Homeस्वास्थ्यअस्पताल में गंदगी का आलम देख भड़के कलेक्टर, सफाई एजेंसी को ब्लैक-लिस्ट...

अस्पताल में गंदगी का आलम देख भड़के कलेक्टर, सफाई एजेंसी को ब्लैक-लिस्ट करने दिए निर्देश

  • कलेक्टर पुष्पेंद्र कुमार मीणा देर रात पहुंचे थे जिला चिकित्सालय
  • गैर हाजिर रहने वाले डाक्टर को अपसेंट लगाने के दिए निर्देश
  • सुरक्षा व्यवस्था को चाक चौबंद बनाने सुरक्षा कर्मियों की संख्या बढ़ाने के दिए निर्देश

दुर्ग.कलेक्टर पुष्पेंद्र कुमार मीणा ने बुधवार की रात जिला चिकित्सालय का औचक निरीक्षण करने पहुंचे। जहां उन्होंने अस्पताल में भर्ती मरीजों एवं परिवारजनों से मुलाकात कर सुविधाओं और चिकित्सा व्यवस्था की जानकारी ली। इस दौरान उन्होंने आपातकालीन ओपीडी, शिशु वार्ड, लेबर कक्ष एवं अन्य वार्डों का निरीक्षण कर उपस्थिति रजिस्टर और ड्यूटी रोस्टर की जांच की।

 

वार्ड में भर्ती मरीजों से इलाज की व्यवस्था के बारे में जानकारी ली। चिकित्सक समय पर विज़िट करने आते हैं या नहीं पूछताछ की। जवाब में मरीज़ों ने बताया कि आज शाम की रूटीन विज़िट में डॉक्टर नहीं आए हैं। इस पर कलेक्टर ने नाराज़गी ज़ाहिर करते हुए मुख्य चिकित्सा अधिकारी को सम्बंधित डॉक्टर की आधे दिन की पगार काटने के निर्देश दिए। साथ ही आगे ऐसा न हो इसके लिए उन्हें नियमित निरीक्षण करते कहा।

अस्पताल परिसर साफ़ सफ़ाई की स्थिति का लिया जायजा

वार्डों के निरीक्षण के दौरान शौचालयों में गंदगी, टूटे हुए कमोड, वाश बेसिन व दरवाजे को देख कलेक्टर ने मुख्य चिकित्सा अधिकारी को कड़े शब्दों में निर्देशित किया कि अस्पताल में गंदगी और अव्यवस्था किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं की जाएंगी। मौजूदा सफाई एजेंसी को ब्लैक लिस्ट करें और जल्द से जल्द नई एजेंसी के साथ करार कर अस्पताल की नियमित सफाई की व्यवस्था सुनिश्चित करें।

Chhattisgarh
कलेक्टर को ड्यूटी चार्ट के बारे में जानकारी देते हुए सीएचएमओ

मरीजों से लिया फीडबैक

प्रसूति वार्ड के निरीक्षण के दौरान मरीज़ों ने कलेक्टर को बताया की अस्पताल के सभी चिकित्सक और नर्स बहुत अच्छा व्यवहार करते हैं। भोजन और इलाज की अच्छी व्यवस्था ज़िला अस्पताल में मिल रही है। वहीं नवनिर्मित वार्ड के बिस्तर में गंदी बेडशीट पाए जाने पर कलेक्टर ने ड्यूटी पर मौजूद नर्स और स्टाफ़ को कहा की इससे मरीज़ों को संक्रमण का ख़तरा है, इस तरह की लापरवाही दोबारा न करें। उन्होंने डॉक्टर को निर्देशित करते हुए कहा कि सभी बिस्तरों में साफ़ बेडशीट लगनी चाहिए और जिन बिस्तरों के बग़ल में दवाइयां रखने के लिए रैक नहीं हैं वह भी लग जाने चाहिए। उन्होंने सिविल सर्जन से सभी ज़रूरी व्यवस्था कर फ़ोटो भेजने के लिए कहा।

 

Chhattisgarh
उपस्थिति पंजी का अवलोकन करते हुए कलेक्टर मीणा

बढ़ाई जाएगी सुरक्षाकर्मियों की संख्या

निरीक्षण के दौरान कलेक्टर ने अस्पताल परिसर में सुरक्षा-कर्मियों की कमी महसूस की इस विषय में उन्होंने पुलिस अधीक्षक से बात कर 1+4 पुलिस आरक्षकों और 8 नगर सैनिकों को जल्द से जल्द तैनात करने के निर्देश दिए।

आत्महत्या के प्रयास के मरीज़ों करें काउन्सलिंग

कलेक्टर ने एक ऐसे मरीज़ से भी मिले जिसने आत्महत्या के उद्देश्य से ज़हर का सेवन कर लिया था। उन्होंने उनकी स्वास्थ्य की स्थिति के बारे में जानकारी ली, डॉक्टर ने बताया की वह अभी ख़तरे से बाहर है। उन्होंने ने पीड़ित और उसके परिजनों से बात कर उन्हें दिलासा दी और हिम्मत न हारने और मुसीबतों का डट कर सामना करने का हौसला दिया। इसके अलावा उन्होंने मुख्य चिकित्सा अधिकारी को इस तरह के मरीज़ों की मनोचिकित्सक द्वारा काउंसलिंग की व्यवस्था करने के निर्देश दिए।इस दौरान भिलाई नगर निगम आयुक्त रोहित व्यास, सहायक कलेक्टर लक्ष्मण तिवारी, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. जे.पी.मेश्राम एवं डॉ अखिलेश यादव भी उपस्थित रहे।

यह भी पढ़ें: शिवनाथ नदी के संरक्षण के सवाल पर मुख्यमंत्री ने दिया ये जवाब

जीई रोड की सुंदरता के लिए किया जाएगा लैंड स्क्रेपिंग

संवेदनशील सरकार : बेटी पिता के कंधों पर नहीं, मोटराइज्ड सायकिल से जाएंगी स्कूल

RELATED ARTICLES

Most Popular

error: Content is protected !!