Homeलाइफ स्टाइलथायरायड का ज्यादा या कम होना,स्वास्थ्य के लिए नुकसानदायक

थायरायड का ज्यादा या कम होना,स्वास्थ्य के लिए नुकसानदायक

थायरायड ग्रंथि द्वारा बनाए गए हार्मोन आपके ऊर्जा स्तर और आपके अधिकांश अंगों के कामकाज को प्रभावित करते हैं। इसका जरूरत से ज्यादा या कम होना आपके लिए मुसीबत खड़ी कर सकता है।यदि प्रभावी ढंग से इलाज न किया जाए तो यह आपके हृदय, मांसपेशियों, वीर्य की गुणवत्ता और अन्य स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा सकता है।

छोटी, तितली के आकार की थायरायड ग्रंथि (Thyroid Gland) गर्दन में स्थित होती है। आपकी थायरायड ग्रंथि आपके शरीर की आवश्यकता से अधिक थायराइड हार्मोन का उत्पादन करती है। इसे अति सक्रिय थायराइड के रूप में भी जाना जाता है।

हालांकि महिलाओं में पुरुषों की तुलना में अतिसक्रिय थायरायड विकसित होने की संभावना 2 से 10 गुना तक अधिक होती है। पुरुषों में बढ़े थायरायड को नियंत्रण में रखने के लिए दवाओं की आवश्यकता होती है। पुरुष और महिलाओं में हाइपरथायरायडिज्म के कई लक्षण समान होते हैं लेकिन कुछ लक्षण ऐसे भी हैं जो केवल पुरूषों में ही नजर आते हैं।

एनसीबीआई के अनुसार, ग्रेव्स रोग ( Graves’ Disease) हाइपरथायरायडिज्महोने की मुख्य वजह होती है। यह स्थिति पुरुषों में ज्यादा देखने के लिए मिलती है। ग्रेव्स डिजीज होने का मतलब है कि आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली गलती से एक स्वस्थ थायरॉयड ग्रंथि पर हमला कर देती है, जिससे यह बहुत अधिक थायराइड हार्मोन का उत्पादन करने लगती है। यह बीमारी आमतौर पर 30 से 50 की उम्र के बीच विकसित होती है। इसेक अलावा दवाओं या आहार से बहुत अधिक आयोडीन का सेवन, थायरॉइडाइटिस के वजह से थायरॉइड बढ़ने लगता है।

इस बीमारी की वजह से शरीर में हार्मोनल असंतुलन होने लगता है। और कभी-कभी पुरुषों में हार्मोन असंतुलन के वजह से फीमेल हार्मोन बढ़ने लगते हैं। जब पुरुषों में थायरॉइड हर्मोन ज्यादा बनने लगता है, इससे उनकी सेक्स लाइफ प्रभावित होने लगती है। थायरॉइड बढ़ने से इरेक्टाइल डिसफंक्शन के साथ-साथ स्पर्म काउंट कम होने की समस्या हो सकती है।

 

हारपरथायराइडिज्म में ऑस्टियोपोरोसिस का खतरा भी बढ़ सकता है। वैसे तो हड्डी पतली होने वाली बीमारी ज्यादातर महिलाओं को होती है, लेकिन थायरॉइड बढ़ने पर कुछ मामलों में इससे पुरुष भी पीड़ित हो सकते हैं।इस स्थिति में पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन में कमी (पुरुषों में सेक्स हार्मोन) हो सकती है। जिसे कई समस्याएं पैदा होती है। टेस्टोस्टेरोन हार्मोन की कमी के कारण पुरुषों को मांसपेशियों में ताकत महसूस नहीं होती है।

टीप- यह एक सकारात्मक लेख है। ज्यादा जानकारी के लिए अपने चिकित्सक की सलाह लें।

RELATED ARTICLES

Most Popular

error: Content is protected !!