HomeAdministrationरेडियो आज भी प्रासंगिक है और सामुदायिक रेडियो उससे भी अधिक महत्वपूर्ण...

रेडियो आज भी प्रासंगिक है और सामुदायिक रेडियो उससे भी अधिक महत्वपूर्ण -डॉ. पल्लव

दुर्ग.मानव सभ्यता के विकास के लिए संचार का अपना एक महत्वपूर्ण स्थान है और इसके परंपरागत साधनों के बाद आधुनिक साधनों में रेडियो आज भी उतना ही प्रसांगिक बना हुआ है, भले ही संचार के अब आधुनिकतम साधन उपलब्ध हैं। इनमें भी सामुदायिक रेडियो स्टेशन और भी अधिक महत्वपूर्ण है क्योंकि यह विशेषकर ग्रामीण क्षेत्रों में विकास की अवधारणा को परिपूर्ण करता है। मेरी जानकारी में इस समय देश में लगभग 360 सामुदायिक रेडियो स्टेशन कार्यरत है और यह खुशी का विषय है कि दुर्ग जिले में भी ग्राम थनोद में ‘सहयोगी’ के नाम से सामुदायिक रेडियो स्टेशन शीघ्र ही आरंभ होने जा रहा है। यहां से प्रसारित होने वाली सूचनाओं और जानकारी से निश्चित ही समाज के एक बड़े वर्ग को लाभ होगा।

जिला दुर्ग के ग्राम थनोद (अंजोरा) में बन रहे सामुदायिक रेडियो स्टेशन का निरीक्षण करते हुए जिले के पुलिस अधीक्षक अभिषेक पल्लव ने रेडियो स्टेशन के संचालकों से परिचय लेते हुए सामुदायिक रेडियो स्टेशन के महत्व पर उपरोक्त विचार व्यक्त किए और शीघ्र ही इसके आरंभ होने के लिए अपनी शुभकामनाएं दी।

ज्ञात हो कि ग्राम थनोद के सहयोगी रेडियो स्टेशन के लिए अप्रैल 2017 से शुरुआत करते हुए भारत सरकार के सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय और दूरसंचार मंत्रालय से अलग-अलग 6 लाइसेंसों को प्राप्त करने, विभिन्न मंत्रालयों की मांग अनुरूप औपचारिकताएं पूरी करने और अनेकों विभागों द्वारा अनापत्ति प्रमाण पत्र प्राप्त करने के बाद अब बहुत शीघ्र ही यहां से प्रसारण आरंभ किया जा सकेगा। इसका ऑनलाइन प्रसारण 18 अक्टूबर से आरंभ है और 91.2 मेगा हर्ट्ज फ्रीक्वेंसी पर थनोद के आसपास लगभग 25 किलोमीटर परीक्षेत्र में सीधा प्रसारण और नेट के जरिए पूरे विश्व में इसके प्रसारण को सुना जा सकेगा। मूलत: खेती-किसानी, सिंचाई, उद्यानिकी, ग्रामीण विकास के अतिरिक्त शासन की सभी जन कल्याणकारी योजनाओं के प्रचार-प्रसार और शिक्षा, स्वास्थ्य, मनोरंजन, खेलकूद, गीत-संगीत, साहित्य व संस्कृति आदि लगभग सभी विषयों पर यहां से प्रतिदिन 12 घंटे कार्यक्रम प्रसारित होंगे।

केंद्र निदेशक महेंद्र कुमार सिन्हा की पहल और रेडियो स्टेशन के योजनाकार नरेंद्र राठौर के संयोजन से पुलिस अधीक्षक अभिषेक पल्लव के निरीक्षण के दौरान सुखदेव यादव, राजेश हरमुख, कौशल हरमुख, जय प्रकाश सिन्हा, सुषमा साहू, अनेक ग्रामीणजन और अंजोरा पुलिस चौकी प्रभारी सुधांशु बघेल अपनी टीम के साथ उपस्थित थे।

यह भी पढ़ें: जल-जंगल-जमीन के बारे में खुद फैसला ले सकेंगे आदिवासी -मुख्यमंत्री बघेल

Exclusive:महिला एवं बाल विकास विभाग की टीम ने दिखाई संवेदनशीलता, बिन माँ-बाप के बच्चाें के लिए महिला अधिकारी बनें सहारा

RELATED ARTICLES

Most Popular

error: Content is protected !!