HomeAdministrationतीन साल से जमे पटवारियों का होगा तबादला

तीन साल से जमे पटवारियों का होगा तबादला

मुख्यमंत्री ने राजस्व प्रकरणों का निराकरण करने के निर्देश दिए
फसल क्षति के मामलों में किसानों को राहत राशि दिलाने कहा
कमिश्नर और कलेक्टर नियमित रूप से करें तहसीलों का निरीक्षण

 

रायपुर.मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कलेक्टर कॉन्फ्रेंस के दूसरे दिन रविवार को राजस्व विभाग के काम-काज की विस्तार से समीक्षा की। उन्होंने राजस्व विभाग की कार्यप्रणाली पर नाराजगी जताई। कलेक्टरों से कहा कि राजस्व का काम-काज चुस्त-दुरूस्त होना चाहिए। राजस्व विभाग के अधिकारी-कर्मचारी अपनी कार्यशैली में बदलाव लाएं। लोगों के काम समय-सीमा के अंदर निराकरण करें।

 

मुख्यमंत्री ने कलेक्टरों से कहा कि 3 साल से एक स्थान पर जमे पटवारियों का तबादला करें। उन्होंने शहरी क्षेत्रों में सीमांकन प्रकरणों में देरी पर भी गहरी अप्रसन्नता व्यक्त की और कहा कि इन क्षेत्रों में राजस्व अमलों को बदला जाए। उन्होंने ने कहा कि सीमांकन प्रकरणों का निराकरण समय-सीमा में होना चाहिए। इसी प्रकार नए जिलों में लोगों को राजस्व प्रकरणों के शीघ्र निराकरण का लाभ मिलना चाहिए।

 

मुख्यमंत्री ने कलेक्टर और कमिश्नर को तहसील कार्यालयों का नियमित रूप से निरीक्षण करने कहा। अतिवृष्टि एवं अल्पवृष्टि से फसल क्षति की समीक्षा करते हुए सभी कलेक्टरों को संवेदनशीलता के साथ प्रभावित किसानों को समय सीमा में आरबीसी 6(4) अंतर्गत राहत राशि दिलाने के निर्देश दिए।

 

राजस्व विभाग की समीक्षा में मुख्यमंत्री ने कहा कि नामांतरण के लंबित प्रकरणों का समय सीमा में निराकरण होना चाहिए। सभी राजस्व प्रकरणों को समय सीमा में निपटाएं। लोगों को राजस्व प्रकरणों में देरी से परेशानी नहीं होनी चाहिए। लोगों के कार्य को समय सीमा में न करने पर अधिकारियों को कड़ी चेतावनी देते हुए कहा कि भ्रष्टाचार की शिकायत पाए जाने पर सख्त कार्रवाई की जाएंगी। उन्होंने राजस्व आय की प्राप्तियों पर भी विशेष ध्यान देने के निर्देश दिए।

बैगा, गुनिया, पुजारियों को मिले न्याय योजना लाभ

मुख्यमंत्री ने कहा कि राजस्व विभाग द्वारा संचालित किए जा रहे राजीव गांधी ग्रामीण भूमिहीन कृषि मजदूर न्याय योजना में बैगा, गुनिया, पुजारियों को भी योजना में जोड़ा गया है। इस योजना के हितग्राहियों को योजना की जानकारी के साथ-साथ उन्हें योजना का लाभ दिलाएं।

पर्यटन की दृष्टि से विकसित होगा गंगरेल डेम का आइलैंड

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य के पर्यटन स्थलों में पर्यटकों को रात रुकने के लिए अच्छे होटल होना जरूरी है। उन्होंने गंगरेल डेम में आइलैंड को पर्यटन की दृष्टि से विकसित करने भी कहा। उन्होंने कहा कि बेहतर आवासीय सुविधा देने राज्य और देश के विभिन्न स्थानों से आने वाले पर्यटकों की संख्या में बढोत्तरी होगी। इससे पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा साथ ही स्थानीय लोगों को रोजगार के अवसरों में भी वृद्धि होगी।

राम वन गमन पर्यटन परिपथ में आवासीय सुविधा

राम वन गमन परिपथ में हो रहे विकास कार्यों की समीक्षा के दौरान मुख्यमंत्री ने कहा परिपथ में आने वाले महत्वपूर्ण स्थलों में पर्यटकों को आवासीय सुविधा देने की व्यवस्था होनी चाहिए। इसके लिए कॉन्सेप्ट प्लान में आवास के प्रावधान को शामिल किया जाए।बैठक में मुख्य सचिव अमिताभ जैन, अपर मुख्य सचिव सुब्रत साहू, रेणु जी. पिल्ले, पीसीसीएफ संजय शुक्ला सहित सभी संभागों के राजस्व कमिश्नर, जिलों के कलेक्टर भी मौजूद रहे।

ज्चेलरी शॉप से चोरी करने वाली दो महिलाएं गिरफ्तार

कोण्डागांव में होगा बंदोबस्त सर्वे

मुख्यमंत्री ने राजस्व सचिव और कोंडागांव कलेक्टर को कोंडागांव ज़िले में बंदोबस्त सर्वे कराने के निर्देश दिए। उन्होंने इसके लिए कलेक्टर को कार्ययोजना बनाकर तत्काल कार्रवाई करने को कहा है। उन्होंने बंदोबस्त सर्वे के लिए कमिश्नर और पुराने एसएलआर का भी सहयोग लेने के निर्देश दिए।इसी प्रकार बंदाेबस्त कार्य में रिटायर राजस्व अधिकारियों का सहयोग लेने को भी कहा।

यह भी पढ़ें:बारिश में खराब हुई सड़कों के गढ्डे भरे, ईईपीडब्ल्यूडी को नोटिस

Chhattisgarhia Olympics को लेकर लोगों में जबरदस्त उत्साह,महापौर ने कबड्‌डी में दिखाया दमखम

Chhattisgarhia Olympics:महिलाएं चढ़ी गेड़ी, रस्साकसी में दिखाया दम

RELATED ARTICLES

Most Popular

error: Content is protected !!