Homeराज्यसंवेदनशील सरकार : बेटी पिता के कंधों पर नहीं, मोटराइज्ड सायकिल से...

संवेदनशील सरकार : बेटी पिता के कंधों पर नहीं, मोटराइज्ड सायकिल से जाएंगी स्कूल

मुख्यमंत्री ने अंबागढ़ चौकी में विभिन्न समाज एवं सामाजिक संगठनों के प्रतिनिधि मण्डल से भेंट-मुलाकात

सिकलसेल पीड़ित बालिका गीतिका का उपचार का खर्च  उठाएगी सरकार: मुख्यमंत्री 

 

रायपुर. मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बुधवार को अंबागढ़ चौकी में विभिन्न समाज एवं सामाजिक संगठनों के प्रतिनिधि मण्डल से भेंट-मुलाकात की। जहां मुख्यमंत्री ने एक-एक कर सभी समाज एवं संगठनों के प्रतिनिधियों से सामाजिक गतिविधियों के संबंध में विस्तार से चर्चा की और उनसे शासकीय योजनाओं की वस्तु स्थिति की जानकारी ली।वहीं समाजिक भवन निर्माण की स्वीकृति दी। दिव्यांगों की मांग पर संवेदनशीलता दिखाते हुए अधिकारियों को शासन की योजनाओं के तहत आर्थिक सहयोग, मोटर सायकल उपलब्ध कराने के निर्देश दिए।

मुख्यमंत्री अम्बागढ़ चौकी में सामाजिक संगठनों से मुलाकात के दौरान कुमारी अंबागढ़ तहसील के ग्राम कहाड़कसा की 10 वर्षीय बालिका गीतिका पाल की बड़ी मां नूतन पाल ने सिकलसेल के उपचार के लिए आर्थिक मदद का निवेदन किया। उन्होंने मुख्यमंत्री को बताया कि कमजोर आर्थिक परिस्थिति होने के कारण गीतिका के उपचार में समस्या आ रही है। मुख्यमंत्री ने पूरी संवेदनशीलता के साथ विचार करते हुए गीतिका के इलाज का संपूर्ण खर्च राज्य शासन द्वारा वहन करने का आश्वासन दिया।

Chhattisgarh
मुख्यमंत्री से चर्चा करती हुई गीतिका एवं उनकी बड़ी मां

मुख्यमंत्री ने दोनों पैरो से दिव्यांग 17 वर्षीय पुष्पलता के लिए मोटराइज्ड सायकिल देने के निर्देश अधिकारियों को दिए। पुष्पलता अपने पिता हेमंत यादव के कंधे पर बैठकर मुख्यमंत्री से मिलने आयी थीं। अम्बागढ़ चौकी के ग्राम बूढ़ा डबरी निवासी पुष्पलता यादव ने मुख्यमंत्री को बताया कि वह कक्षा 11वीं में वाणिज्य विषय की छात्रा है। उसे स्कूल आने-जाने में दिक्कत होती है। उसने मुख्यमंत्री से स्कूल आने-जाने के लिए मोटराइज्ड सायकिल प्रदान करने का निवेदन किया। मुख्यमंत्री ने पूरी संवेदनशीलता से पात्रतानुसार मोटराइज्ड सायकिल देने के लिए अधिकारियों को निर्देशित किया।

Chhattisgarh
पिता हेमंत यादव के कंधे पर बैठकर मुख्यमंत्री से मिलने आयी थीं पुष्पलता

मुख्यमंत्री बघेल ने पैरो से दिव्यांग संजीव चौहान को पेट्रोल चलित तिपहिया वाहन प्रदान करने की स्वीकृति दी। अम्बागढ़ तहसील के केसराटोला गांव के निवासी संजीव चौहान ने भेंट-मुलाकात के दौरान मुख्यमंत्री को बताया कि वह एमए की पढ़ाई नियमित छात्र के रूप में अम्बागढ़ चौकी महाविद्यालय में कर रहे हैं। अम्बागढ़ चौकी से उनका गांव 9 किलोमीटर दूर है। उन्हें पढ़ाई के लिए कॉलेज आने-जाने में परेशानी होती है। मुख्यमंत्री ने संजीव के उज्ज्वल भविष्य की कामना करते हुए उसे सतत् मेहनत करने के लिए प्रेरित किया।

Chhattisgarh
मुख्यमंत्री बघेल ने पैरो से दिव्यांग संजीव चौहान को पेट्रोल चलित तिपहिया वाहन प्रदान करने की स्वीकृति दी

