Homeराज्यविधानसभा का घेराव करने जा रहे शिक्षक-शिक्षिकाएं गिरफ्तार

विधानसभा का घेराव करने जा रहे शिक्षक-शिक्षिकाएं गिरफ्तार

रायपुर. वेतन विसंगति को लेकर शुक्रवार को छत्तीसगढ़ विधानसभा का घेराव करने जा रहे छत्तीसगढ़ सहायक शिक्षक फेडरेशन के पदाधिकारियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। इसके विरोध में फेडरेशन के प्रतिनिधि मंडल सिरसा गेट भिलाई 3 में विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।

भिलाई-3 पुलिस ने आज सुबह संघ के प्रदेश सचिव शुखनंदन यादव को चरोदा और जिलाध्यक्ष कृष्ण कुमार वर्मा भिलाई तीन स्थित उनके घर से गिरफ्तार किया है। इसी तरह पाटन ब्लाक अध्यक्ष विनोद देवांगन, पाटन ब्लाक से मोहन यादव, दुर्ग ब्लॉक अध्यक्ष युवराज बेलचंदन और धमधा ब्लाक अध्यक्ष उत्तम ठाकुर को उनके घर से गिरफ्तार किया गया है। इसके बाद फेडरेशन के पदाधिकारी सिरसा गेट में पुलिस कार्रवाई का विरोध करेंगे।

संघ के जिलाध्यक्ष कृष्ण कुमार वर्मा ने बताया कि 5 सितंबर 2021 को प्रदेश के 1 लाख 9 हजार शिक्षकों ने वेतन विसंगति को दूर करने के लिए आंदोलन किया था। उस समय मुख्यमंत्री, शिक्षा मंत्री और प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा ने आश्वासन दिया था कि वो 90 दिन के भीतर इस विसंगति को दूर करने का प्रयास करेंगे। इसके बाद एक साल होने को है, लेकिन उनकी मांग पर कोई ध्यान नहीं दिया गया। इसलिए वह लोग फिर से आंदोलन करने को बाध्य हो रहे हैं। इस आंदोलन में दुर्ग जिले से 3500 और दुर्ग संभाग से 25 हजार सहायक शिक्षक भाग ले रहे हैं।

यह भी पढ़ें:बड़ी कार्रवाई: उद्यान की जमीन पर कर लिया था कब्जा, निगम ने बाउंड्रीवाल को ढहाया

श्रावण सोमवार:पार्थिव शिवलिंग की पूजा को बनाएं फलदाई,करें ये उपाय

छत्तीसगढ़ सहायक शिक्षक फेडरेशन के प्रदेश सचिव शुखनंदन यादव ने बताया कि शुक्रवार को संघ के सभी पदाधिकारी और सदस्य लाखों की संख्या में रायपुर इकट्ठा होने वाले थे। इसके बाद वह लोग विधानसभा पहुंचकर उसका घेराव करते। इसके लिए उन्होंने सभी जिला कलेक्टरों को आवेदन दिया था। इससे पहले टीचरों की गिरफ्तारी राज्य शासन के निर्देश पर की गई है। यादव का कहना है कि मांगें नहीं मानी गई तो सहायक शिक्षक अनिश्चित कालीन हड़ताल पर चले जाएंगे।

वर्ग दो और वर्ग तीन के वेतन में 10-12 हजार का अंतर
शुखनंदन यादव का कहना है कि उनकी मांग वेतन विसंगति को लेकर है। राज्य में शिक्षाकर्मी वर्ग एक और दो के वेतन में मात्र एक से डेढ़ हजार रुपए का अंतर है। वहीं शिक्षाकर्मी वर्ग दो से तीन के बीच 12-13 हजार रुपए का अंतर रखा गया है। संघ की मांग है कि वर्ग एक और दो के अंतर की तरह ही वर्ग दो और तीन की वेतन में भी अंतर होना चाहिए। उन्होंने शासन से वर्ग दो से तीन के बीच 2-3 हजार रुपए तक का अंतर रखने की मांग की है।

यह भी पढ़ें: नवनिर्वाचित राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू को मुख्यमंत्री बघेल ने दी बधाई और शुभकामनाएं

ITI में इलेक्ट्रिशियन डोमेस्टिक सॉल्यूशन व्यवसाय पाठ्यक्रम में प्रवेश शुरू

15वीं राष्ट्रपति: संयम और संघर्ष ने मुर्मू को पहुंचाया देश के सर्वोच्च पद पर

RELATED ARTICLES

Most Popular

error: Content is protected !!