हेल्थ एंड वैलनेस कार्यक्रम के राज्य नोडल अधिकारी डॉ सुरेन्द्र पामभोई ने बताया की टेलीमेडिसिन के माध्यम से चिकित्सा अधिकारियों एवं विषय विशेषज्ञों द्वारा गंभीर बीमारियों से पीड़ित मरीजों की बीमारियों की स्क्रीनिंग और इलाज उपलब्ध कराया जाएगा। उन्होंने बताया कि 6 जून को सामान्य और मानसिक रोगों से ग्रसित लोगों को उपचार एवं सलाह प्रदान की जाएगा।

यह भी पढ़ें: शिवनाथ नदी में मिला युवक-युवती का गमछे से बंधा हुआ शव

हॉस्पिटल में नर्स से अश्लील हरकतें करता था ये डॉक्टर

इसी तरह 7 जून को (एनसीडी) गैर संचारी रोग संबंधी रोगों का उपचार एवं सलाह,  8 जून को मातृत्व स्वास्थ्य, शिशु स्वास्थ्य एवं परिवार नियोजन संबंधित उपचार एवं सलाह, 9 जून को गंभीर संक्रमण रोग एवं नाक,कान,गला व नेत्र रोग संबंधी जांच और सर्जरी संबंधित सलाह विशेषज्ञ डॉक्टरों द्वारा दी जाएगी। जबकि 10 जून को वृद्धावस्था संबंधी उपचार एवं सलाह, 11 जून को किशोर स्वास्थ्य, दंत रोग संबंधी उपचार एवं सलाह विषय विशेषज्ञों द्वारा प्रदान की जाएगी।

डॉ पामभोई ने बताया कि हेल्थ एंड वैलनेस सेंटर में सुबह 11 से शाम 5 बजे तक यह सुविधा उपलब्ध होगी। टेलीमेडिसिन के माध्यम से की गई ओपीडी की मॉनिटरिंग नियमित रूप से जिला एवं राज्य स्तर पर की जाएगी। वर्तमान में हेल्थ एंड वैलनेस सेंटरों  में 12 प्रकार की स्वास्थ्य सुविधाएं आम लोगों को उपलब्ध कराई जा रही है।

यह भी पढ़ें: पंचकर्म चिकित्सा से पा सकते हैं 11 प्रकार के असाध्य रोगों से छुटकारा

दिल की बीमारियों के लिए बहुत कारगार है “क्वीन ऑफ हर्ब्स”