Homeकृषि"केरा बस्तर" क्या है, शायद आपको भी पता नहीं होगा इसका जवाब

“केरा बस्तर” क्या है, शायद आपको भी पता नहीं होगा इसका जवाब

डॉ. चंदेल ने किया लघु धान्य परियोजना अंतर्गत नव निर्मित बीज विक्रय केन्द्र सह भण्डारण गृह का लोकार्पण

रायपुर.  जगदलपुर प्रवास के दौरान इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय (IGKV)के कुलपति डॉ. गिरीश चंदेल शहीद गुंडाधुर कृषि महाविद्यालय एवं अनुसंधान केन्द्र में छत्तीसगढ़ शासन की महत्वपूर्ण परियोजना ‘‘चिराग’’ द्वारा आयोजित दो दिवसीय राज्य स्तरीय कार्यशाला के समापन समारोह में बतौर मुख्य अतिथि शामिल हुए।कृषि महाविद्यालय के परिसर में स्थित कृषि विज्ञान केन्द्र जगदलपुर के लघु धान्य परियोजना अंतर्गत नव निर्मित बीज विक्रय केन्द्र सह भण्डारण गृह का लोकार्पण किया।

कुलपति ने राज्य स्तरीय कार्यशाला में चिराग परियोजना की टेकनिकल सजेसन एजेंसी (टीएसए) टीम और राज्य स्तरीय संचालन समिति तथा मैदानी अधिकारियों को परियोजना के सफल संचालन के लिए मार्गदर्शन दिया। विवि के अंतर्गत संचालित कृषि महाविद्यालय एवं अनुसंधान केन्द्र, उद्यानिकी महाविद्यालय एवं अनुसंधान केन्द्र तथा कृषि विज्ञान केंद्र का जायजा भी लिया। महाविद्यालय के स्मार्ट क्लास का अवलोकन भी किया। प्रथम वर्ष के छात्र-छात्राओं के ओरिएंटेशन कार्यक्रम में शामिल हुए। शैक्षणिक गतिविधियों के सम्बन्ध में शिक्षकों को आवश्यक निर्देश दिये।

advt

यह भी पढ़ें:छत्तीसगढ़ में फोन टेपिंग को लेकर एक बार फिर सियासत गर्म

हत्या के आरोप में भाजपा से निलंबित युवा नेता गिरफ्तार, फॉर्चूनर जब्त
भ्रमण के दौरान कुलपति डॉ. चंदेल ने महाविद्यालय स्थित मृदा परीक्षण लैब, कम्प्यूटर लैब एवं समस्त विभागों में संचालित लैब तथा महाविद्यालय के पुस्ताकालय का निरीक्षण कर समस्त संबंधित अधिकारियों को आवश्यक दिश निर्देश दिये। इसके पश्चात कुलपति डॉ. चंदेल ने अखिल भारतीय शुष्क खेती परियोजना, ताड़ अनुसंधान परियोजना, कन्दीय फसल अनुसंधान परियोजना एवं तिखुर प्रसंस्करण इकाई का अवलोकन कर वहां संचालित कार्यों की सराहना की। डॉ. चंदेल ने महाविद्यालय परिसर स्थित नर्सरी में ‘केरा बस्तर’ प्रजाति के नारियल के पौधे का रोपण किया व प्रक्षेत्र रोपणी के सफल संचालन हेतु मार्गदर्शन दिया।

उन्होंने भ्रमण के दौरान महाविद्यालय स्थित लघु धान्य प्रसंस्करण इकाई, टिश्यू कल्चर लैब एवं मशरूम उत्पादन इकाई का अवलोकन किया एवं इन इकाईयों को सुदृढ़ करने हेतु दिशा निर्देश दिये। भ्रमण के दौरान संचालक अनुसंधान सेवायें डॉ. विवेक त्रिपाठी, अधिष्ठाता कृषि महाविद्यालय जगदलपुर डॉ. आर.एस. नेताम, अधिष्ठाता उद्यानिकी महाविद्यालय जगदलपुर डॉ. ए.के. ठाकुर, कृषि विज्ञान केन्द्र जगदलपुर के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. एस.के. नाग सहित महाविद्यालय एवं कृषि विज्ञान केन्द्र के प्राध्यापक, वैज्ञनिक एवं कर्मचारी उपस्थित थे।

यह भी पढ़ें: कुटुम्ब न्यायालय और स्वास्थ्य विभाग के रिक्त पदों पर बंपर भर्ती

केरा बस्तर नारियल का किस्म

केरा बस्तर नारियल का किस्म है। जिसे छत्तीसगढ़, तमिलनाडु, आंध्रप्रदेश और महाराष्ट्र के लिए 2010 में जारी की गई थी।

RELATED ARTICLES

Most Popular

error: Content is protected !!