Homeधर्म-समाजओणम पर्व: पारंपरिक परिधान में नजर आए विधायक देवेन्द्र, साझा की छात्र...

ओणम पर्व: पारंपरिक परिधान में नजर आए विधायक देवेन्द्र, साझा की छात्र जीवन के अनछूए पहलू

  • ओणम लंच में भिलाई नायर समाजम ने बांटी खुशियां
  • विधायक ने स्कूल परिसर में निर्मित बास्केट बाल कोर्ट का लोकार्पण किया
  • बीएनएस स्कूल में स्कीन क्लीनिक का किया शुभारंभ  

भिलाई. ओणम का त्‍योहार (Onam Festival 2022) दक्षिण भारत, खासकर केरल में बहुत धूमधाम से मनाया जाता है। ओणम का उत्साह रविवार को मिनी इंडिया कहे जाने वाले भिलाई में देखने को मिली। भिलाई नायर समाजम (Bhilai Nair Samajam) ने सेक्टर 8 स्थित भिलाई नायर समाजम स्कूल में धूमधाम से ओणम महोत्सव मनाया। जनप्रतिनिधियों और शहरवासियों को ओणम लंच में आमंत्रित कर खुशियां बांटी।

जहां बतौर मुख्य अतिथि भिलाई नगर विधायक देवेन्द्र यादव अपनी धर्म पत्नी डॉ श्रुतिका ताम्रकार यादव के साथ ओणम लंच शामिल हुए। इस दौरान विधायक यादव केरल की पारंपरिक वेशभूषा धोती कुर्ता में नजर आए। दीप प्रज्वलन कर भगवान विष्णु के वामन अवतार और राजा बलि की पूजा अर्चना कर अपने गुरुजनों का आशीर्वाद लिया। स्कूल परिसर में निर्मित बास्केट बाल कोर्ट का लोकार्पण किया। चिकित्सा क्लीनिक का भी शुभारंभ किया।

Chhattisgarh
राजा बलि की पूजा करते हुए विधायक देवेन्द्र यादव, डॉ श्रुतिका ताम्रकार, एमआईसी सदस्य लक्ष्मीपति राजू, पार्षद सुभद्रा सिंह एवं नायर समाजम के पदाधिकारी

गणमान्य अतिथियों के साथ उठाया लजीज व्यंजनों का लुत्फ

ओणम लंच में शहर के गणमान्य अतिथियों के साथ विधायक यादव ने केरल के प्रसिद्ध एवं दर्जनों प्रकार के लजीज व्यंजनों का लुत्फ उठाया। ओणम लंच में दुर्ग सांसद विजय बघेल, पूर्व मंत्री प्रेम प्रकाश पांडेय, नगर पालिक निगम के लोक स्वास्थ्य विभाग के अध्यक्ष लक्ष्मीपति राजू, पार्षद सुभद्रा सिंह शामिल हुए।

Chhattisgarh
भिलाई नायर समाजम के कार्यक्रम में मंचासीन अतिथिगण

स्कूल से ही मिली चुनाव लड़ने की प्रेरणा

विधायक ने इस मौके पर छात्र जीवन को याद करते कहा कि, उन्होंने राजनीति में जाने की प्रेरणा भिलाई नायर समाजम स्कूल से ही मिली। उन्होंने कहा कि जब वे कक्षा 7वीं के छात्र थे। तब स्कूल में छात्रसंघ चुनाव हुआ। उस समय स्कूल के कैप्टन बनने के लिए छात्र छात्राओं बड़े उत्साहित थे। सब आपस में ग्रुप बनाकर चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे थे। सीनियरों के उत्साहित देख मैंने भी ठाना कि जब वे कक्षा 11वीं में जाएंगे तो कैप्टन पद के लिए चुनाव लड़ेंगे। कक्षा 11वीं में चुनाव लड़ा और जीत भी गया। इसके बाद कक्षा 12वीं में भी कैप्टन चुने गए। इसके बाद से वे मित्रों और गुरुजनों के आशीर्वाद से लगातार छात्र राजनीति के क्षेत्र में आगे बढ़ते गए। फिर 2015 में नगर पालिक निगम भिलाई मेयर के चुनाव में शहरवासियों ने अपना स्नेह और आशीर्वाद देकर महापौर बनाया और आज, आप सभी के आर्शीवाद और स्नेह से भिलाई नगर विधानसभा क्षेत्र से जनसेवक के रूप में प्रतिनिधित्व करने का मौका मिला है।

ओणम का त्योहार 8 सितंबर 

ओणम पर्व का खेती और किसानों से गहरा संबंध है। किसान अपने फसलों की सुरक्षा और अच्छी उपज के लिए श्रावण देवता और पुष्पदेवी की आराधना करते हैं। फसल पकने की खुशी लोगों के मन में एक नई उम्मीद और विश्वास जगाती है। ओणम मुख्यत: केरल, तमिलनाडु समेत दक्षिण भारत के राज्यों में मनाया जाता है। मलयालम सौर कैलेंडर के आधार पर ओणम चिंगम माह में मनाते हैं। इस साल ओणम का त्योहार 08 सितंबर दिन गुरुवार को मनाया जाएगा।

Chhattisgarh
ओणम महोत्सव में शामिल हुए शहरवासी

ओणम त्योहार के पीछे यह है पौराणिक मान्यता

ओणम का त्योहार भगवान विष्णु के वामन अवतार और राजा बलि के दोबारा पृथ्वी पर आने के उत्सव में मनाया जाता है। धार्मिक मान्यता है कि राजा बलि हर साल ओणम के समय पाताल लोक से पृथ्वी पर आते हैं। पाताल से पृथ्वी लोक की यात्रा के उपलक्ष्य में ओणम का त्योहार मनाते हैं। वामन अवतार के समय भगवान विष्णु ने दान में तीन पग भूमि लेकर अपने भक्त बलि को पाताल लोक का राजा बना दिया था। ऐसी मान्यता है कि ओणम के दिन राजा बलि अपनी प्रजा से मिलने के लिए पृथ्वी पर आते हैं और उनके घरों में जाते हैं। इसके उपलक्ष्य में लोग अपने घरों की सजावट करते हैं और अपने राजा के आगमन की तैयारी करते हैं।

यह भी पढ़ें:होटल में लगी आग, मचा अफरा तफरी

हाईड्रोलिक तार टूटने से 50 फीट की ऊंचाई से नीचे गिरा झूला, 13 घायल

सीबीआई ने एचसीएल के दो पूर्व सीएमडी और कार्यकारी निदेशक के खिलाफ दर्ज किया अपराध

RELATED ARTICLES

Most Popular

error: Content is protected !!