Homeधर्म-समाजक्या जमाना आ गया है...पत्नी को हुआ कैंसर तो पति ने निकाल...

क्या जमाना आ गया है…पत्नी को हुआ कैंसर तो पति ने निकाल दिया घर से, अब एडिशनल एसपी करेंगे मामले की जांच

रायपुर.कहा जाता है कि पति-पत्नी गृहस्थ रूपी गाड़ी के दाे पहिए हैं। जिसमें एक पहिए न होने पर गृहस्थी की गाड़ी नहीं चलती।दोनों को हर सुख दुख में एक दूसरे का साथ देना चाहिए, लेकिन जांजगीर चांपा में कहावत के विपरीत मामला सामने आया है। कैंसर से पीड़ित पत्नी को बेहतर इलाज कराने में साथ देने के बजाय पति ने उसे घर से ही निकाल दिया है और समाज के माध्यम से तलाक देने के लिए दबाव बना रहे हैं। इस मामले को राज्य महिला आयोग ने संज्ञान में लिया है।आयोग की अध्यक्ष डॉ किरणमयी नायक ने एडिशनल एसपी को जांच के निर्देश दिए हैं।

जांजगीर चांपा के जिला पंचायत के सभागार में बुधवार को हुई सुनवाई में पीड़िता ने आयोग को आपबीती सुनवाई। पीड़िता ने आयोग को बताया कि जब मुझे कैंसर होना पता चला तो पति द्वारा समाज से तलाक का दबाव डाल रहे हैं और घर से भी निकाल दिए हैं। इसकी थाने में शिकायत की, लेकिन वहां सुनवाई नहीं हुई। इस पर आयोग की अध्यक्ष डॉ किरणमयी नायक ने इस मामले में जांजगीर-चांपा एडिशनल एसपी को इस प्रकरण को पुन:जांच करने के निर्देश दिए हैं। इस मामले की निगरानी आयोग की सदस्य शशिकांता राठौर स्वयं करेंगी।

advt

इसी तरह एक अन्य प्रकरण में आयोग ने पति पत्नी के मध्य चल रहे विवाद से जुड़े प्रकरण की सुनवाई की। मासूम बच्चे के भविष्य के लिए दोनो 5-5 शर्तें निर्धारित की गई। साथ ही अगली सुनवाई में दोनों को बच्ची सहित आयोग की सदस्य शशिकांता राठौर के समक्ष उपस्थित होने के निर्देश दिए हैं। बता दें कि पति-पत्नी दोनो शिक्षक है। एक समान वेतन मिलता है दोनो 10 किलोमीटर पर अलग-अलग रहते हैं। पति 8 साल की बच्ची को अपने पास रख लिया है और बच्ची को पत्नी से मिलने नहीं दे रहा है। आयोग ने इस मामले में आयोग ने दोनों को दोषी मानते हुए समझाइश दिया है।

यह भी पढ़ें :हत्या के आरोप में भाजपा से निलंबित युवा नेता गिरफ्तार, फॉर्चूनर जब्त

चोरी के जेवरात और इलेक्ट्रानिक सामान बेचने निकले थे चाेर, सभी पकड़े गए

RELATED ARTICLES

Most Popular

error: Content is protected !!