Homeदेशशहीद पाण्डेय पंचतत्व में विलीन,उनके बड़े बेटेअभिराज ने दी मुखाग्नि

शहीद पाण्डेय पंचतत्व में विलीन,उनके बड़े बेटेअभिराज ने दी मुखाग्नि

दिल्ली के बरार स्क्वायर मुक्तिधाम में किया गया अंतिम संस्कार

भिलाई.शहीद लेफ्टिनेंट कर्नल कपिल देव पाण्डेय सोमवार को पंचतत्व में विलीन हो गए। नई दिल्ली में जवानों ने उन्हें अंतिम विदाई दी गई।दिल्ली के ही बरार स्क्वायर मुक्तिधाम में उनका अंतिम संस्कार किया गया।उनके बड़े बेटे अभिराज पांडेय ने मुखाग्नि दी।

बता दें कि लेफ्टिनेंट कर्नल कपिल देव पाण्डेय पिछले सप्ताह बुधवार को मणिपुर के इंफाल में हुए लैंडस्लाइड की चपेट में आ गए थे। रविवार को उनकी बाडी मिलने के बाद सेना ने छग शासन और दुर्ग जिला प्रशासन एवं उनके परिजनों को शहीद होने की सूचना दी थी। इसके बाद शहीद पांडेय के परिवार के लोग सोमवार की सुबह दिल्ली पहुंचे। जहां जवानों ने परिवारजनों की उपस्थिति में उन्हें स-सम्मान अंतिम विदाई दी गई।

शहीद पिता को नमन करते हुए उनके सुपुत्र अभिराज पांडेय

chhattisgarh
अंतिम संस्कार का रस्म पूरा करते हुए अभिराज

भिलाई के रहने वाले थे शहीद पांडेय

chhattisgarh
शहीद लेफ्टिनेंट कर्नल कपिल देव पाण्डेय

यह भी पढ़ें:आखिरी बार मां ने फोन लगाकर पूछा था कि कब आओगे….

शहीद कपिल देव पाण्डेय छत्तीसगढ़ भिलाई नेहरू नगर के रहने वाले थे। वे 107गोरखा बटालियन मणिपुर राइफल्स में पदस्थ थे। शहीद कपिल की पत्नी छवि पांडेय भी लेफ्टिनेंट कर्नल हैं और उनके दो बच्चे हैं। मां कुसुम देवी पांडेय हैं और वे भावना पांडेय और कंचन अग्रवाल के भाई थे। बता दें कि उनकी बहन भावना पांडेय भिलाई प्रेस क्लब की अध्यक्ष व सेंट्रल क्राॅनिकल की ब्यूरो चीफ हैं।

शहीद पांडेय के परिवार

सीएम ने जताया दु:ख

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने शहीद लेफ्टिनेंट कर्नल के परिवारजनों के प्रति संवेदना प्रकट करते हुए ईश्वर से उनके परिवारजनों को यह दुख सहन करने की शक्ति प्रदान करने और दिवंगत आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना की है। इसके अलावा विधानसभा अध्यक्ष डॉ चरणदास महंत,गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू, कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे, खाद्य मंत्री अमरजीत सिंह भगत, वैशाली नगर विधायक देवेन्द्र यादव समेत अन्य नेताओं ने ट्वीट कर परिवारजनों के प्रति अपनी संवेदना प्रकट की है।

यह भी पढ़ें:समीक्षा बैठक: सीएम ने अधिकारियों से कहा,स्कूलों में अनियमितता की शिकायत मिली है,ध्यान दें…

मुख्यमंत्री ने बैकुण्ठपुर में 87.20 करोड़ की लागत से कुल 19 कार्यों का किया लोकार्पण व भूमिपूजन

उजाड़ टापू को डेढ़ महीने की मेहनत से किया जल के बीच जन्नत में तब्दील

 

RELATED ARTICLES

Most Popular

error: Content is protected !!