Homeदेशदुनिया में अनाज की कमी, किसान इस बात को ध्यान में रखकर...

दुनिया में अनाज की कमी, किसान इस बात को ध्यान में रखकर करें गेंहू की खेती- मुख्यमंत्री बघेल

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बोड़ला विकासखंड के ग्राम झलमला में की भेंट-मुलाकात
किसानों से किया आग्रह पैरा जलाए नहीं, गोठानों में दान करें 
किसानों से गन्ना की खेती करने कहा 

 

कबीरधाम.मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज कवर्धा विधानसभा के सहसपुर लोहारा में भेंट-मुलाकात अभियान के तहत चौपाल लगाई। जहां मुख्यमंत्री ने छत्तीसगढ़ महतारी की पूजा अर्चना लोगों से चर्चा शुरू की। इस दौरान स्वास्थ्य मंत्री टी एस सिंहदेव और वनमंत्री मोहम्मद अकबर भी मौजूद रहे।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि दुनिया में अनाज की कमी हो रही है, किसान इसका ध्यान रखें। मुख्यमंत्री ने कहा गेहूं बोएं और लाभ कमाए। यूरोप और यूक्रेन में गेंहू का संकट है। इसे ध्यान में रखते हुए इसकी खेती करें।

मुख्यमंत्री ने कहा कि गन्ना की खेती भी करें, गन्ना उत्पादन की चिंता दूर कर रहे हैं। जनवरी तक एथेनाल प्लांट लग जायेगा। लोगों को रोजगार के देने के उद्देश्य से हमने कोदो कुटकी का समर्थन मूल्य घोषित किया, उत्पादन का वैल्यू एडिशन कर रहे हैं।

हमारी कोशिश है कि गाँव के बच्चों को अंग्रेजी में पढ़ने का अवसर मिले। लोगों की आय में वृद्धि हो, देश में हम गोबर बेचकर आय में वृद्धि कर रहे हैं। गोबर से अब पेंट भी बन रहे हैं। रूरल इंडस्ट्रियल पार्क के तहत रोजगार दे रहे हैं। सी-मार्ट बनाया गया है, 28 जिला में बन गया है। बाकी जिलों में भी जल्द बनाएंगे। स्व-रोजगार की दिशा में हम लगातार बढ़ रहे हैं। स्वावलंबन की ओर बढ़ रहे हैं।

ये सरकार की नहीं, आम जनता की योजना है

ये सरकार की योजना नहीं, आम जनता की योजना है। मुख्यमंत्री ने इस दौरान किसानों को पैरा दान की अपील की और कहा कि पैरा जलाए नहीं, इसे जलाना नहीं है। गोठान में पैरा दान करना है। मुख्यमंत्री ने कहा कि जलवायु परिवर्तन में सबका योगदान हो, मौसम में परिवर्तन हो रहा है। कार्बन उत्सर्जन को रोकना है। जिस तरह रामसेतु के निर्माण में गिलहरी का योगदान था। उसी तरह हमारा भी योगदान हो। जैविक खेती अपनाकर खुद को स्वस्थ रखें और वातावरण संतुलन बनाए रखने में भी सहयोग करें।

 

सुपोषण योजना से फ्री में हुआ बच्चे का इलाज

मुख्यमंत्री से सुपोषण योजना के बारे में जानकारी लेते हुए तारामती पटेल ने बताया कि उनके बच्चे का आंगनबाड़ी में वजन के दौरान पता चला कि वजन कम हो गया है। तभी इस योजना के बारे में पता चला और लाभ लेना शुरू किया। पहले 6 किलो वजन था अब 12 किलो हो गया। हार्ट का भी प्राब्लम था उसका भी इलाज फ्री में हुआ है।

दीपावली से पहले राजीव गांधी न्याय किसान न्याय योजना की तीसरी किश्त

उन्होंने राजीव गांधी किसान न्याय योजना के बारे में चर्चा करते हुए कहा कि दीवाली से पहले आगामी 17 तारीख को योजना की अगली किश्त खातों में आ जायेगी। कवर्धा जिला में बिजली बिल माफ नही होने की शिकायत मिलने पर मुख्यमंत्री ने कहा कि जिला अधिकारी से बात करूँगा।

72 हजार का ऋण माफ हुआ

किसान हेमन्त ने कहा की एक लाख 72 हजार रुपये का ऋण माफ हुआ है। किसान विजय ने कहा कि ढाई लाख का धान बेचा है, लाभ के पैसों से खेत में 3 एचपी का ट्यूबवेल पम्प लगाया है। अभी गन्ना की फसल ली है। किसान विजय ने ग्राम चारभांठा में पुलिया  की समस्या बताई। नांदबाई, बिरनपुर ने बताया कि मेरा राशनकार्ड बन गया है लेकिन बेटे का नहीं बन पकाया है, वह कमाने खाने बाहर गए हैं, इस पर मुख्यमंत्री ने राशनकार्ड बनाने के निर्देश दिए।

 

बिरनपुर की राम बाई ने बताया कि राशन कार्ड बन गया है।बच्चों का राशन कार्ड बनाना है। उनके बच्चे कमाने बाहर गए है। उसके बच्चे का राशन कार्ड बनाने के निर्देश दिए।नांद बाई बिरनपुर मेरा राशनकार्ड बन गया है। बेटा का नहीं बन पाया है। कमाने खाने बाहर गए हैं। राशनकार्ड बनाने के निर्देश। मुख्यमंत्री ने कहा की जिनकी शादी हो गई है। उनका अगल राशन कार्ड बनाया जा रहा है। इसके लिए आवेदन दे। सभी का राशन कार्ड बनाया जाएगा।

Chhattisgarh
कबीरधाम में भेंट मुलाकात कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री से चर्चा करती हुई छात्रा

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को स्वामी आत्मानंद स्कूल की कक्षा दसवीं की छात्रा मृणाल पांडेय ने अंग्रेजी में अपना परिचय दिया और स्वामी आत्मानंद स्कूल के बारे में जानकारी दी।डॉली अरोरा ने भी अंग्रेजी में बात करते हुए स्कूल में मिलने वाली सुविधाओं के बारे में मुख्यमंत्री को बताया।

यह भी पढ़ें: सु्प्रीम कोर्ट ने गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करने की मांग करने वाले याचिकाकर्ता को लगाई फटकार

दरोगा की दंबगई: बिजली गुल होने पर नाराज चौकी प्रभारी ने जूनियर इंजीनियर काे जड़ा थप्पड़

प्रावीण्य सूची में स्थान प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों का सम्मान,दी गई डेढ़-डेढ़ लाख रुपए

 

RELATED ARTICLES

Most Popular

error: Content is protected !!