Homeदेशमनी लांड्रिंग के मामले में आइएएस बिश्नोई और समेत तीन गिरफ्तार

मनी लांड्रिंग के मामले में आइएएस बिश्नोई और समेत तीन गिरफ्तार

रायपुर.प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने मनी लांड्रिंग के मामले में आइएएस समीर बिश्नोई,कारोबारी सुनील अग्रवाल और लक्ष्मीकांत तिवारी को गिरफ्तार करके को कोर्ट में पेश किया। ईडी ने सभी सात दिन की रिमांड मांगी है। ईडी ने मंगलवार को प्रदेश के तीन आइएएस अधिकारियों सहित 16 कारोबारियों के ठिकानों पर एक साथ छापामार कार्रवाई की थी।

ईडी की टीम ने दोपहर एक बजे तब समीर बिश्नोई, सुनील अग्रवाल और लक्ष्मीकांत तिवारी से पूछताछ की। इसके बाद सभी का अस्पताल में मेडिकल चेकअप कराया गया। करीब तीन बजे कोर्ट में पेश किया गया। उधर, समीर विश्नोई की पत्नी ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से मुलाकात कर ईडी के जबरदस्ती परेशान करने की शिकायत की है। बिश्नोई की पत्नी ने कहा कि समीर को लीवर सिरोसिस की दिक्कत है। उनकी दवा उपलब्ध करवाने की व्यवस्था करें।

ईडी के आला अधिकारियों ने बताया कि आइएएस अधिकारियों और कारोबारियों के खिलाफ जांच को पुख्ता करने के लिए ईडी के डायरेक्टर संजय मिश्रा बुधवार को रायपुर पहुंचे थे। उनके साथ आइपीएस अभिषेक गोयल भी मौजूद थे। ईडी के वकीलों ने बुधवार शाम से ही कोर्ट की कार्रवाई को शुरू कर दिया था। देर रात गिरफ्तारी के बाद वकीलों ने रायपुर कोर्ट में गुरुवार की सुबह करीब 11 बजे आवेदन पेश किया।

कलेक्टर ने जांच में सहयोग का आश्वासन दिया है

ईडी ने कोर्ट में बताया कि समीर विश्नोई के आवास से चार किलो सोना,20 कैरेट का हीरा और 47 लाख रुपए कैश मिले हैं। वहीं,रायगढ़ कलेक्टर रानू साहू से पूछताछ करने ईडी की एक बस में सीआरपीएफ जवानों के साथ पहुंची। रानू ने एक दिन पहले ही ईडी को जांच में सहयोग का आश्वासन दिया था।

ईडी के अधिकारियों ने रायगढ़ में खनिज विभाग के दफ्तर की भी जांच की और दस्तावेज जब्त किए। इस बीच, ईडी ने कार्रवाई का दायरा बढ़ाते हुए कोरबा कलेक्टर संजीव झा से भी पूछताछ की है। बताया जा रहा है कि डीएमएफ में गड़बड़ी को लेकर ईडी की टीम कलेक्टर से पूछताछ कर रही है।

 

बता दें कि रायगढ़ कलेक्टर रानू साहू कोरबा कलेक्टर के पद पर पदस्थ थी। रानू के सरकारी आवास पर ईडी ने मंगलवार सुबह छापा मारा था, लेकिन वह हैदराबाद में इलाज कराने के कारण उपलब्ध नहीं थी। गुरुवार को टीम ने रानू की मौजूदगी में कलेक्टर बंगले की जांच शुरू की है। धिकारी और कारोबारी खनिज परिवहन में हेराफेरी के मामले में फंसे हैं। कारोबारियों के साथ सांठगांठ करके अफसरों ने करोड़ों रुपए की अफरातफरी की। अब तक ईडी ने अधिकारियों और कारोबारियों के ठिकानों से करीब दस करोड़ रुपए नगद जब्त किए हैं।

पहले चेकअप, फिर किया कोर्ट में पेश

 

एक दिन पहले पहुंचे थे ईडी के डायरेक्टर

 

 

ईडी की टीम ने आइएएस समीर बिश्नोई, जयप्रकाश मौर्या, रानू साहू, संजीव झा से अब तक पूछताछ की है। इसके साथ ही पूर्व विधायक और बीज विकास निगम के अध्यक्ष अग्नि चंद्राकर, कारोबारी सूर्यकांत तिवारी, सीए अजय मालू, एलके तिवारी, नवनीत तिवारी, लक्ष्मी तिवारी, रजनी तिवारी, बादल मक्कड़, सन्नी लूनिया, अजय नायडू के आवास में जांच की है। कोयला कारोबारी सुनील अग्रवाल, शराब कारोबारी प्रिंस भाटिया की भी जांच चल रही है। खनिज विभाग के डिप्टी डायरेक्टर शिव शंकर नाग से पूछताछ की गई है।

यहां एक साथ हुई कार्रवाई

ईडी की टीम ने मंगलवार सुबह छह बजे रायपुर, दुर्ग-भिलाई, महासमुंद, बिलासपुर, रायगढ़ और कोरबा में एक साथ कार्रवाई की।

RELATED ARTICLES

Most Popular

error: Content is protected !!