चर्चित हड़ताल: महिला एवं बाल विकास में गड़बड़ी मामले में दो पर्यवेक्षक निलंबित, स्व सहायता समूह ब्लैक लिस्टेड

1584
Advertisement only

रायपुर @ news-36. महासमुंद कलेक्टर डोमन सिंह ने महिला एवं बाल विकास के रेडी-टू-ईट वितरण और मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना में अनियमितता के मामले में चार लोगों के खिलाफ कार्रवाई की है। दो महिला स्व सहायता समिति को ब्लैक लिस्टेड कर दिया है।
दो पर्यवेक्षक को निलंबित कर दिया है।

बोदले का अनशन समाप्त
इधर महिला एवं बाल विकास अधिकारी सुधाकर बोदले ने अनशन समाप्त कर दिया है। महिला एवं बाल विकास की संचालक दिव्या मिश्रा ने कलेक्टर डोमन सिंह के कक्ष में बोदले को लस्सी पिलायी। इसी के साथ सुधाकर बोदले का अनशन समाप्त हो गया। बता दें कि महिला एवं बाल विकास अधिकारी बोदले रविवार को अपने निवास पर रेडी-टू-ईट वितरण योजना में अनियमितता एवं मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना वर्ष 2019-20 एवं 2020-21 टेंडर प्रक्रिया की शिकायत को लेकर अनशन पर बैठे थे।

रेडी टू ईट गुणवत्ता पूर्ण नहीं
संचालक महिला एवं बाल विकास दिव्या मिश्रा ने आज यहां कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में पत्रकारों से चर्चा करते हुए कहा कि महिला एवं बाल विकास अधिकारी शिकायत की गठित जांच दल ने आज सोमवार को महासमुन्द परियोजना ग्रामीण का जांच किया। जिसमें प्रथम दृष्टया रेडी-टू-ईट गुणवत्तापूर्ण नहीं पाए जाने पर प्रगति महिला स्व-सहायता समूह बरोण्डाबाजार एवं एकता महिला स्व-सहायता समूह लभराखुर्द के अनुबंध को समाप्त कर दिया गया। साथ समहू को ब्लैक लिस्टेड कर दिया गया। संबंधित सेक्टर के दो पर्यवेक्षक शशि जायसवाल बरोण्डाबाजार एवं दीपमाला तारक लभराखुर्द को तत्काल प्रभाव से निलंबित करने की जानकारी दी।

Previous articleबड़ी खबर : रेरा ने पॉल्म ब्लेजियों के विवादित प्रोजेक्ट के विक्रय पर लगाया प्रतिबंध, एक लाख जुर्माना भी
Next articleनोटिस : ब्लैक फंगस को लेकर गाइड लाइन को फॉलो नहीं कर रहे अस्पताल