HomeAdministrationसोशल मीडिया में फेक न्यूज पोस्ट या फारवर्ड करने वालों पर पुलिस...

सोशल मीडिया में फेक न्यूज पोस्ट या फारवर्ड करने वालों पर पुलिस टीम की नजर

  • कलेक्टर, एसपी की मौजूदगी में हुई जिला प्रशासन के अधिकारियों की बैठक 
  • कोटवारों को प्रशिक्षित कर जिले के इनफॉर्मेशन स्ट्रक्चर को किया जाएगा मजबूत
  • सड़क दुर्घटनाओं की लगातार मॉनिटरिंग कर रिपोर्ट बनाएंगे अधिकारी ताकि सड़क दुर्घटनाओं पर लग सके अंकुश

दुर्ग. बेहतर कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिये कलेक्टर पुष्पेन्द्र कुमार मीणा की अध्यक्षता एवं पुलिस अधीक्षक डॉ अभिषेक पल्लव की मौजूदगी में जिला प्रशासन व पुलिस विभाग के प्रमुख अधिकारियों की बैठक हुई। जहां कलेक्टर मीणा ने पुलिस अधीक्षक से जिले में सुरक्षा व्यवस्था की तैयारियों की जानकारी ली।

 

सड़क सुरक्षा, सामाजिक सौहाद्रता, सोशल मीडिया में भ्रामक जानकारियां फैलने की स्थिति, वी.आई.पी आयोजन एवं पुलिस विभाग के सूचना तंत्र के विषय में अधिकारियों से चर्चा कर आवश्यक निर्देश दिए। पुलिस अधीक्षक ने सभी अधिकारियों को संयम से काम लेने और सभ्य भाषा के इस्तेमाल की हिदायत दी। किसी भी हालत में अभद्र भाषा का प्रयोग पुलिस अधिकारी, कर्मचारी न करें इस बात का विशेष ध्यान रखा जाए।

 अधिकारी करेंगे मॉनिटरिंग

कलेक्टर ने जिले में सामाजिक सौहाद्रता और अखंडता बनाए रखने के लिए सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म में फेक न्यूज पर नियंत्रण के लिए हर संभव प्रयास करने कहा। उन्होंने अधिकारियों को जिले के विभिन्न वाट्स ऐप ग्रुप्स की मॉनिटरिंग करने के निर्देश और सामाजिक सौहाद्रता, देश की एकता एवं अखंडता में बाधा उत्पन्न करने वाले लोगों के खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई के निर्देश दिए।

सोहद्रा ने मुख्यमंत्री से कहा, गैस सिलिंडर के कीमत ल कम करवा देतेस दाऊजी

पुलिस विभाग के अधिकारियों से जानकारी मांगने पर कोई अधिकारी जानकारी देने के लिए घबराएं नहीं जो जांच कर रहा है टाईमली रिस्पांड करें ताकि पब्लिक के बीच कोई भ्रांति न फैले। जिले में शांति बनाए रखने के लिए पुलिस करेगी आदतन बदमाशों की निगरानी अपराधिक मानसिकता के लोगों व आदतन बदमाशों की सूची बनाकर उनकी गतिविधियों की लगातार निगरानी होती रहनी चाहिए। ताकि अपराध की संभावनाओं में कमी लाई जा सके।

अपेक्स बैंक के नव नियुक्त संचालक मंडल ने पदभार ग्रहण किया

कलेक्टर ने कहा कोटवार पुलिस विभाग के इनफॉर्मेसन सिस्टम की इकाई है। उस इकाई को इतना मजबूत करें कि ग्रामीण स्तर पर छोटी से छोटी सूचना त्वरित मिल जाए। उन्होंने जिले के इनफॉर्मेशन स्ट्रक्चर को मजबूत करने के लिए एसडीएम को जिले के कोटवारों की सूची बनाकर उनके कार्यों की समीक्षा करने के निर्देश दिए। साथ ही अयोग्य कोटवारों को सेवा से मुक्त कर नियमानुसार योग्य लोगों को नियुक्त करने के निर्देश दिए। कोटवारों को ब्लाक और जिला स्तर पर पुलिस एवं जिला प्रशासन द्वारा प्रशिक्षण देने के लिए निर्देशित भी किया।

बिजली बिल को लेकर जबरन हो हल्ला मचा रहे हैं भाजपाई- प्रवक्ता जावेद

सड़क दुर्घटनाएं रोकना एक मानवीय कार्य है और प्रशासन की जिम्मेदारी है। सड़क दुर्घटना के मामले में  एस.डी.एम. व थानेदार मौके पर जाकर कारणों की समीक्षा करें। इसकी रिपोर्ट दें, ताकि दुर्घटनाओं को रोकने के लिए संभावित प्रयास किए जा सकें। हाईवे/पुलिस पेट्रोलिंग और पुलिस चौकियों के साथ कम्युनिकेशन स्थापित किया जाए। जिससे सड़क दुर्घटनाओं और अन्य गतिविधियों पर मानिटरिंग की जा सके। साथ ही ड्रिंक एंड ड्राइव और रात में बेवजह घूमने वालों पर सख्ती से कार्यवाही करने के निर्देश दिए।

यह भी पढ़ें :श्री साईंनाथ जन सेवा समिति ने जरूरतमंदों को बांटे कंबल

राज्य स्तरीय युवा महोत्सव राजधानी में, मुख्य सचिव ने विभागाें की तय की जिम्मेदारी

Big Action: घटिया सीसी रोड को निगम ने उखड़वाया, मंत्री से शिकायत के बाद कार्रवाई

राजस्थान का युवक,महिला को फोन पर संबंध बनाने के डालता था दबाव, बच्चों को किडनैप करने की देता था धमकी

RELATED ARTICLES

Most Popular

error: Content is protected !!