गोमूत्र से बायोपेस्टीसाइड का निर्माण

जैविक खेती को ओर बढ़ते छत्तीसगढ़ में बीते दो वर्षों में बड़ी संख्या में कृषक वर्मी कम्पोस्ट का उपयोग खाद के रूप में कर रहे हैं। अब गोमूत्र से बायोपेस्टीसाइड का निर्माण करने की तैयारी है। गोमूत्र के साथ नीम व अन्य जैविक रासायनों का इस्तेमाल कर कीट नियंत्रक, जीवामृत और ग्रोथ प्रमोटर जैसे उत्पाद बनाए जाएंगे। यह उत्पाद फसलों को कीटों से बचाने के साथ रासायनिक पेस्टीसाइड से होने वाले नुकसान से भी बचाएंगे, जिससे मानव शरीर पर पड़ने वाले दुष्प्रभावों से भी बचा जा सकेगा। वहीं इनकी कीमत भी रासायनिक पेस्टीसाइड से कम होगी।

खबरें और भी है…

22वें कॉमनवेल्थ गेम्स में भारत ने जीत से की शुरुआत,महिला हॉकी टीम ने घाना को हराया,टेबल टेनिस के दोनों मुकाबला जीता

राजभवन और सचिवालय की गतिविधियों से जुड़ी जानकारियों के लिए पढ़ें ‘ एक आशा’

बिजली गिरने से पांच लोगों की मौत 6 घायल, सीएम ने जताया दु:ख

संभागायुक्त पहुंचे तहसील कार्यालय, नामांतरण, बंटवारा के लंबित प्रकरणाें को लेकर कही बड़ी बात