HomeAdministrationदीवारों पर स्पिटिंग करने वाले सुधर जाएं,नहीं तो कोटपा एक्ट के तहत...

दीवारों पर स्पिटिंग करने वाले सुधर जाएं,नहीं तो कोटपा एक्ट के तहत कार्रवाई तय

  • समीक्षा बैठक में कलेक्टर पुष्पेंद्र कुमार मीणा ने कार्रवाई के दिए निर्देश
  • पाटन में ब्लाक स्तर के अधिकारियों की ली बैठक
  • सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में गंदगी देख जताई नाराजगी

दुर्ग.कलेक्टर पुष्पेंद्र कुमार मीणा ने आज पाटन ब्लाक के दौरे पर रहे। इस दौरान उन्होंने विकासखंड मुख्यालय में ब्लाक स्तर के अधिकारियों की बैठक ली। जहां उन्होंने अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि गुटखा खाकर दीवारों को गंदा करने वालों(spitting) को पहलें समझाइश दें। इसके बाद भी नहीं सुधरे तो कोटपा एक्ट के तहत कार्रवाई करें।

दरअसल कलेक्टर ने पाटन स्थित अस्पताल का निरीक्षण किया। जहां जगह-जगह दीवारों पर गंदगी देख नाराज हुए, लेकिन उन्होंने वहां पर कुछ नहीं कहा, लेकिन टायलेट की गंदगी पर नाराजगी जाहिर की और सफाई पर विशेष मानिटरिंग करने कहा। बाद में जब समीक्षा बैठक ली तो वहां भी उन्होंने अधिकारियों को कार्रवाई के लिए निर्देशित किया।

साइन बोर्ड की प्रशंसा की

अस्पताल में निरीक्षण के दौरान एक प्रसूता महिला से भी मिले। उसने बताया कि कल ही भर्ती हुई थी और बहुत अच्छा उपचार यहां हुआ। पाटन के अस्पताल में सुविधाएं बहुत अच्छी हैं। डाक्टरों का व्यवहार बहुत अच्छा है। कलेक्टर ने विशेष रूप से अस्पताल में साइन बोर्ड की प्रशंसा की जिससे अस्पताल में सुविधाओं के बारे में लोगों को आसानी से जानकारी हो रही थी।

समीक्षा बैठक में पाटन के निर्माणाधीन स्पोर्ट्स कांप्लेक्स में राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय खेलों को आयोजित करने की क्षमता के दृष्टिकोण से इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार करने कहा। संचालन के लिए विधिवत प्लानिंग बनाने के निर्देश दिए। एसोसिएशन से संपर्क कर और इनसे विचार विमर्श कर स्तरीय कोच और मैनेजर्स के माध्यम से स्पोर्ट्स का कैलेंडर तैयार करने कहा। ताकि यहां बड़ी खेल स्पर्धाएं भी हो सके और इनका प्रशिक्षण भी हो सके। अफरा स्कूल को विशेष तरह से विकसित करने के लिए निर्देशित किया।

छत्तीसगढ़ हर्बल्स’ की महाराष्ट्र और गोवा में खुलेंगी रिटेल शॉप

जल जीवन मिशन के कार्यों का जायजा लेने पहुंचे डायरेक्टर ने पूछा,यदि पानी का सैंपल खराब आये तो क्या करोगे

कलेक्टर का कहना  था कि केवल स्पोर्ट्स का इंफ्रास्ट्रक्चर खड़े करने से इसे बढ़ाना आसान नहीं होगा। इंफ्रास्ट्रक्चर के साथ ही हमें स्पोर्ट्स के क्षेत्र में प्रशिक्षण के लिए कोच की नियुक्ति भी करनी होगी ताकि स्पोर्ट्स के क्षेत्र में प्रतिभाओं को उभरने का मौका मिल सके। स्टेडियम के संचालन के लिए इस दृष्टि से स्पोर्ट्स एसोसिएशन के पदाधिकारियों से बात करें। मानव संसाधन बेहतर करने के इस प्रोजेक्ट में कितनी लागत आएगी। इसका आंकलन कर लें।बैठक में जिला पंचायत सीईओ अश्विनी देवांगन, पाटन एसडीएम विपुल गुप्ता एवं अन्य अधिकारी मौजूद रहे।

कार्यों में लाएं तेजी, ताकि समय पर हो सके कम्पलीट
कलेक्टर ने कहा कि संस्कृतिकर्मियों के लिए आडिटोरियम, खेल प्रेमियों के लिए स्पोर्ट्स कांप्लेक्स और प्रकृतिप्रेमियों के लिए सरोवर सौंदर्यीकरण जरूरी है। अभी आडिटोरियम का काम आधा हो गया है। इसे जल्द पूरा कर लें। नकटा सरोवर और हनुमान सरोवर का काम भी तेजी से चल रहा है। इसे जल्द पूरा कर लें। कुछ महीनों में जब ये सारे प्रोजेक्ट पूरे हो जाएंगे तो पाटन की सुंदरता अलग स्तर में ही दिखेगी और सांस्कृतिक कर्म भी तेजी से बढ़ पाएगा।

यह भी पढ़ें:Exclusive:सरकार ने किसानों की आमदनी बढ़ाने के लिए रबी फसलों के प्रमाणित बीजों की कीमत को किया रिवाइज

किराए में रहने वालों के लिए अच्छा मौका, निगम ने आवेदन की तिथि बढ़ाई

 

RELATED ARTICLES

Most Popular

error: Content is protected !!