Homeराज्यविधायक देवेन्द्र ने विधानसभा में उठाया बीएसपी में जान गंवाने वाले ठेका...

विधायक देवेन्द्र ने विधानसभा में उठाया बीएसपी में जान गंवाने वाले ठेका श्रमिकों के आश्रितों को अनुकंपा नियुक्ति का मुद्दा

रायपुर. छत्तीसगढ़ विधानसभा के सदन में शुक्रवार को भिलाई इस्पात संयंत्र(BSP) का मुद्दा गुंजा।भिलाई नगर विधायक देवेंद्र यादव ने प्रश्नकाल में बीएसपी में कार्य के दौरान जान गंवाने वाले ठेका श्रमिकों के आश्रित परिवार को अनुकंपा नियुक्ति नहीं दिए जाने का मामला उठाया। सदन से जांच समिति बनाकर श्रमिकों के हित में मृतक परिवार के आश्रितों को अनुकंपा नियुक्ति दिलाने में मदद करने करने की मांग की।

विधायक देवेंद्र यादव ने सदन में कहा कि,सेल के सबसे बड़े यूनिट भिलाई स्टील प्लांट में बार-बार दुर्घटना होती है। इन एक्सीडेंट में ठेका श्रमिकों की मौत हो जाती है। कई लोग घायल हो जाते हैं और बीएसपी प्रबंधन अपनी जान जोखिम में डाल कर ड्यूटी करने वाले श्रमिकों की मौत के बाद उनके परिजनों अनुकंपा नियुक्ति देने से मुकर जाते हैं। घटना के बाद लिखित में आश्रितों को अनुकंपा नियुक्ति दिए जाने का आश्वासन दिया जाता है और बाद में उन्हें घुमाया जाता है।

3 सालों में 15 मौतें हुई

विधायक देवेन्द्र ने सदन में सवाल उठाया कि पिछले तीन साल में  बीएसपी में कितनी घटनाएं हुई, बीएसपी में सुरक्षा की क्या व्यवस्था है, दुर्घटनाओं का क्या कारण है, मृतकों के परिवारों को अनुकंपा नियुक्ति दी जाएगी क्या? जवाब में श्रम मंत्री शिव डहरिया ने बताया कि पिछले 3 सालों में भिलाई इस्पात संयंत्र में 15 मौतें हुई हैं। 9 लोग घायल हुए हैं। मंत्री ने माना कि भिलाई स्टील प्लांट द्वारा दुर्घटना वाले क्षेत्र में सुरक्षा जांच के बिना काम कराया जाता है। जबकि सुरक्षा की जिम्मेदारी भिलाई स्टील प्लांट का ही है।

मंत्री के जवाब पर विधायक ने सदन से मांग किया कि बीएसपी में मजदूरों के परिजनों को भी समय पर अनुकंपा नियुक्ति दी जाए। इसके लिए राज्य स्तरीय एक समिति बनाने का सुझाव दिया। ताकि समिति इस तरह के मामलों पर सहयोग करें और समायावधि में मजदूरों के परिजनों को अनुकंपना नियुक्ति दिलाने में मदद करें।

यह भी पढ़ें: बीएसपी के आवासों में मटमैला गंदे पानी सप्लाई, गोलमोल जवाब से नाराज हुए कलेक्टर

मंत्री शिव डहरिया ने बताया कि श्रम अधिनियम में श्रमिकों की मृत्यु पर परिजनों को अनुकंपा नियुक्ति का प्रावधान नहीं है, लेकिन श्रम विभाग मानवीय आधार पर अनुकंपा दिलाने का प्रयास करता है। नियमित मृत श्रमकों के 4 परिजनों को अनुकंपा नियुक्ति दी गई है। मंत्री के जवाब से विधायक देवेंद्र यादव ने असंतुष्टि जताई। उन्होंने कहा कि भिलाई स्टील प्लांट श्रम विभाग की सुन नहीं रहा है।

विधानसभा अध्यक्ष ने दिए निर्देश 

विधानसभा अध्यक्ष डॉ.चरणदास महंत ने मंत्री को भिलाई इस्पात संयंत्र प्रबंधन को कड़ाई करने के लिए निर्देशित किया। श्रम कानून के तहत नियमों का पालन करवाने कहा।

40 बार हुई जांच 38 बार कमियां मिली

बता दें कि बीएसपी में 2019 से लेकर 2022 तक यानी पिछले तीन साल में राज्य शासन की जांच समिति ने 40 बार बीएसपी की सुरक्षा की जांच की है। इसमें 38 बार खामियां पाई गई है। समिति ने हर बार बीएसपी प्रबंधन को खामियों को दूर करने के लिए निर्देशित किया, लेकिन बीएसपी प्रबंधन ने कोई पहल नहीं की।

यह भी पढ़ें:15वीं राष्ट्रपति: संयम और संघर्ष ने मुर्मू को पहुंचाया देश के सर्वोच्च पद पर

नवनिर्वाचित राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू को मुख्यमंत्री बघेल ने दी बधाई और शुभकामनाएं

हिदायतुल्लाह राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय का दीक्षांत समारोह 31 को

RELATED ARTICLES

Most Popular

error: Content is protected !!