Homeकृषिवेब सीरीज पंचायत की टीम को पसंद आया देसी बाड़ी में जैविक...

वेब सीरीज पंचायत की टीम को पसंद आया देसी बाड़ी में जैविक तरीके से सब्जी उत्पादन

  • वेब सीरीज पंचायत की टीम ने देखा छत्तीसगढ़ पंचायतों के काम
  • ग्रामीण विकास की योजनाओं की सराहना
  • पाटन के स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम उत्कृष्ट स्कूल का लिया जायजा

दुर्ग.वेब सीरीज पंचायत की टीम आज पाटन ब्लाक के दौरे पर रही। यहां उन्होंने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में ग्रामीण विकास के लिए चलाई जा रही योजनाओं की जानकारी ली। शिक्षा, स्वास्थ्य ,ग्रामीण विकास की पहल का पूरा निरीक्षण करने के बाद टीम पंचायत ने कहा “छत्तीसगढ़िया सबले बढ़िया”।

पंचायत टीम के कलाकारों ने बताया कि पंचायत में काम करने के दौरान हमने जाना कि ग्रामीण लोग कितनी जटिलता भरा जीवन जीते हैं। स्वास्थ्य और शिक्षा के क्षेत्र में अधोसंरचना की स्थिति कई गांवों में अच्छी नहीं रहती। नवाचार शहरी क्षेत्र तक सीमित रहते हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में इसके लिए कोई योजना नहीं है पाटन में नवाचार देखे तो लगा कि संकल्प शक्ति हो तो गांव में भी बढ़िया काम किया जा सकता है।

टीम के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचे यहां उन्होंने हमर लैब देखा और तारीफ की। सदस्यों ने कहा कि ब्लॉक लेवल पर भी थायराइड जैसी टेस्ट की सुविधा निशुल्क है और इसकी गुणवत्ता भी जबरदस्त है। जाहिर है कि इससे पूरे क्षेत्र में स्वास्थ्य सुविधाओं का स्तर जाना जा सकता है।

टीम स्वामी आत्मानंद स्कूल भी पहुंची। यहां उन्होंने बच्चों से बातचीत की। टीम ने कहा कि यहां तो सरकारी स्कूल और पब्लिक स्कूल में फर्क करना मुश्किल है। बच्चे आत्मविश्वास से भरे हैं छत्तीसगढ़ में गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के लिए ग्रामीण स्तर पर भी इतना बड़ा काम हो रहा है यह बहुत अच्छा है।

पंचायत की टीम केसरा गौठान भी पहुंची। उन्होंने गौठान देखा। टीम के सदस्यों ने कहा कि अब तक तो गोबर गैस के रूप में उपयोग देखा था लेकिन गौठान के माध्यम से ग्रामीण विकास का इतना बड़ा काम हो सकता है। यह सोचना भी बड़ी बात है। पाटन के लोगों की गर्मजोशी से भी पंचायत की टीम बहुत खुश हुई। टीम के सदस्यों ने बताया कि छत्तीसगढ़ आने से पहले यहां के लोगों की गर्मजोशी और आत्मीयता के बारे में सुना था। आज यहां आकर जान भी लिया। यहां के लोगों का आत्मीयता से भरा संबोधन “जय जोहार” बहुत अच्छा लगा। यहां गौठान में उपस्थित लोगों ने बाड़ी के बारे में बताया। समूह की महिलाओं ने बताया कि देसी बाड़ी में जैविक तरीके से उत्पादन हो रहा है इसलिए इसकी अच्छी मांग है।

गौठान ने महिलाओं को बड़ी ताकत दी है। इस दौरान जिला पंचायत सीईओ अश्वनी देवांगन भी मौजूद रहे। उन्होंने छत्तीसगढ़ शासन की फ्लैगशिप योजना नरवा,गरवा घुरवा और बाड़ी की विस्तार से जानकारी दी। टीम पंचायत में फैजल मलिक, पूजा सिंह, सुनीता रजवार, दुर्गेश कुमार, अशोक पाठक, सतीश राय ,दीपक मिश्रा,विजय कोशी ,योगेश सैनी और जितेंद्र कुमार मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं….

शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती 98 साल की उम्र में देवलोक गमन,हिंदुओं का माना जाता था सबसे बड़ा धर्मगुरु

विशेषज्ञों ने बच्चों में छिपी हुई प्रतिभा को निखारने के लिए पालकों को बताई उच्चारण कला की थैरेपी

करमा नृत्य छत्तीसगढ़ की लोकप्रिय आदिवासी नृत्य

RELATED ARTICLES

Most Popular

error: Content is protected !!