Homeराज्यटापू बना शिवनाथ किनारे के गांव,एसडीआरएफ की टीम ने बाढ़ में फंसे...

टापू बना शिवनाथ किनारे के गांव,एसडीआरएफ की टीम ने बाढ़ में फंसे लोगों को किया रेस्क्यू

दुर्ग.लगातार हुई बारिश से शिवनाथ नदी खतरे के निशान से 12 फीट उपर तक बह रहा है। बाढ़ का पानी नदी किनारे के आसपास के गांवाें तक पहुंच गई है। पानी की वजह से झेंझरी, कोनारी टापू बन गया है। डांडेसरा, बेलौदी,बसनी समेत अन्य गांवों तक बाढ़ का पानी पहुंच गया है।

बाढ़ की स्थिति को ध्यान में रखते हुए जिला प्रशासन ने अलर्ट जारी किया है। लोगों को सुरक्षित स्थान पर रहने के निर्देश दिए गए हैं। वहीं बाढ़ में फंसे हुए लोगों को सुरक्षित बाहर निकालने के लिए एसडीआरएफ की टीम रेस्क्यू ऑपरेशन चला रही है। डांडेसरा और भरदा में फंसे लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जा चुका है।

Chhattisgarh
एसडीआरएफ की टीम पहुंचने के बाद छत से नीचे उतरती हुई रामबाई
Chhattisgarh
डांडेसरा के भुट्‌टा बाड़ी में फंसे पति-पत्नी को रेस्क्यू करते हुए एसडीआरएफ की टीम

गुरुवार को ग्राम डंडेसरा में शिवनाथ नदी के किनारे भुट्टा बाड़ी में फंसे पति और पत्नी को रेस्क्यू किया गया। रमेश कुमार उम्र 30 वर्ष और उनकी पत्नी रामबति उम्र 24 रातभर मकान के छत के उपर रहे। सुबह दुर्ग SDRF की टीम ने सकुशल रेस्क्यू कर सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया।

ईंट भट्‌टे में फंसे थे मजदूर

Chhattisgarh
ईंट भट्टे में फंसे लोगों को एसडीआरएफ की टीम ने सुरक्षित बाहर निकाला

कोनारी भरदा गांव के ईट भट्टे में तीन लोग फंसे हुए थे। उन्हें भी SDRF दुर्ग द्वारा सफलता पूर्वक रेस्क्यू कर सुरक्षित स्थान पर पंहुचा दिया है।

chhattisgarh

यह भी पढ़ें: मदर्स मार्केट में महिलाओं को मिलेगा रोजगार,लॉटरी के माध्यम से होगा दुकानों का आवंटन

मुख्यमंत्री ने प्रदेशवासियों को रक्षाबंधन पर्व की दी शुभकामनाएं

मोरहाबादी मैदान में मुख्यमंत्री बघेल का ढोल-नगाड़ों की बुलंद आवाज के साथ हुआ जोरदार स्वागत

Exclusive:महिला एवं बाल विकास विभाग की टीम ने दिखाई संवेदनशीलता, बिन माँ-बाप के बच्चाें के लिए महिला अधिकारी बनें सहारा

RELATED ARTICLES

Most Popular

error: Content is protected !!