HomeAdministrationमानवाधिकार आयोग की टीम ने बाल संप्रेक्षण गृह का लिया जायजा, अस्पताल...

मानवाधिकार आयोग की टीम ने बाल संप्रेक्षण गृह का लिया जायजा, अस्पताल में अलग से जेल वार्ड बनाने के दिए निर्देश

  • बुजुर्गों और बच्चों पर जिला प्रशासन के सरोकार कार्य को लेकर अधिकारियों से की पूछताछ
  • कार्यवाहक अध्यक्ष  गिरधारी लाल नायक एवं सदस्य नीलम चंद सांखला ने ली समीक्षा बैठक
  • जेल, बाल संप्रेक्षण गृह, जिला अस्पताल, आश्रम शाला, आंगनबाड़ी और कोतवाली थाने का किया निरीक्षण

दुर्ग . राज्य मानवाधिकार आयोग के कार्यवाहक अध्यक्ष गिरधारी नायक एवं सदस्य नीलम चंद सांखला शुक्रवार को दुर्ग प्रवास पर रहे। इस दौरान उन्होंने मानवाधिकार आयोग में दर्ज प्रकरणों के निराकरण की अद्यतन स्थिति की समीक्षा की और जेल, बाल संप्रेक्षण गृह जिला अस्पताल, आश्रमशाला, आंगनबाड़ी और कोतवाली थाने का जायजा लिया।

 

कलेक्टर पुष्पेंद्र कुमार मीणा से मानवाधिकार आयोग में दर्ज प्रकरणों के निराकरण की वस्तुस्थिति की जानकारी ली।  प्रकरणों की स्थिति पर अध्यक्ष ने संतोष व्यक्त किया। अध्यक्ष ने कोविड महामारी से मृत लोगों के परिजनों के मुआवजा प्रकरणों की जानकारी ली और शीघ्रता से मुआवजा के लिए शेष पात्र परिजनों को भुगतान करने कहा। उन्होंने कहा कि बुजुर्गों से जुड़ी जिम्मेदारी भी अहम है। जिन बुजुर्गों के परिजन उनका ध्यान नहीं रख रहे हैं। उन्हें मेंटेनेंस एंड वेलफेयर आफ पेरेंट्स एक्ट के अंतर्गत राहत प्रदान करने कहा।

सिद्धी विनायक अस्पताल का लाइसेंस निरस्त,4 डॉक्टर समेत 7 लोगों के खिलाफ एफआईआर

उन्होंने कार्यस्थलों पर भी महिलाओं की सुरक्षा का विशेष ध्यान रखने कहा। मजिस्ट्रीय इन्क्वारी में उन्होंने एनएचआरसी की गाइडलाइन का विशेष रूप से ध्यान रखने कहा। टीम ने कोतवाली थाने का निरीक्षण भी किया और पुराने प्रकरणों के विधिवत निराकरण के लिए कहा। इस दौरान एसपी डा. अभिषेक पल्लव, अपर कलेक्टर अरविंद एक्का भी मौजूद रहे। छत्तीसगढ़ मानव अधिकार आयोग की टीम से श्याम कुमार साहू उपसचिव (न्यायाधीश), मनीष मिश्र संयुक्त संचालक, कुटेश्वर चंद्रा लेखाधिकारी, निरीक्षक द्वय वीपी चौहान एवं माया शर्मा सहित अन्य स्टाफ भी मौजूद रहा।

 

चौहान टाउन में उपद्रव, 5 मोटर सायकल को किया आग के हवाले

अध्यक्ष ने जिला चिकित्सालय का निरीक्षण किया। उन्होंने यहां इलाज के लिए आने वाले बंदियों के लिए पृथक वार्ड बनाने सुझाव दिए। यहां उन्होंने मरीजों से स्वास्थ्य सुविधाओं के बारे में बातचीत की। उनसे भोजन और दवाइयों के बारे में बात की। हमर लैब भी देखा। यहां डाक्टरों ने बताया कि यहां 90 तरह के टेस्ट निःशुल्क होते हैं। इस पर उन्होंने प्रसन्नता व्यक्त की। उन्होंने जेल का निरीक्षण भी किया। यहां सुविधाओं की जानकारी ली। बंदियों से सुविधाओं के बारे में पूछा। यहां पर उपलब्ध स्वास्थ्य सुविधाओं की जानकारी भी ली।

5 विधानसभा क्षेत्रों में बढ़े मतदान केन्द्रों की संख्या,जिले में अब1464 मतदान केन्द्र

नशामुक्ति के लिए करें कार्य

बाल संप्रेक्षण गृह के दौरे में उन्होंने विधि विरुद्ध बच्चों से बातचीत की। बातचीत में यह बात सामने आई कि अधिकांश बच्चों ने गुस्से में या नशे में वारदात की। अध्यक्ष ने कहा कि बच्चों की मनोवैज्ञानिक काउंसिलिंग करें। इसके साथ ही बच्चों की ऊर्जा को सकारात्मक दिशा देने के लिए ट्रेनर्स को भी बुलाने कहा ताकि बच्चे शुभ कार्य की दिशा में प्रेरित हो सकें। उन्होंने बच्चों से कहा कि परिस्थिति, संगति और मन का घटना से बहुत संबंध रहता है। मन को शांत रखने इन्हें योग और ध्यान सिखायें।

बुजुर्ग दंपत्ति से धोखाधड़ी करने वाले आरोपी गिरफ्तार, 1.20 करोड़ का किया धोखाधड़ी

 

इन्हें पढ़ाई के साथ ही मोबाइल रिपेयरिंग जैसे छोटे-छोटे काम सिखाएं ताकि ये अपने पैरों पर खड़ें हो सकें और अनावश्यक भटकाव से बचें। जिला कार्यक्रम अधिकारी ने बताया कि यहां लगातार ऐसी सकारात्मक गतिविधियां की जा रही हैं।दल वृद्धाश्रम, आश्रम शाला और आंगनबाड़ी केंद्र भी पहुंचा। यहां उन्होंने सुविधाओं की जानकारी ली। वृद्धाश्रम में खाने के बारे में जानकारी ली और किचन देखा। वृद्धजनों से सुविधाओं की जानकारी ली। आंगनबाड़ी केंद्रों में पोषण की स्थिति और सुविधा देखी।

 

RELATED ARTICLES

Most Popular

error: Content is protected !!