Homeराज्यगौ माता के लिए पानी और छांव की व्यवस्था गौठान से हमने...

गौ माता के लिए पानी और छांव की व्यवस्था गौठान से हमने बनाई,अब चारे के लिए पैरादान आपकी जिम्मेदारी- सीएम

 मुख्यमंत्री ने किसानों से गौ माता के चारा के लिए पैरादान करने की अपील 

पैरादान करने वाले दो किसानों का शॉल भेंटकर किया सम्मान

डोंगरगढ़.मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने मंगलवार को भेंट – मुलाकात कार्यक्रम के तहत डोंगरगढ़ विधानसभा क्षेत्र के ग्राम बेलगांव में चौपाल लगाकर लोगों से रूबरू हुए। मुख्यमंत्री ने लोगों की मांग के अनुसार ग्राम बेलगांव में निस्तारी तालाब का सौन्दर्यीकरण और नाली निर्माण, देवकट्टा जलाशय की नहरों का सीसी लाइनिंग का कार्य, कुकरापाट जलाशय का निर्माण, मुढ़ीपार में पुलिस चौकी, टोला गांव में सहकारी बैंक की शाखा और हाई स्कूल गाड़ाघाट एवं घोटिया के हाई स्कूल का हायर सेकेण्डरी में उन्नयन, हायर सेकेण्डरी स्कूल टोला गांव जो हाई स्कूल भवन में संचालित है, उसके लिए दो अतिरिक्त कक्ष निर्माण और ठेलकाडीह के हायर सेकेण्डरी स्कूल में दो अतिरिक्त कमरे बनाए जाने की घोषणा की।

पांच साल पहले किया हुआ वादा निभाया

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि 5 वर्ष पहले 14 नवम्बर के दिन पद यात्रा कर डोंगरगढ़ विधानसभा के ग्राम बेलगांव पहुंचे थे, तब उन्होंने वादा किया था कि वे फिर से जरूर आएंगे। उसी वादा के तहत 15 नवम्बर को आप सबके बीच हूं। मैंने अपना अपना वादा निभाया है। वहीं मुख्यमंत्री ने पैरा दान करने वाले दो कृषक जगदेव राम वर्मा (ग्राम कोलिहापुरी) और भूपेंद्र कुमार लिल्हारे (ग्राम सिपा) का शॉल भेंट कर सम्मानित किया।

 

मुख्यमंत्री ने आम जनता से पैरादान करने की अपील करते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ शासन ने गौठान निर्मित कर गौ माता और पशुधन के लिए पानी और छांव की व्यवस्था सुरक्षित की है अब पैरा दान के माध्यम से एक कदम बढ़ाने की जिम्मेदारी आपकी है। उन्होंने कहा जैसे भागवत में भक्त अपनी स्वेच्छा और यथाशक्ति से भगवान को दान करता है, लक्ष्मी रूपी बेटी का कन्यादान एक पिता करता है वैसे ही किसानों की संपत्ति उसकी कृषि उपज है इसलिए धान के कटोरा कहे जाने वाले छत्तीसगढ़ के हर किसान अवश्य पैरादान करें।

उन्होंने दिल्ली पंजाब और हरियाणा का उदाहरण देते हुए कहा उन क्षेत्रों में पराली के जलाने के कारण काफी प्रदूषण हुआ है। पैरादान कर हम ऐसे प्रदूषण से बच सकते हैं और पशुओं को चारा भी उपलब्ध होगा। मुख्यमंत्री ने बताया कि इसके लिए हमने गौठान समिति भी बना कर रखी है। जैसे पेड़ हमें फल देता है ठीक उसी प्रकार पशुधन भी दूध और उसके अन्य उत्पाद के माध्यम से हमें लाभ पहुंचाते हैं इसलिए पशुधन को पैरा रूपी चारा हर किसान दान करें।

Chhattisgarh
पैरादान करने वाले किसानों का शॉल भेंट कर सम्मानित करते हुए मुख्यमंत्री बघेल

मुख्यमंत्री को भेंट-मुलाकात कार्यक्रम के दौरान सहसपुर की मां पिंगलेश्वरी स्व-सहायता समूह की महिला सदस्य ने बताया कि उन्होंने अब तक 678 क्विंटल वर्मी कम्पोस्ट बनाया है। अभी तक वर्मी उन्होंने 4 लाख 77 हज़ार रुपये का बेचा है। भण्डारपुर के दुर्जन लाल खरे ने बताया की उनके पास डेढ़ एकड़ खेत है। उसका 20 हजार रूपये का कृषि ऋण माफ हुआ।

राजीव गांधी किसान न्याय योजना का लाभ का भी मिल रहा है। दीपावली के पहले नौ हजार रूपये का किस्त मिला। इससे वे और उनका परिवार त्यौहार बहुत अच्छे से मना पाए। बेलगांव के चंद्रकुमार निर्मलकर ने बताया कि उसका एकड़ जमीन है। राजीव गांधी किसान न्याय योजना का लाभ मिल रहा है, 5500 रूपये का तीसरा किस्त भी मिला। मुख्यमंत्री के पूछने पर तब चंद्रकुमार ने बताया कि मिली राशि से परिवार के लिए कपड़े खरीदे। मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी योजनाओं का लाभ ले, परिवार की जरूरतों पर भी ध्यान दें।

Chhattisgarh
बेलगाँव निवासी छन्नूराम भारती और उनका परिवार, जिनके घर पर मुख्यमंत्री समेत अन्य अतिथियों ने दोपहर का भोजन किया

बेलगाँव की श्रीमती बेवंतीन निर्मलकर ने बताया कि उन्हें शुगर की समस्या से ग्रस्त थीं। ऐसे में हर बुधवार को लगने वाले साप्ताहिक हाट-बाजार क्लिनिक में अपना इलाज शुरू कराया। सभी तरह की जाँच और दवाएँ निःशुल्क मिलती हैं, वे अब पूरी तरह स्वस्थ हैं। डोंगरगढ़ निवासी विकास चौधरी ने बताया कि माता के एंजियोप्लास्टी के इलाज के लिए मुख्यमंत्री विशेष स्वास्थ्य सहायता योजना के माध्यम से 1 लाख 98 हज़ार 600 रुपये की आर्थिक सहायता मिली। अब विकास की माता पूरी तरह स्वस्थ हैं। विकास चौधरी ने मुख्यमंत्री को धन्यवाद दिया।

RELATED ARTICLES

Most Popular

error: Content is protected !!