Homeदेशरावघाट से लौह अयस्क की पहली खेप बीएसपी पहुंचने पर सीएम ने...

रावघाट से लौह अयस्क की पहली खेप बीएसपी पहुंचने पर सीएम ने ट्वीट कर दी बधाई, कहा ये वही रावघाट है जिसे भाजपा की सरकार निजी हाथों में देने था तैयार

भिलाई.भिलाई स्टील प्लांट(BSP) की महत्वाकांक्षी रावघाट से लौह अयस्क परियोजना(Iron Ore from Rawghat Project)परियोजना की लंबी प्रतीक्षा समाप्त हो गई। रावघाट से लौह अयस्क की आपूर्ति शुरू हो गई है और रविवार को आयरन ओर की पहली खेप भिलाई इस्पात प्लांट पहुंची। जहां बीएसपी के प्रभारी निदेशक अनिर्बान दासगुप्ता( Bsp Director-in-Charge Anirban Dasgupta) ने अन्य अधिकारियों ने रैक का स्वागत किया। बता दें कि अंजरेल से उत्खनन किए गए लौह अयस्क के प्रथम 21 रैक का तकनीक ट्रायल के तहत अंतागढ़ से भिलाई इस्पात संयंत्र लाया गया है।

इस बड़ी परियोजना के शुरू होने पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने ट्वीट कर बधाई दी है। मुख्यमंत्री ने अपने ट्वीट में लिखा है कि रावघाट से लौह अयस्क की पहली खेप आज भिलाई इस्पात संयंत्र पहुंची, लंबी प्रतीक्षा समाप्त हुई।

chhattisgarh

सबको बहुत बहुत बधाई।

ये वही रावघाट है जिसे एक समय भाजपा की सरकार निजी हाथों में देने का फ़ैसला कर चुकी थी। हमने संघर्ष शुरू किया, सीबीआई में शिकायत की तब कहीं जाकर यह खदान बचाई जा सकी।

10 महीने बाद पहुंचा 
रावघाट लौह अयस्क खदान क्षेत्र के एफ ब्लाक के अंजरेल क्षेत्र में दिसंबर 2021 से बीएसपी ने लौह अयस्क उत्खनन का कार्य शुरू किया गया है। खनन शुरू होने के 10 महीने बाद लौह अयस्क की पहली खेप भिलाई पहुंची है। यहां से हर साल 3 लाख टन अयस्क खनन किया जाएगा। रेल लाइन के माध्यम से भिलाई लाया जाएगा। इसके लिए दल्ली राजहरा से नारायणपुर तक अंतागढ़ होते हुए रेल लाइन भी बिछाया जाना है। दल्ली राजहरा से अंतागढ़ तक की 60 किलोमीटर लंबी रेललाइन बिछाई जा चुकी है। बताया जाता है कि अंजरेल से प्राप्त लौह अयस्क में 62 फीसदी तक आयरन (एफई) की मात्रा है।

chhattisgarh
बीएसपी के प्रभारी निदेशक अनिर्बान दास एवं अन्य अधिकारी

इस मौके पर संयंत्र के निदेशक प्रभारी अनिर्बान दासगुप्ता ने कहा कि यह गर्व की बात है कि छत्तीसगढ़ की धरती से लौह अयस्क ब्लास्ट फर्नेस स्टील मेल्टिंग शॉप तक पहुंचता है। विश्व स्तरीय उत्पादों जैसे रेल में परिवर्तित हो जाता है। उन्होंने कहा कि रावघाट में रामकृष्ण मिशन, बीएसएफ से मिलकर कार्य कर रहें है। पूरा भरोसा है कि दल्ली राजहरा रावघाट से अयस्क के लिए लाभकारी क्षेत्र के रूप में कार्य करेगा।

यह भी पढ़ें: दर्दनाक हादसा:प्रतिमा विसर्जन के लिए जा रहे ट्रेलर को कार ने मारी ठोकर,दो युवक की मौत

अकल्पनीय प्रेम: मालिक की मौत पर दूर गांव से मुक्तिधाम पहुंच गया बछड़ा,ग्रामीणों के साथ निभाई अंतिम संस्कार की रस्म

RELATED ARTICLES

Most Popular

error: Content is protected !!