HomeEntertainmentछत्तीसगढ़ की कला, संस्कृति और फिल्म को आगे बढ़ाने के लिए सरकार...

छत्तीसगढ़ की कला, संस्कृति और फिल्म को आगे बढ़ाने के लिए सरकार कटिबद्ध-मुख्यमंत्री

शहीद स्मारक में आयोजित छत्तीसगढ़ी फिल्म महोत्सव में कलाकारों को मुख्यमंत्री ने किया सम्मान

रायपुर. मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने शनिवार को शहीद स्मारक भवन में आयोजित छत्तीसगढ़ी फिल्म महोत्सव (Chhattisgarhi Film Festival)में छत्तीसगढ़ी फिल्म उद्योग से जुड़े कलाकारों, निर्माता, निर्देशक, गीतकार, संगीतकार, गायक-गायिका व तकनीशियनों को स्मृति चिन्ह और प्रशस्ति भेंट कर सम्मानित किया। एक फिल्म का पोस्टर भी लॉन्च किया। इस मौके संस्कृति मंत्री अमरजीत भगत भी मौजूद थे।

“कहि देबे संदेश” छत्तीसगढ़ी फिल्मों का सफर

मुख्यमंत्री ने कलाकारों को बधाई देते हुए कहा कि,छत्तीसगढ़ी फिल्मों का सफर 1965 में “कहि देबे संदेश” और “घर-द्वार” से शुरू हुआ,जो निरंतर जारी है। उन्होंने ‘‘कहि देबे संदेश’’ को लेकर इस फिल्म ने तात्कालीन जातीय परिदृश्य पर करारा प्रहार किया था। वहीं ‘‘घर-द्वार’’ में टूटते पारिवारिक रिश्तों को रेखांकित किया गया था। लगभग हर छत्तीसगढ़ी फिल्म ने सामाजिक व्यवस्था और सामाजिक परिवेश को दर्शाया है।

अपनी संस्कृति को लेकर हमें गर्व होना चाहिए

मुख्यमंत्री ने कहा,छत्तीसगढ़ी फिल्म जगत ने बहुत से उतार-चढ़ाव देखा है और प्रयास को जारी रखा है। कलाकारों के लिए असली इनाम दर्शकों से मिलने वाला प्रतिसाद है।इन फिल्मों ने सामाजिक व्यवस्था, सामाजिक कुरीतियां और समाजिक परिवेश पर अपनी बात कही है। दर्शकों के मन में मनोरंजन के साथ फिल्मों के माध्यम से अपनी संस्कृति को लेकर गौरव की अनुभूति की अपेक्षा होती है।

Chhattisgarh
छत्तीसगढ़ी फिल्म महोत्सव में कलाकार को स्मृति चिन्ह प्रदान करते हुए मुख्यमंत्री बघेल, संस्कृति मंत्री अमरजीत भगत एवं संसदीय सचिव विकास उपाध्याय

फिल्म को आगे बढ़ाने के लिए सरकार कटिबद्ध 

उन्होंने आगे कहा छत्तीसगढ़ की कला, संस्कृति और फिल्म को आगे बढ़ाने के लिए राज्य सरकार कटिबद्ध है। संस्कृति मंत्री ने कैबिनेट में फिल्म नीति का प्रारूप पेश किया, जिसे कैबिनेट ने अनुमोदित भी कर दिया है।छत्तीसगढ़ी फिल्म नीति(Chhattisgarhi Film Policy) बनने से छत्तीसगढ़ी फिल्म उद्योग और पर्यटन को बढ़ावा मिल रहा है।

शूटिंग के लिए प्रदेश में उपयुक्त स्थल

छत्तीसगढ़ में ही ऐसे अनेक मनोरम स्थान हैं, जो फिल्मों के शूटिंग के लिए उपयुक्त हैं। फिल्म नीति के साथ ही राज्य सरकार की नीतियों से अब ऐसा वातावरण तैयार हुआ है, जिससे अन्य प्रदेशों के फिल्मकारों की रुचि भी छत्तीसगढ़ को लेकर बढ़ी है

मुख्यमंत्री ने छत्तीसगढ़ का मान बढ़ाया-संस्कृति मंत्री

कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे संस्कृति मंत्री अमरजीत भगत ने कहा कि, मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने हर मौके पर छत्तीसगढ़ का मान बढ़ाया है। उनकी सोच है कि छत्तीसगढ़ की कला, साहित्य, संस्कृति और फिल्म आगे बढ़े। पिछले 15 साल में फिल्म नीति नहीं बनी थी, लेकिन मुख्यमंत्री जी ने इसके लिए पहल की।

अवॉर्ड जीतने वाली फिल्म होंगे पुस्कृत

फिल्म नीति नहीं होने से स्थानीय कलाकारों के पास विजन भी नहीं था, अब छत्तीसगढ़ फिल्म नीति बनने से यहां के कलाकारों और फिल्म जगत से जुड़े लोगों को विजन मिला है। उन्होंने नेशनल अवॉर्ड जीतने वाली फिल्म को एक करोड़ रुपये और इंटरनेशनल अवॉर्ड जीतने पर पांच करोड़ रुपये की प्रोत्साहन राशि राज्य सरकार की ओर से देने के प्रावधान का विशेष रूप से उल्लेख किया। संस्कृति मंत्री ने उम्मीद जताई कि छत्तीसगढ़ी फिल्म नीति और राज्य सरकार द्वारा स्थानीय फिल्म उद्योग को दिए जा रहे प्रोत्साहन के फलस्वरूप नित नयी कड़ी छत्तीसगढ़ी फिल्मों की उपलब्धि में जुड़ेगी। छत्तीसगढ़ी फिल्म उद्योग नए कीर्तिमान स्थापित करेगा। कार्यक्रम में संसदीय सचिव विकास उपाध्याय, राज्य खाद्य आयोग के अध्यक्ष गुरप्रीत सिंह बाबरा विशेष रूप से मौजूद थे।

यह भी पढ़ें: मुख्यमंत्री नोनी सशक्तिकरण योजना से बेटियों के सपने होंगे साकार

समानता ही हिन्दुस्तान की ताकत है- मुख्यमंत्री

भारी बारिश की आशंका,मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को अलर्ट रहने के दिए निर्देश

धान खरीदी के मुद्दे को लेकर सदन में हंगामा,मुख्यमंत्री ने कहा धान खरीदी के लिए केन्द्र नहीं देता पैसे

बारिश में निचली बस्ती के सड़क नाली हुए लबालब,महापौर नीरज ने लिया जायजा

RELATED ARTICLES

Most Popular

error: Content is protected !!