Homeदेशभाजपा नेता कटियार को पुलिस ने लिया कस्टडी में

भाजपा नेता कटियार को पुलिस ने लिया कस्टडी में

उत्तर प्रदेश की पुलिस ने भाजपा नेता विनय कटियार को हिरासत मे लिए जाने की चर्चा है। भाजपा नेता कटियार ने ज्ञानवापी में मिले शिवलिंग पर मुस्लिम समाज के व्यक्ति पर आरी चलाने का विवादित बयान दिया है। इसके बाद पुलिस ने आरोपी को कस्टडी में लिया है, लेकिन वाराणसी पुलिस ने किसी को भी कस्टडी में लेने की बात से इनकार कर दिया है।

भाजपा नेता कटियार ने कहा कि ज्ञानवापी में मुसलमानों के प्रवेश पर पूरी तरह से रोक लगनी चाहिए। उन्होंने असदुद्दीन ओवैसी को पागल बताते हुए देश से बाहर निकालने की भी बात कही। ज्ञानवापी में हिंदुओं के प्रतीक चिह्नों को मिटाने की कोशिश की गई है। शिवलिंग को काटने की कोशिश की गई है। इससे बड़ा सबूत क्या है? जब कोर्ट में मामला विचाराधीन है, तो ऐसे में मुस्लिम समुदाय की ओर से यह काम जघन्य अपराध है

।विनय कटियार ने ज्ञानवापी मामले को लेकर बन रहे हालातों पर चिंता जताते हुए शिवलिंग की सुरक्षा बढ़ाने की मांग की है। उन्होंने सीधे तौर पर कहा कि कोर्ट में सुनवाई चलती रहे, लेकिन सबसे पहले ज्ञानवापी में मुस्लिमों की एंट्री बैन होनी चाहिए।अयोध्या के श्रीराम जन्मभूमि आंदोलन में बड़ी भूमिका निभाने वाले कटियार ने कहा कि जल्द से जल्द मुस्लिमों को मस्जिद से हटाने का आदेश जारी किया जाए। उन्होंने कहा कि ज्ञानवापी को लेकर जो लोग आंदोलन चला रहे हैं, हम उनका समर्थन करते हैं।

पहले भी विनय कटियार मुस्लिम समुदाय पर कई बार विवादित बयान दे चुके हैं। इससे पहले उन्होंने कहा था कि दिल्ली की जामा मस्जिद वास्तव में जमुना देवी मंदिर है। मुगल शासकों ने इसे तोड़कर जामा मस्जिद बना दिया था।कटियार ने ताजमहल के लिए भी ऐसा ही कहा था। उन्होंने भगवान शिव का स्थल बताते हुए इसे तेजो महालय कहा था। कटियार ने प्रशासनिक अधिकारियों से इसका नाम बदलकर ताज मंदिर करने की भी मांग की थी।

ज्ञानवापी मस्जिद विवाद मामले की सुनवाई वाराणसी के सिविल कोर्ट में चल रही है। हिंदू पक्ष के याचिकाकर्ताओं ने श्रृंगार गौरी में पूजा-अर्चना करने की इजाजत मांगने के साथ हिंदू देवताओं की छवियों की उपस्थिति का दावा किया है। सुप्रीम कोर्ट ने जिला जज को निर्देश दिया था कि वह पहले हिंदू पक्ष की उस याचिका का सुनवाई कर निपटारा करें, जिसमें मस्जिद परिसर में रोज पूजा अर्चना करने की मांग की गई है।

मुस्लिम पक्ष ने कोर्ट में दो महत्वपूर्ण मांग की है। उसने वाराणसी कोर्ट के सर्वे वाले आदेश का विरोध किया है। वहीं, वजूखाने को फिर से शुरू करने की मांग की है। कोर्ट ने वजूखाने को सील करने का आदेश दिया है। हिंदू पक्ष का दावा है कि यहीं पर शिवलिंग मिला है। जबकि मुस्लिम पक्ष ने शिवलिंग के दावे को नकारा दिया है और कहा कि जिसे हिंदू पक्ष शिवलिंग बता रहा, वो केवल एक फव्वारा है।

यह भी पढ़ें: रहस्यमयी पत्थर, ठोंकने पर निकलता है मधुर स्वर

RELATED ARTICLES

Most Popular

error: Content is protected !!