Homeपंचांग-पुराणकार्तिक पूर्णिमा पर पूर्ण चंद्रग्रहण, 9 घंटा पहले शुरू हो जाएगा सूतक...

कार्तिक पूर्णिमा पर पूर्ण चंद्रग्रहण, 9 घंटा पहले शुरू हो जाएगा सूतक काल

कार्तिक पूर्णिमा पर साल 2022 का आखिरी चंद्र ग्रहण लगेगा। यह साल का दूसरा चंद्रग्रहण होगा। भारत में चंद्र ग्रहण दिखने के कारण इसका सूतककाल मान्य होगा। देश में सबसे पहले अरूणाचल प्रदेश में पूर्ण चंद्र ग्रहण देखने को मिलेगा।

देश की पूर्वोत्तर राज्यों में पूर्ण चंद्र ग्रहण जबकि बाकी जगहों पर आंशिक चंद्र ग्रहण का नजारा देखने को मिलेगा। 08 नवंबर को शाम के समय जैसे ही चंद्रोदय होगा। उसी समय चंद्र ग्रहण भारत में दिखाई देगा। यह चंद्र ग्रहण शाम 6 बजकर 19 मिनट पर खत्म हो जाएगा। 08 नवंबर, मंगलवार को देश-दुनिया में साल 2022 का आखिरी ग्रहण देखने को मिलेगा। यह ग्रहण पूर्ण चंद्रग्रहण होगा।

15 दिनों के अंतराल पर यह दूसरा ग्रहण होगा इसके पहले बीते 25 अक्टूबर को साल का आखिरी सूर्य ग्रहण लगा था। भारत में इस चंद्र ग्रहण को देखा जा सकेगा जिसके कारण ग्रहण का सूतक काल मान्य होगा। चंद्रग्रहण में सूतक काल ग्रहण के शुरू होने से 9 घंटे पहले यानी सुबह 6 बजे लगेगा। छत्तीसगढ़ रायपुर समेत अन्य शहरों में 5 बजकर 21 मिनट पर चंद्रग्रहण दिखाई देगा।

इसके अलावा भारत में पूर्वोत्तर राज्यों में पूर्ण चंद्र ग्रहण दिखेगा। भारत के अलावा 08 नवंबर को लगने वाला चंद्रग्रहण अमेरिका,ऑस्ट्रेलिया, एशिया और पेसिफिक में दिखाई देगा।

यह चंद्र ग्रहण कार्तिक पूर्णिमा पर देव दीपावली की तिथि पर लगेगा आपको बता दें कि 25 अक्टूबर को लगा साल का आखिरी सूर्य ग्रहण भी दिवाली के अगले दिन पर कार्तिक अमावस्या तिथि पर लगा था। भारत में यह चंद्रग्रहण शाम होते ही दिखाई देने लगेगा।

जानिए सूतक काल की स्थिति

चंद्र ग्रहण की तिथि: 08 नवंबर, सोमवार 2022

सूतक काल का समय: ग्रहण के 9 घंटा पहले यानी सुबह 6.39 बजे से

चंद्रग्रहण का समय : शाम 05 बजकर 28 मिनट से 06 बजकर 19 मिनट तक

चंद्रोदय का समय- 08 नवंबर शाम 5 बजकर 28 मिनट पर

यह भी पढ़ें: राशिफल: इन जातकों को धन संपत्ति, विवाह, करियर के मामले में शुभ फल मिलने वाले हैं

मिथुन और पलक मुच्छल ने सात फेरे लेकर सुर्खियों पर लगाया विराम

वैदिक ज्योतिष गणना के अनुसार सूर्य ग्रहण होने पर सूतक काल ग्रहण के शुरू होने से 12 घंटे पहले जबकि चंद्र ग्रहण होने पर 9 घंटे पहले से सूतक शुरू हो जाता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार ग्रहण पर सूतक काल को शुभ नहीं माना जाता है। सूतक काल के दौरान पूजा-पाठ और शुभ कार्य वर्जित होता है। 08 नवंबर को सुबह 6 बजकर 39 मिनट से सूतक काल आरंभ हो जाएगा जो ग्रहण की समाप्ति के साथ खत्म हो जाएगा।

RELATED ARTICLES

Most Popular

error: Content is protected !!