HomeEntertainmentCrimeआई.पी.एम ऐप से रहें दूर,नहीं तो आप भी हो सकते हैं धोखाधड़ी...

आई.पी.एम ऐप से रहें दूर,नहीं तो आप भी हो सकते हैं धोखाधड़ी के शिकार

गोल्ड में निवेश का झांसा देकर ठगी करने वाले गिरोह के चार आरोपी गिरफ्तार

भिलाई. छत्तीसगढ़ के थाना भिलाई भट्ठी पुलिस ने 40 लाख की धोखाधड़ी के मामले में सनसनीखेज खुलासा किया। पुलिस अधीक्षक डॉ अभिषेक पल्लव ने बताया कि ठग गिरोह ने लोगों को बैंकों में डूबे गोल्ड लोन के सोने को खरीदने का झांसा देकर लोगों के साथ ठगी है। इसलिए आरोपियों ने  इस्टेन्ट पाकेट मनी (IPM)नामक एप बना रखा है। इसके माध्यम से ही आरोपी लोगों से बैंकों में गोल्ड लोन में डूबे गोल्ड को खरीदने का झांसा देते थे।

चार गिरफ्तार, एक फरार

एएसपी संजय ध्रुव ने बताया कि इस मामले में एंटी क्राइम ब्रांच और भिलाई भठटी पुलिस टीम ने चार आरोपियों को गिरफ्तार किया है और एक आरोपी फरार है। एएसपी ने बताया कि आरोपियों के कहने पर प्रार्थी जय प्रकाश चौहान द्वारा विभिन्न बैंक एकाउंट में जमा कराए खाता नंबर के आधार पर टीम आरोपियों तक पहुंची। धोखाधड़ी के मामले में बिलासपुर से चार आरोपियों को गिरफ्तार किया है और एक आरोपी शारीक खान फरार हैं।

सेक्टर 1 का रहने वाला है प्रार्थी

प्रार्थी सेक्टर 1 सड़क एवेन्यु बी, मकान नम्बर 01/21 निवासी प्रार्थी जय प्रकाश चौहान पिता स्व .रमाकांत चौहान निवासी मकान नम्बर 01/21, सेक्टर 1 भिलाई का रहने वाला है। उसने थाना भिलाई भट्ठी में लिखित रिपोर्ट दर्ज करायी थी कि शेखर पसीने, पंकज वर्मा, मुस्कान गुप्ता, अदनान शेख व शारिक खान ने आई.पी.एम.( इस्टेन्ट पाकेट मनी ) नाम के एप के माध्यम से लोन उपलब्ध कराने और बैंकों में गिरवी रखे गोल्ड को सस्ते दामों में खरीदकर बाहर मार्केट में अच्छे दामों में बेचकर लाभ अर्जित करने का झांसा देकर करीब 40,58,000 देकर ठगी की शिकायत की है।

बैंक खाता और मोबाइल नंबर से आरोपियाें तक पहुंची पुलिस

पुलिस प्रार्थी जय प्रकाश चौहान के बयान के अनुसार आरोपियों तक पहुंची। प्रार्थी ने बताया कि आरोपियों ने उनसे विभिन्न बैंकों के खाते में रकम जमा कराया है। पुलिस ने  बैंक खातों के स्टेटमेंट की जांच पड़ताल की। जिसमें आरोपियों के रायपुर और बिलासपुर लोकेशन मिला। एसपी ने दो टीम बनाकर दोनों जगहाें पर रेड करवाया, लेकिन आरोपी रायपुर से भाग निकले। बिलासपुर में होने की खबर मिली। जहां से रेड मारकर आरोपी  शेखर पसीने , पंकज वर्मा , मुस्कान गुप्ता एवं अदनान शेख को गिरफ्तार किया है।

छात्रों को बनाया शिकार 

आरोपी शेखर पसीने, पंकज वर्मा , मुस्कान गुप्ता एवं अदनान शेख से पूछताछ करने पर बताया गया कि उन्होंने एक अन्य साथी शारीक खान के साथ मिलकर आई.पी.एम. ( इस्टेन्ट पाकेट मनी ) नाम का एप बनाया है। इस ऐप के माध्यम से छात्रों को शॉर्ट टाईम लोन उपलब्ध कराने के लिए संपर्क करते थे। अदनान शेख को बैंक कर्मचारी होने से प्रार्थी से मुलाकात करते थे। बैंकों में जमा गोल्ड को सस्ते दामों में खरीदकर बाहर अधिक दाम में बेचकर अच्छा खासा मुनाफा कमाने का झांसा देकर अपनी जाल में फंसाते थे।

आरोपियों के खाते सीज 

पुलिस ने आरोपियों के खाते को सीज कर दिया है। पुलिस शेखर पसीने पिता शशि कुमार पसीने उम्र 33 वर्ष पता 478 डहेलिया तालपुरी भिलाई, पंकज वर्मा पिता राजेन्द्र कुमार वर्मा उम्र 29 वर्ष पता गली नं .01 जवाहर नगर कॉफी हाउस के पास सतना म.प्र , मुस्कान गुप्ता पति पंकज वर्मा उम्र 23 वर्ष पता गली नं .01 जवाहर नगर कॉफी हाऊस के पास सतना म.प्र, .अदनान शहीद पिता शहीद अहमद कुरैशी उम्र 32 वर्ष पता 194 संजय नगर आरडीए रायपुर से  उपयोग में लाये गये रकम के संबंध में जांच की जा रही है।

यह भी पढ़ें:ग्राहकों से लाखों की धोखाधड़ी करने वाले संचालकों से पुलिस ने जब्त किया 500 एटीएम ,5 हजार पासबुक और लैपटाप

RELATED ARTICLES

Most Popular

error: Content is protected !!