मुख्यमंत्री ने ग्राम कान्हे निवासी प्रतिमा देवांगन को आगे की पढ़ाई के लिए 01 लाख रूपए की स्वीकृति प्रदान की। बालिका प्रतिमा देवांगन ने बताया कि वह 11वीं कक्षा की छात्रा है। पढ़ाई में अच्छी है, लेकिन घर की आर्थिक परिस्थिति ठीक नहीं है। मां दिल की बीमारी से पीड़ित हैं और पिता बुनकर का कार्य करते हैं। ग्राम कान्हे के ही उत्तम साहू को आगे की पढ़ाई के लिए 50 हजार रूपए की आर्थिक सहायता स्वीकृत की।

chhattisgarh
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने तहसील साहू संघ चौकी को सामाजिक भवन हेतु भवन निर्माण के लिए 20 लाख , कलार समाज के लिए अम्बागढ़ चौकी में सामुदायिक भवन निर्माण के लिए 20 लाख , मुस्लिम समाज के प्रतिनिधियों की मांग पर सामुदायिक भवन निर्माण के लिए 20 लाख , पाल समाज की मांग पर सामुदायिक भवन निर्माण के लिए 20 लाख , कुर्मी समाज के लिए दुगाटोला में सामुदायिक भवन निर्माण के लिए 20 लाख और हल्बा समाज चौकी में सामुदायिक भवन के लिए 20 लाख, आदिवासी कंवर समाज छुरिया परिक्षेत्र में सामुदायिक भवन निर्माण के लिए 30 लाख, गोंडवाना समाज के लिए चौकी में सामुदायिक भवन एवं अन्य विकास कार्यों के लिए 30 लाख , बौद्ध समाज के लिए छुरिया में सामुदायिक भवन के लिए 15 लाख , निषाद समाज के सामुदायिक भवन के लिए 15 लाख, हल्बा समाज के सामुदायिक भवन के विस्तार एवं अन्य सुविधा के लिए 15 लाख और इसी प्रकार छुरिया के उमरवाही से मुस्लिम समाज के प्रतिनिधिमंडल की मांग पर उमरवाही में सामुदायिक भवन निर्माण के लिए 10 लाख की स्वीकृति प्रदान की।

सोशल मीडिया में फेक न्यूज पोस्ट या फारवर्ड करने वालों पर पुलिस टीम की नजर

मुख्यमंत्री ने भेंट-मुलाकात के दौरान विभिन्न समाजों द्वारा सामाजिक भवन की मांग पर कहा कि समाजों से ही छत्तीसगढ़ बना है। हर समाज का अपना भवन होना चाहिए, जिससे समाज के बीच आपस में सद्भाव बढ़ेगा। मुख्यमंत्री ने ब्राम्हण समाज के प्रतिनिधिमंडल को शासन के प्रावधानों के तहत जमीन आबंटन कराने का सुझाव दिया। उन्होंने कहा कि जमीन आबंटन के बाद ही भवन निर्माण के लिए राशि स्वीकृत की जाएंगी।

यह भी पढ़ें : सोहद्रा ने मुख्यमंत्री से कहा, गैस सिलिंडर के कीमत ल कम करवा देतेस दाऊजी

इसी प्रकार गंधर्व समाज द्वारा गैंदाटोला और कुमर्दा परिक्षेत्र में सामुदायिक भवन निर्माण के लिए राशि की मांग पर समाज के नाम पर जमीन की रजिस्ट्री कराने का सुझाव दिया। खंडेलवाल समाज और यादव समाज के प्रतिनिधिमंडल द्वारा अम्बागढ़ चौकी में गौठान के लिए भूमि आरक्षित करने की मांग पर मुख्यमंत्री ने प्रशासन को इस दिशा में कार्यवाही करने के निर्देश दिए।

निजी व सिटी बस संचालकों ने आपसी समन्वय से दूर किया मनमुटाव,पहले की तरह चलेंगी बसें

दुर्ग रोडवेज की बस ने बाइक सवार को मारी ठोकर,तीन की मौत, ग्रामीणों में आक्रोश

देवांगन समाज के प्रतिनिधि काशी प्रसाद देवांगन की ग्राम कान्हे में शिवनाथ नदी तट पर पचरी निर्माण के लिए राशि की मांग पर मुख्यमंत्री ने प्रशासन को इस कार्य को कराने निर्देशित किया। मुख्यमंत्री ने कुंभकार समाज के रोजगार के लिए निर्माण यूनिट के लिए रीपा के तहत प्रस्ताव तैयार करने के निर्देश कलेक्टर को दिए।

 

यह भी पढ़ें : 21 को प्रकरणों को मंत्री परिषद ने माना राजनीतिक, वापस लेने का लिया निर्णय

अब धनेश्वरी निश्चिंत होकर कर सकेंगी बीएससी नर्सिंग की पढ़ाई

RELATED ARTICLES

Most Popular

error: Content is protected !!