Homeधर्म-समाजमानव तस्करी में प्लेसमेंट एजेंसियों की भूमिका सबसे अहम- अध्यक्ष

मानव तस्करी में प्लेसमेंट एजेंसियों की भूमिका सबसे अहम- अध्यक्ष

मानव तस्करी उन्मूलन के लिए प्रशिक्षण कार्यशाला में आयोग की अध्यक्ष ने दी जानकारी

दुर्ग. छत्तीसगढ़ राज्य महिला आयोग ने बुधवार को राष्ट्रीय महिला आयोग नई दिल्ली के निर्देशानुसार मानव तस्करी (human trafficking) रोकथाम,अन्य हितधारकों तथा पीड़ितों के पूनर्वास से संबंधित प्रशिक्षण समेत अन्य विषयों पर चर्चा की। छत्तीसगढ़ राज्य महिला आयोग, मानव तस्करी रोकथाम, अन्य हितधारकों तथा पीड़ितों के पूनर्वास विषय पर जिला दुर्ग में एक कार्यशाला आयोजित करने की जानकारी दी।

बुधवार को हुई प्रशिक्षण कार्यशाला में जिले के जिला संरक्षण अधिकारी, नवा बिहान के अधिकारी, मानव तस्करी रोकथाम पर कार्य करने वाले सामाजिक कार्यकर्ता (छग) और जिले के पुलिस विभाग के जिम्मेदार अधिकारी कार्यशाला में शामिल हुए। जहां आधुनिकीकरण, आर्थिक विकास, पलायन एवं अन्य नवीन परिदृश्य में मानव तस्करी विशेषकर महिलाओं के मानव तस्करी रोकथाम, अन्य हितधारकों तथा पीड़ितों के पूनर्वास विषय पर परिचर्चा की गई। एक राष्ट्रीय नीति तैयार करने पर विचार किया गया।

मौजूदा कानून तथा नए लागू हुए कानून के क्रियान्वयन एवं प्रभाव तथा आवश्यक संशोधन पर भी परिचर्चा की गई एवं कार्यशाला में छत्तीसगढ़ राज्य में मानव व्यापार विशेषकर महिलाओं के अनैतिक व्यापार की रोकथाम के लिए किए जा रहे प्रयासों से अवगत कराया। मानव व्यापार में सबसे अहम भूमिका प्लेसमेंट एजेंसियों की होती है, जो अच्छी नौकरी का प्रलोभन देकर मेट्रो सिटी में ले जाकर उनकी तस्करी करते हैं।

प्रत्येक जिले में मानव व्यापार की रोकथाम के लिए निर्मित सेल की जानकारी दी गई। साथ ही राज्य में विभिन्न शिविर के आयोजन के माध्यम से मानव तस्करी की रोकथाम, अन्य हितधारकों और पीड़ितों के पुनर्वास के लिए प्रचार-प्रसार एवं अन्य प्रयासों से अवगत कराया गया है।

खबरें और भी है: ग्राहकों से लाखों की धोखाधड़ी करने वाले संचालकों से पुलिस ने जब्त किया 500 एटीएम ,5 हजार पासबुक और लैपटाप

Good News:डीडी नेशनल पर जल्द आ रहे हैं कई रोमांचक कार्यक्रम

स्वामी आत्मानंद ईंग्लिश मीडियम उत्कृष्ट स्कूलों में बंपर भर्ती

RELATED ARTICLES

Most Popular

error: Content is protected !!