HomeUncategorizedप्रकृति का पर्व हरेली पारंपरिकता और वैज्ञानिकता का संगम है- डॉ. चंदेल

प्रकृति का पर्व हरेली पारंपरिकता और वैज्ञानिकता का संगम है- डॉ. चंदेल

इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के अंतर्गत विभिन्न संस्थाओं में मनाया गया हरेली तिहार

रायपुर. इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय (IGKV)के अंतर्गत संचालित सभी महाविद्यालयों, कृषि प्रक्षेत्रों एवं कृषि विज्ञान केन्द्रों में आज छत्तीसगढ़ की ग्रामीण संस्कृति का प्रमुख पर्व हरेली तिहार मनाया गया। इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय परिसर में स्थित स्वामी विवेकानंद कृषि अभियांत्रिकी एवं प्रौद्योगिकी महाविद्यालय में आयोजित हरेली तिहार कार्यक्रम के मुख्य अतिथि कुलपति डॉ. गिरीश चंदेल ने गौ पूजन, नांगर पूजन और कृषि यंत्रों की पूजा अर्चना कर हरेली तिहार कार्यक्रम की शुरूआत की।

मुख्य अतिथि की आसंदी से डॉ. गिरीश चंदेल ने कहा कि प्रकृति के पर्व हरेली का छत्तीसगढ़ के ग्रामीण सामाजिक एवं सांस्कृतिक परिवेश में बहुत महत्व है। यह किसानों का प्रमुख त्योहार है। हरेली तिहार में प्रकृति की पूजा की जाती है। हरेली के समय पूरी धरती हरियाली से आच्छादित हो जाती है और किसान रोपाई-बियासी जैसे कृषि कार्याें से निवृत्त हो जाते हैं। इस दिन किसान अपने गौवंश और कृषि यंत्रों की पूजा करते हैं। डॉ. चंदेल ने चालू खरीफ मौसम में अच्छी फसल होने की आशा व्यक्त करते हुए किसानों एवं कृषि वैज्ञानिकों को हरेली पर्व की बधाई एवं शुभकामनाएं दीं।

कुलपति डॉ. चंदेल ने कहा कि हरेली तिहार पारंपरिकता और वैज्ञानिकता का अनूठा संगम है। इस दिन प्रकृति की पूजा करते हुए खेती किसानी से संबंधित परम्पराएं सम्पन्न की जाती है, वहीं विभिन्न खेलों एवं क्रीड़ा प्रतियोगिताओं – गेड़ी दौड़, फुगड़ी, रस्सा कशी, कुर्सी दौड़ आदि का आयोजन किया जाता है। इसके साथ ही ठेठरी, खुरमी, बरा, गुलगुला आदि पारम्परिक व्यंजन भी बनाये जाते हैं। इन सब रीति रिवाजों के पीछे वैज्ञानिक कारण शामिल हैं।

यह भी पढ़ें: कांग्रेस विधायक लक्ष्मी ध्रुव के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज

हरेली का पर्व हमारी गौरवशाली छत्तीसगढ़ी संस्कृति और विरासत का हिस्सा है – मंत्री ताम्रध्वज साहू

इनका मानव स्वास्थ्य पर अनुकूल प्रभाव पड़ता है। इसी प्रकार पशुओं को आटे की लोई में शतावर और लोध्र मिलाकर खिलाया जाता है जो उनका विभिन्न बीमारियों से बचाव करता है। इस अवसर पर विद्यार्थियों के लिए गेड़ी दौड़, फुगड़ी, नारियल फेक, कुर्सी दौड़, रस्सा कशी आदि प्रतियोगिताएं हुई। विजेता प्रतिभागियों को अतिथियों द्वारा पुरस्कृत किया गया।कृषि अभियांत्रिकी महाविद्यालय के अधिष्ठाता डॉ. वी.के. पाण्डेय ने अतिथियों के प्रति आभार जताया

Chhattisgarh
स्वामी विवेकानंद कृषि अभियांत्रिकी एवं प्रौद्योगिकी महाविद्यालय में आयोजित हरेली तिहार कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कुलपति डॉ. गिरीश चंदेल

कार्यक्रम में कुलसचिव जी.के. निर्माम, निदेशक विस्तार सेवाएं डॉ. पी.के. चन्द्राकर, निदेशक शिक्षण डॉ. एस.एस. सेंगर, अधिष्ठाता छात्र कल्यांण डॉ. जी.के. श्रीवास्तव, अधिष्ठाता कृषि महाविद्यालय डॉ. के.एल. नंदेहा, अधिष्ठाता कृषि अभियांत्रिकी महाविद्यालय डॉ. वी.के. पाण्डेय, अधिष्ठाता खाद्य प्रौद्यागिकी महाविद्यालय डॉ. ए.के. दवे सहित विभिन्न विभागों के विभागाध्यक्ष उपस्थित थे।

खबरें और भी है…‘बात हे अभिमान के महिला मन के सम्मान के’ उद्देश्य के साथ मुख्यमंत्री न्याय रथ यात्रा शुरू

तीरथराम के हुनर को देख मुख्यमंत्री बोले,अरे वाह आप तो 60 साल के जवान हैं…

देश की अपनी तरह की पहली और अनूठी योजना गौमूत्र की खरीदी शुरू,सीएम बघेल बनें पहले विक्रेता

छग के प्रथम तिहार हरेली को लेकर मुख्यमंत्री निवास में जबरदस्त उत्साह

RELATED ARTICLES

Most Popular

error: Content is protected !!