के प्रभारी शिक्षा अधिकारी को कम से कम 10-10 स्कूलों का मानिटरिंग करने कहा है। साथ ही निर्धारित समय-सीमा के भीतर निरीक्षण प्रतिवेदन प्रस्तुत करने के निर्देश दिए गए है।

पहले दिन से होगी शुरुआत

सभी निरीक्षणकर्ता अधिकारी 15 जून को स्कूल खुलने के साथ ही आकस्मिक निरीक्षण शुरू करेंगे और लगातार 15 जुलाई तक कम से कम 10 स्कूलों की मानटरिंग करेंगे। निरीक्षण के दौरान शिक्षकों, कर्मचारियों और विद्यार्थियों की शत-प्रतिशत उपस्थिति का परीक्षण करेंगे। अनुपस्थित पाये जाने वाले शिक्षकों के विरुद्ध नियमानुसार अनुशासनात्मक कार्रवाई करेंगे।

निरीक्षण के दौरान विभिन्न विभागीय योजनाओ जैसे स्वामी आत्मनन्द उत्कृष्ट अंग्रेजी और हिन्दी माध्यम शाला, निःशुल्क पाठ्यपुस्तक वितरण, निःशुल्क गणवेश वितरण, निःशुल्क सायकल वितरण (2020-21), मध्यान्ह भोजन, आरटीई के तहत प्रवेश, छात्रवृति, महतारी दुलार योजना, उपयुक्त शाला भवन की स्थिति, शौचालय, बालबाड़ी केन्द्रों का संचालन शाला परिसर में साग-भाजी के उत्पादन, आदर्श शौचालय, गौठानों व महिला स्व-सहायता समूहों द्वारा मध्यान्ह भोजन की सामग्री की आपूर्ति के लिए शालाओं के लिंकेज आदि योजनाओं का निरीक्षण और मूल्यांकन करेंगे।

सबकी जिम्मेदारी तय 

स्कूल शिक्षा विभाग के सभी संभागीय संयुक्त संचालकों, अधीनस्थ उप संचालकों, सहायक संचालकों को निर्देशित किया गया है कि वे अपने कार्यक्षेत्र अंतर्गत जिलों में न्यूनतम 10-10 शालाओं (हायर सेकेण्डरी, हाई स्कूल, मिडिल और प्रायमरी) का आकस्मिक निरीक्षण करेंगे। सभी जिला शिक्षा अधिकारी और अधीनस्थ सहायक संचालकों, समग्र शिक्षा के जिला परियोजना समन्वयक, प्राचार्य डाईट न्यूनतम 10-10 शालाओं का आकस्मिक निरीक्षण करेंगे।

इसी प्रकार सभी विकासखंड शिक्षा अधिकारी, विकासखंड स्रोत समन्वयक, सहायक विकासखंड शिक्षा अधिकारी भी अपने कार्यक्षेत्र अंतर्गत न्यूनतम 10-10 शालाओं (मिडिल और प्रायमरी स्कूल) का आकस्मिक निरीक्षण करेंगे। हायर सेकेण्डरी स्कूल के सभी प्राचार्य, संकुल समन्वयक अपने-अपने संकुलों में न्यूनतम 5-5 मिडिल और प्रायमरी स्कूलों का आकस्मिक निरीक्षण करेंगे।

25 जुलाई तक देना होगा रिपोर्ट

सभी निरीक्षणकर्ता अधिकारी निरीक्षण के दौरान पायी जानी वाली समस्याओं के निराकरण के लिए संचालक लोक शिक्षण संचालनालय, प्रबंध संचालक समग्र शिक्षा अभियान, संचालक एससीईआरटी, प्रबंध संचालक हाथकरघा संघ, संभागीय संयुक्त संचालक, जिला शिक्षा अधिकारी तथा विकासखंड शिक्षा अधिकारी आदि से समन्वय स्थापित कर विभिन्न योजनाओं के क्रियान्वयन सुनिश्चित कराएंगे। सभी जिला शिक्षा अधिकारी अपने अधीन मैदानी अधिकारियों द्वारा निरीक्षण कार्य पूर्ण होने के बाद समीक्षा करेंगे। संक्षिप्त प्रतिवेदन अपने स्पष्ट अभिमत के साथ आवश्यक कार्रवाई के लिए 25 जुलाई तक  संभागीय संयुक्त संचालक को सौंपना होगा।

सयुंक्त संचालक संचालनालय को भेजेगा रिपोर्ट

संभागीय संयुक्त संचालक अपने अधीन मैदानी अधिकारियों द्वारा निरीक्षण कार्य पूर्ण होने के बाद समीक्षा करेंगे। संक्षिप्त प्रतिवेदन अपने स्पष्ट अभिमत के साथ तैयार करेंगे और आवश्यक कार्रवाई के लिए 30 जुलाई तक संचालक लोक शिक्षण संचालनालय रायपुर को उपलब्ध कराएंगे।

यह भी पढ़ें :पैर पड़ते ही दिमाग को घूमा देता है ये पौधा, मुख्यमंत्री को पंसद आया इस पर बनी फिल्म

सीएमआईई के आंकड़ों में छत्तीसगढ़ एक फिर बना सिरमौर, देश में सबसे कम बेरोजगारी दर अपने प्रदेश का

RELATED ARTICLES

Most Popular

error: Content is protected !!